जज लोया मामले को लेकर Congress ने बुलाई विपक्ष की बैठक

Judge loya case

नई दिल्ली : कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेता और Rajya Sabha MP गुलाम नबी आजाद शुक्रवार को विपक्षी पार्टियों के मुख्य नेताओं के साथ Judge loya case को लेकर Parliament House में बैठक करेंगे। यह बैठक सुबह 11 बजे शुरू होगी, जिसमें विपक्षी सभी दलों के ग्रुप के नेता शामिल होंगे।

सूत्रों के अनुसार यह बैठक राजनीति परिदृश्य के मौजूदा समय को देखते हुए बुलाई जा रही है। अदालत ने Judge loya case में SIT investigation की याचिका को पहले ही खारिज कर दिया है। Supreme court का फैसला आने के बाद Congress ने कहा कि इस मामले में कई अनसुलझे सवाल अभी भी हैं। Congress इस बैठक में विपक्ष की सभी पार्टियों के साथ Supreme court के फैसले पर चर्चा करेगी।

Supreme court ने Judge loya case पर सुनावाई करते हुए बताया कि मामले का कोई भी आधार नहीं है, इसलिए इसमें जांच नहीं की जा सकती। तीन जजों की पीठ ने फैसला पर सुनवाई करते हुए कहा कि चार जजों के बयान पर संदेह करने का कोई कारण नहीं बचता। उन पर संदेह करने का मतलब संस्थान पर संदेह करने जैसा है। Supreme court ने कहा कि इस मामले को लेकर कुछ लोग न्यायपालिका (Judiciary) को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं।

अदालत ने सुनवाई करते हुए याचिकाकर्ताओं को फटकार लगाई और कहा कि जिन वकीलों ने यह याचिका डाली है। वे इसके जरिए न्यायपालिका को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। यह अदालत की आपराधिक अवमानना की तरह लग रहा है। Supreme court ने कहा कि ऐसा लग हो रहा है कि यह याचिका न्यायपालिका पर सवाल उठाने और राजनीतिक फायदे के लिए दी गई है।

कांग्रेस ने फैसले पर कहा कि जज लोया की मृतु हो जाने के बाद उनके दो और साथियों की भी मृतु हुई थी और इस मामले में कई तरह के आरोप दिखाई दे रहे हैं। कांग्रेस ने इसकी निष्पक्ष जांच कराने की मांग कर रही है और इसके साथ ही Congress ने कुछ प्रश्न भी उठाए हैं। Congress के प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि Judge loya case का फैसला निष्पक्ष विश्लेषण पूर्ण तार्किक आधार पर होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जब तक इसका कोई तर्कपूर्ण फैसला नहीं आ जाता तब तक यह इस प्रकार के प्रश्न खड़े होते रहेंगे।

बाता दें कि इससे पहले Congress पार्टी हाल ही में विपक्ष को एकजुट करके मुख्यन्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाना चाह रही थी और खबरों के अनुसार Congress नेता और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने लगभग 60 सांसदों का समर्थन भी प्राप्त कर लिया था। लेकिन प्रस्ताव शुरू होते ही यह मुद्दा दब गया। Congress के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि अब महाभियोग का मुद्दा बंद हो चुका है। कांग्रेस इस प्रकार का कोई कार्य नहीं कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *