‘दुर्बला’ नहीं निर्मला : विश्व की 100 शक्तिशाली महिलाओं में एलिज़ाबेथ द्वितीय और इवांका को पछाड़ा

Written by

* फोर्ब्स की सूची में सीतारमन 34वें स्थान पर

* रोशनी मल्होत्रा और किरण मज़ूमदार भी शामिल

* एंजेला मर्केल रहीं पहले स्थान पर

* 100वें स्थान के साथ ग्रेटा की भी एंट्री

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद 13 दिसंबर, 2019 (युवाPRESS)। भारतीय अर्थ व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति को लेकर चौतरफा आलोचनाओं से घिरीं वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन को पिछले दिनों संसद में लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल (CPP) के नेता अधीर रंजन चौधरी ने निर्बला कह कर संबोधित किया था, परंतु फोर्ब्स की वर्ष 2019 की 100 शक्तिशाली महिलाओं की सूची ने अधीर के विश्लेषण और विशेषण दोनों को असत्य सिद्ध किया है। अमेरिकी सामयिक FORBES की The World’s 100 Most Powerful Women 2019 में निर्मला सीतारमन ने अच्छी-अच्छी और दिग्गज महिलाओं को पीछे छोड़ते हुए 34वाँ स्थान हासिल किया है।

नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में दूसरी बार बनी सरकार में वित्त मंत्री का उत्तरदायित्व निभा रहीं निर्मला सीतारमन भले ही अर्थ व्यवस्था को लेकर चहुँओर उत्पन्न नकारात्मक वातावरण को लेकर विरोधियों की आलोचनाओं से घिरी हों, परंतु फोर्ब्स की सूची में स्थान हासिल कर उन्होंने सिद्ध कर दिखाया है कि वे एक शक्तिशाली, दृढ़ मनोबल की धनी और सक्षम महिला हैं। फोर्ब्स की सूची में निर्मला सीतारमन ने ब्रिटेन की रानी एलिज़ाबेथ द्वितीय और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की पुत्री इवांका ट्रम्प को भी पीछे छोड़ दिया है। इस सूची में निर्मला जहाँ 34वें स्थान पर हैं, वहीं एलिज़ाबेथ द्वितीय 40वें और इवांका 42वें स्थान पर हैं। निर्मला ने यदि 34वाँ स्थान हासिल किया है, तो भारतीय दृष्टिकोण से सबसे बड़ी उपलब्धि की और सकारात्मक बात यह है कि निर्मला ने एलिज़ाबेथ द्वितीय या इवांका ही नहीं, अपितु 66 दिग्गज महिलाओं को मात दी है।

तीन भारतीय महिलाओं का दबदबा

फोर्ब्स की 100 शक्तिशाली महिलाओं की सूची में केवल निर्मला ही नहीं, अपितु उनके सहित तीन भारतीय महिलाओं ने स्थान प्राप्त किया है। निर्मला जहाँ 34वें स्थान पर रही हैं, वहीं हिन्दुस्तान कम्प्यूटर्स लिमिटेड (HCL) टेक्नोलॉजीस लिमिटेड की कार्यपालक निदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (Executive Director & CEO) रोशनी नदार मल्होत्रा विश्व की 54वीं शक्तिशाली महिला के रूप में उभरी हैं। रोशनी एचसीएल टेक्नोलॉजीस लिमिटेड के संस्थापक अध्यक्ष शिव नदार की पुत्री हैं। इसी प्रकार भारत की करोड़पति महिला उद्यमी और बायोकॉन लिमिटेड (BIOCON LIMITED) की अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक (Chairperson & Managing Director) किरण मज़ूमदास शॉ विश्व की 65वीं शक्तिशाली महिला के रूप में इस सूची में शामिल की गई हैं। इसके अतिरिक्त एक और नाम जो भारतीय दृष्टिकोण से गौरवशाली लगता है, वह है रेणुका जगतियाणी का। रेणुका भारतीय नहीं हैं, परंतु उनके पति मुकेश वाढुमाल ‘मिकी’ जगतियाणी भारतीय मूल के हैं। मिकी भारतीय अमीराती अरबपति बिज़नेसमैन हैं और संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में दुबई स्थित रीटेल स्टोर्स ग्रुप लैण्डमार्क के स्वामी हैं। रेणुका लैण्डमार्क ग्रुप की अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (Chairwoman & CEO) हैं। फोर्ब्स की सूची में रेणुका 96वें स्थान पर रही हैं।

मर्केल द मिरेकल, ग्रेटा द ग्रेट

फोर्ब्स की 100 शक्तिशाली महिलाओं की सूची 2019 में पहला और अंतिम स्थान प्राप्त करने वालीं दोनों उम्मीदवार अपने आप में आकर्षण का केन्द्र हैं। जहाँ जर्मनी की वाइस चांसलर 65 वर्षीय एंजेला मर्केल ने पहला स्थान प्राप्त कर अपने आपको करिश्माई नेता सिद्ध किया है, वहीं पर्यावरण संरक्षण अभियान के कारण पूरे विश्व में चर्चा के केन्द्र में रहीं स्वीडन की मात्र 17 वर्षीय किशोरी ग्रेटा थनबर्ग ने इस सूची में 100वें स्थान के साथ धमाकेदार एंट्री करके आने वाले समय में एक महान दिग्गज महिला बनने के संकेत दे दिए हैं। एंजेला मर्केल तो अनुभवों और कुशलताओं के बल पर पहले स्थान पर रहीं, परंतु ग्रेटा ने इतनी अल्पायु में पर्यावरण संरक्षण को लेकर क्रांतिकारी विचारों से दुनिया को झकझोर कर फोर्ब्स की सूची में स्थान प्राप्त किया है। इस लिहाज़ से देखा जाए, तो ग्रेटा ने 100वें स्थान पर रह कर भी पहले स्थान पर रहीं मर्केल से भी बड़ी उपलब्धि हासिल की है।

Article Categories:
Indian Business · News

Comments are closed.

Shares