प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी – 15 मिनट बिना कागज राहुल बोल दें यही उनकी बड़ी बात होगी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

युवाप्रेस समाचार – दरअसल कुछ दिल पहले ही राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी जी को चुनौती दिया था और कहा था कि मैं 15 मिनट संसद में बोलूंगा तो मोदी जी खड़े नहीं हो पायेंगे। इसी का जवाब देते हुए कल प्रधानमंत्री मोदी जी ने कहा कि कर्नाटक चुनाव प्रचार में राहुल केवल 15 मिनट बिना कागज से बोल दे तो यह उनके लिए बड़ी बात होगी। बता दें कि मोदी जी ने बीजेपी के प्रचार करने के लिए कर्नाटक में यह बात रैली के दौरान कहीं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने चुनाव प्रचार के दौरान चौतरफा हमला किया और सिद्धारमैया सरकार की उपलब्धियों के बारें में लोगों को बताया। इसके साथ ही मोदी जी ने कहा कि ‘‘ मैं कांग्रेस अध्यक्ष को चुनौती देता हूं कि वह हिन्दी, अंग्रेजी या अपनी माताजी की मातृभाषा में पार्टी की सरकार की उपलब्धियों के बारे में कागज को पढ़े बिना, 15 मिनट तक बोलें…. कर्नाटक के लोग अपना निष्कर्ष खुद निकाल लेंगे.’’

इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी जी ने कहा, ‘‘उनका 15 मिनट बोलना ही बहुत बड़ी बात होगी। जब मैंने यह सुना कि मैं 15 मिनट भी नहीं खड़ा पाऊंगा तो मुझे लगा , वहां … क्या नजारा होगा ? कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमान, हम आपके समक्ष नहीं बैठ सकते। आप नामदार हैं जबकि हम कामदार है। आपके सामने बैठने की हमारी हैसियत नहीं है।’’

राहुल गांधी को आड़े हाथ लेते हुए प्रधानमंत्री मोदी जी ने उन्हें विश्वेश्वरैया का नाम पांच बार बोल कर दिखाने की चुनौती दी। विश्वेश्वरैया प्रतिष्ठित इंजीनियर विद्वान थे और एक चुनावी रैली में राहुल गांधी उनके नाम का उच्चारण करने में लड़खड़ा गए। इस भाषण का वीडियो वायरल हो गया है।

प्रधानमंत्री मोदी जी ने दावा किया कि कर्नाटक में कांग्रेस सरकार के समय राजनीतिक हिंसा में दो दर्जन से अधिक बीजेपी कायर्कर्ता मारे गए। उन्होंने कांग्रेस सरकार पर ‘हत्या में सुगमता’ की संस्कृति शुरू करने को लेकर तीखा वार किया। मोदी जी ने आगे कहा, ‘‘उनका क्या अपराध है ? ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि वह आपके विचारों का विरोध कर रहे थे, उन्होंने कर्नाटक के लोगों के लिए आवाज उठाई।’’ मोदी जी ने उडुपी की चुनावी रैली में कहा , ‘‘हम कारोबार की सुगमता को बढ़ावा देना चाहते हैं, कांग्रेस ने हत्या की सुगमता की संस्कृति शुरू की है।’’

पीएम मोदी ने रैली में भाग लेने आए लोगों से पूछा कि क्या कांग्रेस कर्नाटक और देश से खत्म होनी चाहिए या नहीं। क्या राजनीतिक हिंसा की मानसिकता का अंत होना चाहिए कि नहीं। रैली के अधिकतर लोगों ने इसके जवाब में ‘‘ हां .. हां ’’ के नारे लगाए।

महात्मा गांधी द्वारा देश की स्वतंत्रता के बाद कांग्रेस को भंग करने पर जोर दिए जाने की ओर ध्यान दिलाते हुए पीएण मोदी ने कहा कि पिछले चार साल से यह पार्टी एक के बाद एक हार का सामना कर रही है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक चुनाव में पार्टी की हार के साथ महात्मा गांधी का ‘आखिरी स्वप्न’ साकार होने लगेगा।

कांग्रेस की वंशवादी राजनीति पर हमला बोलते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के दो सीटों और उनके बेटे के एक सीट से चुनाव लड़ने को लेकर भी हमला बोला। उन्होंने सांतेमरनाहल्ली की चुनावी रैली को संबोधित करते हुए इसे कांग्रेस की परिवार राजनीति का कन्नड़ संस्करण करार दिया। उन्होंने कहा, ‘‘मैं कुछ दिन पहले अखबार पढ़ रहा था और मैंने पाया की कर्नाटक में दो जमा एक का फार्मूला चल रहा है। यह कुछ और नहीं बल्कि कांग्रेस की पारिवारिक राजनीति का कन्नड़ संस्करण है।’’

उडुपी में प्रधानमंत्री मोदी जी ने कांग्रेस सरकार पर केंद्र की विभिन्न आधारभूत परियोजनाओं में रोड़े अटकाने के आरोप लगाये। ‘‘अटकाना, लटकाना और भटकाना उनके स्वभाव में है’’ उनहोंने सरकार की तरफ से जारी किए गए उस अध्यादेश का भी जिक्र किया जिसके अनुसार 12 साल से कम उम्र की बच्ची से रेप करने वाले को मृत्युदण्ड सहित कठोर सजा का प्रावधान किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *