VIDEO : आपको सड़क पर दम नहीं तोड़ने देगी गुजरात सरकार की यह ‘सोना सरीखी’ स्कीम, ट्रीटमेंट भी मिलेगी फ्री

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 9 जुलाई 2019 (YUVAPRESS)। किसी भी सड़क दुर्घटना के समय घायलों के लिये जान बचाने के लिहाज से प्रथम एक घण्टा अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। इस एक घण्टे के अंदर यदि घायल व्यक्ति को समय पर उपचार की सुविधा मिल जाए तो उसकी जान बचाई जा सकती है। इसी लिये गुजरात सरकार ने इस एक घण्टे के महत्व को समझते हुए घायल व्यक्तियों के लिये ‘GOLDEN HOUR SCHEME’ शुरू की है, जिसके तहत दुर्घटना के बाद घायल व्यक्ति या व्यक्तियों को तुरंत नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा और उस अस्पताल को घायलों का तुरंत इलाज शुरू करना पड़ेगा। इसमें कोई भी निजी अस्पताल भी इनकार नहीं कर सकेगा।

क्या है गुजरात सरकार की ‘GOLDEN HOUR SCHEME’

सड़क दुर्घटना अथवा आग जैसी किसी भी दुर्घटना में घायल हुए लोगों को तुरंत नजदीकी अस्पताल में ले जाने पर उस अस्पताल के डॉक्टरों को बिना कोई लापरवाही बरते घायलों का तुरंत इलाज शुरू करना होगा। वह अस्पताल सरकारी हो या निजी, परंतु अस्पताल घायलों का इलाज करने से इनकार नहीं कर सकता और न ही इसके लिये अस्पताल या डॉक्टर घायल व्यक्ति या उसके परिजनों से किसी भी प्रकार का कोई चार्ज वसूल कर सकता है। किसी तरह की कागजी कार्यवाही के बहाने भी समय व्यर्थ नहीं गँवा सकते हैं।

घायलों का उपचार करने के लिये प्रथम 48 घण्टे का 50,000 रुपये तक का खर्च राज्य सरकार उठाएगी और यह खर्च अस्पताल को देगी। इसके लिये अस्पताल या डॉक्टर को घायल व्यक्ति के उपचार का वीडियो व अन्य जानकारी सरकार को उपलब्ध करानी होगी। यदि कोई अस्पताल या डॉक्टर उनके अस्पताल में वीडियो शूट करने की सुविधा नहीं होने का बहाना बनाती है, तो घायल व्यक्ति के परिजनों को चाहिये कि वह अपने मोबाइल फोन से वीडियो शूट करके उसकी एक कॉपी डॉक्टर को उपलब्ध कराएँ।

यदि कोई अस्पताल या डॉक्टर घायल व्यक्ति का उपचार करने से इनकार करता है तो घायल व्यक्ति या उसके परिजन तुरंत 100 नंबर डायल करके पुलिस को इसकी सूचना दे सकते हैं। पुलिस का काम नियमों का पालन करवाना है, इसलिये पुलिस ऐसे मामले में उनकी मदद करेगी और अस्पताल व डॉक्टर को उपचार करने के लिये बाध्य करेगी।

राज्य सरकार ने वीडियो जारी किया

राज्य के मुख्य मंत्री विजय रूपाणी के कार्यालय (CMO) की ओर से ऑफिसियल ट्वीटर हैंडल पर इस योजना का वीडियो जारी किया गया है। इस वीडियो के माध्यम से सरकार ने राज्य की जनता को इस योजना के बारे में संदेश देने का प्रयास किया है कि वह सरकार की इस योजना का पूरा लाभ उठाएँ।

नागरिकों के लिये आशीर्वाद रूप हैं सरकार की यह योजनाएँ

उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार की ओर से बड़ी दुर्घटनाओं के दौरान मृतकों के परिजनों को आर्थिक मदद दी जाती है और घायलों का मुफ्त इलाज भी कराया जाता है। इसके अलावा सरकार स्कूल हेल्थ प्रोग्राम के तहत स्कूली बच्चों के स्वास्थ्य की जाँच करवाती है और गंभीर बीमारी के शिकार बच्चों का भी अपने खर्च से निदान करवाती है। इसके अतिरिक्त राज्य सरकार मां वात्सल्य योजना के माध्यम से सभी नागरिकों को 2-2 लाख रुपये तक इलाज उपलब्ध कराती है और अब राज्य सरकार ने विविध प्रकार की दुर्घटनाओं में घायल होने वाले लोगों के लिये भी गोल्डन आवर योजना के रूप में मुफ्त में प्राथमिक उपचार की सुविधा उपलब्ध कराई है। सरकार का यह कदम प्रशंसनीय और नागरिकों के लिये आशीर्वाद रूप है।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares