खादी मास्क की विदेशी बाजारों में दस्तक :Local to Global

Written by

व्यापक रूप से लोकप्रिय खादी फेस मास्क “global” होने के लिए तैयार है। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा सभी प्रकार के गैर-चिकित्सा/ गैर-सर्जिकल मास्क के निर्यात पर प्रतिबंध हटा लिए जाने के बाद, Khadi and Village Industries Commission (KVIC) अब विदेशों में खादी कॉटन और रेशम फेस मास्क के निर्यात की संभावनाओं का पता लगा रहा है। Directorate General of Foreign Trade (DGFT) की ओर से इस संदर्भ में 16 मई को अधिसूचना जारी कर दी गई है।

यह कदम, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के “आत्मनिर्भर भारत अभियान” को ध्यान में रखते हुए “Local to Global” आह्वान के कुछ दिनों बाद उठाया गया है। Covid19 वैश्विक महामारी के दौरान Face masks की अत्यधिक मांग को ध्यान में रखते हुए, KVIC ने क्रमशः दो स्तरीय और तीन स्तरीय कॉटन के साथ-साथ सिल्क Face masks को विकसित किया हैजो पुरुषों के लिए दो रंगों में और महिलाओं के लिए कई रंगों में उपलब्ध है।

अब तक KVIC को 8 लाख Face masks की आपूर्ति के ऑर्डर प्राप्त हो चुके हैं और Lockdown अवधि के दौरान 6 लाख से ज्यादा फेस मास्क की आपूर्ति की जा चुकी है। KVIC को Rashtrapati Bhavan, Prime Minister’s Office, Central Government ministries, J&K government से ऑर्डर प्राप्त हुए हैं और आम नागरिकों द्वारा ईमेल के माध्यम से ऑर्डर मिले हैं। फेस मास्क की बिक्री करने के अलावा, पूरे देश में खादी संस्थानों द्वारा जिला प्राधिकरणों को 7.5 लाख से ज्यादा खादी के Face masks मुफ्त में बांटे गए हैं।

KVIC की योजना Dubai, USA, Mauritius और बहुत सी European और Middle East countries में खादी फेस मास्क की आपूर्ति करने की है, जहां पर पिछले कुछ वर्षों में खादी की लोकप्रियता काफी बढ़ी है। KVIC की योजना इन देशों में भारतीय दूतावासों के माध्यम से खादी फेस मास्क बिक्री करने की है।

KVIC के चेयरमैन, Vinai Kumar Saxena ने कहा कि खादी फेस मास्क का निर्यात“Local to Global” होने का सबसे बढ़िया उदाहरण है। Vinai Kumar Saxena ने कहा, “प्रधानमंत्री की अपील के बाद हाल के वर्षों में खादी के कपड़े और अन्य उत्पादों की लोकप्रियता पूरी दुनिया में काफी बढ़ी है। खादी फेस मास्क के निर्यात से उत्पादन में गतिशीलता आएगी और अंतत भारत में कारीगरों के लिए बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर उत्पन्न होंगे। सक्सेना ने यह भी कहा कि, “फेस मास्क कोरोना महामारी से निपटने के लिए सबसे महत्वपूर्ण उपकरणों में से एक है। खादी फैब्रिक से तैयार ये डबल ट्विस्टेड मास्क न केवल गुणवत्ता और मांग के पैमाने पर खरे उतरते हैं बल्कि वे लागत प्रभावीसांस लेने में उपयुक्तधोने योग्यपुन: उपयोग करने योग्य और बायो-डिग्रेडेबल हैं।

इन मास्क के निर्माण में केवीआईसी द्वारा विशेष रूप से डबल ट्विस्टेड खादी कपड़े का उपयोग किया जा रहा है क्योंकि यह नमी की मात्रा को अंदर तक बनाए रखने में मददगार साबित होता है और हवा को अंदर जाने देने के लिए एक आसान मार्ग प्रदान करता है। इन मास्क को जो बात विशेष रूप से खास बनाती है वह हाथ से बुने हुए कॉटन और सिल्क के कपड़े हैं। कॉटन एक Mechanical barrier के रूप में जबकि रेशम एक Electrostatic barrier के रूप में काम करता है।

Article Tags:
· · ·
Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares