दूधिया रोशनी पड़ते ही इन जगहों की खूबसूरती को चार चांद लग जाते हैं

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 7 सितंबर, 2019 (युवाPRESS)। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) भले ही चांद को छूने से दो कदम दूर रह गया, परंतु धरती पर ऐसी भी कई जगहें हैं, जिन पर चांद की दूधिया रोशनी पड़ते ही इन जगहों की खूबसूरती को चार चांद लग जाते हैं। ये जगहें सैलानियों को भी खूब लुभाती हैं। आइए जानते हैं ऐसी ही कुछ जगहों के बारे में…

कच्छ का सफेद रण

गुजरात के पाकिस्तान की सीमा से सटे कच्छ में दूर-दूर तक नमक के मैदान नज़र आते हैं। रात के समय जब इन मैदानों पर चांद की दूधिया रोशनी पड़ती है, तो यहाँ का नज़ारा देखते ही बनता है। नवंबर महीने में यहाँ कच्छ महोत्सव भी आयोजित होता है, जिसमें एसी और नॉन एसी शिविर लगाए जाते हैं। देश-विदेश से लोग शरद पूर्णिमा की दूधिया चांदनी में ओतप्रोत हो जाने वाले कच्छ के सफेद रण को देखने के लिये कच्छ की सैर करने आते हैं। इस कच्छ महोत्सव के दौरान कच्छ के लोगों की ओर से बनाए गये हस्तकला-कारीगरी के बेजोड़ कलात्मक वस्तुएँ, यहाँ के व्यंजन और लोक गीत-संगीत भी लोगों को खूब लुभाते हैं।

छत्तीसगढ़ के बालोद में होता है गोरैया मेले का आयोजन

छत्तीसगढ़ के बालोद जिले में प्राचीन काल से गोरैया मेले का आयोजन होता है। यहाँ तांदुला नदी के किनारे माघ पूर्णिमा की रात दूधिया प्रकाश में हजारों की संख्या में लोग एकत्र होते हैं और नदी में स्नान करके शिवलिंग पर जलाभिषेक करते हैं। बालोद जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर स्थित अंचल का सुप्रसिद्ध धार्मिक स्थल गोरैया अब तीर्थस्थल बन चुका है। तांदुला नदी और सहायक पैरी व चौरेल नदियों के बीच स्थित प्राचीन मंदिर की मूर्तियाँ लोगों की आस्था का केन्द्र हैं। माना जाता है कि यहाँ माघ पूर्णिमा की चांदनी रात में नदी में स्नान करके शिवलिंग का जलाभिषेक करने से मनोकामनाएँ पूर्ण होती हैं।

आगरा का ताजमहल

आगरा में स्थित ताजमहल हर महीने में 5 दिन रात को 12.30 बजे भी पर्यटकों के लिये खुलता है। यह पूर्णिमा से दो दिन पहले खुलता है और पूर्णिमा के दो दिन बाद तक खुला रहता है। इसकी वजह भी यही है कि चांद की दूधिया रोशनी में ताजमहल का दीदार पर्यटकों के लिये यादगार बन जाता है। पूर्णिमा की रात तो ताजमहल दूध की तरह चमकता है। यही कारण है कि इसे रात को पर्यटकों के लिये खोला जाता है।

अमृतसर का स्वर्ण मंदिर

पंजाब के अमृतसर में स्थित स्वर्ण मंदिर वैसे तो एक धार्मिक स्थल है, परंतु रात के समय गुरुद्वारे के पानी में जब चांद की रोशनी पड़ती है, तो यहाँ की ग़जब की खूबसूरती युवाओं का ध्यान खींचती है। यह दृश्य देखने के लिये दूर-दूर से लोग यहाँ रात के समय एकत्र होते हैं।

गोवा का समुद्र तट खिल उठता है

गोवा सैलानियों का फेवरिट पिकनिक स्पॉट है। यहाँ रात को चांद की रोशनी में समुद्र के किनारे घूमने का अपना ही अलग आनंद है। इसलिये जब भी गोवा जाएं तो सैलानियों को चाहिए कि ऐसे होटल में बुकिंग कराएं, जहाँ से समुद्री किनारा नजदीक हो और होटल से यदि वहाँ का नज़ारा हो सके तो बेहतर है और दूधिया चांदनी में समुद्र तट पर घूमने का मौका तो चूकने जैसा ही नहीं है।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares