Jammu Kashmir में सेना पर पत्थरबाजी आम, विदेशों के नियम जानकर चौंक जाएंगे आप !

Written by
Jammu Kashmir

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले Jammu Kashmir के शोपियां जिले में सेना की गोलीबारी में 2 लोगों की मौत हो गई थी। जिसके बाद इस मुद्दे पर कश्मीर विधानसभा में काफी हंगामा हुआ था। जिसके बाद शोपियां मामले में एक मेजर समेत कई सैनिकों पर मुकदमा दर्ज किया गया था।

क्या था Jammu Kashmir के शोपियां का मामला

घटना की बात करें तो सेना का एक काफिला रसद का सामान लेकर जा रहा था। तभी शोपियां जिले में सेना के इस ट्रक पर करीब 200-250 लोगों ने पत्थरबाजी शुरु कर दी। हालात यहां तक बिगड़े कि लोग बेहद हिंसक हो गए और सेना के जवानों को मारने पर आमादा हो गए। इसी बीच पत्थरबाजी में कुछ जवान घायल भी हुए। इसके बाद जवाबी कारवाई में सेना के जवानों ने गुस्सायी भीड़ पर गोलियां चला दी, जिसमें 2 लोगों की मौत हो गई और कुछ लोग घायल हो गए। इसी मामले में सेना के जवानों पर मुकदमा दर्ज किया गया है।

रक्षा मंत्रालय और भाजपा नेता जहां सेना के जवानों का पक्ष ले रहे हैं, वहीं Jammu Kashmir की PDP सरकार और विपक्षी पार्टियां सेना के जवानों पर कड़ी कारवाई की मांग कर रही हैं।

ट्वीट वायरल

इसी बीच इस मुद्दे को लेकर BSF के IG (रिटायर्ड) भोला नाथ का एक ट्वीट काफी वायरल हो रहा है। अपने इस ट्वीट में आईजी भोला नाथ ने सवाल उठाते हुए कहा है कि “मेरे देश में अगर आप जूता, स्याही या अंडा किसी नेता पर फेंकते हैं तो आपको तुरंत गिरफ्तार कर लिया जाएगा। लेकिन अगर आप सुरक्षाबलों, या सेना के जवानों पर पत्थर फेंकते हैं तो यहां सेना के जवानों को ही गिरफ्तार कर लिया जाता है ? क्या हमने सेना के जवानों पर पत्थरबाजी की किसी घटना को विदेश में होते देखा है ?”

विदेशों के नियम जानकर चौंक जाएंगे आप

अब जब Jammu Kashmir की घटना पर बवाल हो रहा है तो हमने सोचा कि क्यों ना दूसरे देशों में पत्थरबाजों के खिलाफ नियमों की जानकारी ली जाए, ताकि हमें भी स्थिति का पता चल सके। लेकिन चौंकाने वाली बात है कि जहां Jammu Kashmir में सेना के जवानों पर ही मुकदमा चलाया जा रहा है, वहीं विदेशों में पत्थरबाजों के खिलाफ काफी सख्त नियम है, इनमें आजीवन कारावास से लेकर सजाए मौत तक की सजा शामिल है।

Jammu Kashmir

इजरायल- अगर इजरायल में कोई शख्स सेना के जवानों पर पत्थरबाजी करता है तो उसे तुरंत गोली मारने तक के आदेश हैं। बात यहीं पर खत्म नहीं होती, बल्कि पत्थरबाज के घर को भी कंक्रीट से भर दिया जाता है, ताकि भविष्य में कोई भी ऐसा करने के बारे में सोच भी ना सके। इतना ही नहीं अगर पत्थरबाज पर अगर मुकदमा चलता है तो उसे 20 साल तक की सजा सुनायी जाती है।

रूस – रुस में भी पत्थरबाज को सजाए मौत या फिर आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान है।

अमेरिका – अमेरिका में भी पत्थरबाज को आजीवन कारावास की सजा का नियम है। यहां तक कि यदि कोई व्यक्ति ऐसे ग्रुप में शामिल है, जो पत्थरबाजी कर रहा है, चाहे उस व्यक्ति ने खुद पत्थरबाजी ना की हो, तो भी सरकार उसे सजा सुना सकती है।

Jammu Kashmir

चीन – चीन में पत्थरबाजों को पकड़कर 4X4X4 के कमरे में बंद कर दिया जाता है।

न्यूजीलैंड – न्यूजीलैंड में पत्थरबाजों को 14 साल तक की सजा का नियम है।

ऑस्ट्रेलिया – ऑस्ट्रेलिया में पत्थरबाजों को 5 साल तक जेल में रखा जा सकता है।

ब्रिटेन – ब्रिटेन में पत्थरबाजों को 3.5 साल तक जेल हो सकती है।

टर्की – टर्की में भी पत्थरबाजों के खिलाफ सख्त नियम हैं। खास बात ये है कि टर्की में 15 साल और उससे भी कम के बच्चों को भी पत्थरबाजी में शामिल होने पर दंडित किया जाता है।

भारत – भारत की बात करें तो यहां पत्थरबाजों के खिलाफ कोई सख्त कानून नहीं है। धारा 370 के कारण हमारी सरकार के हाथ बंधे हैं। यही वजह है कि कश्मीर में भीड़ आए दिन सेना के जवानों पर पत्थरबाजी करती रहती है। अब या तो सेना के जवान इस पत्थरबाजी को सहते रहे और अगर वो कारवाई करते हैं तो उनके खिलाफ कश्मीर की सरकार मुकदमे दर्ज कर देती है !

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares