जानिए कैसे कुछ कंपनियों ने बदल दी अपने कर्मचारियों की किस्मत ? कर दिया मालामाल !

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 11 दिसंबर, 2019 (युवाPRESS)। अमेरिका की एक रियल एस्टेट कंपनी आज कल देश और दुनिया में चर्चा के केन्द्र में है। क्योंकि इस कंपनी ने अपने 198 कर्मचारियों की किस्मत बदल दी। कंपनी में वर्षों से काम कर रहे और अपनी मेहनत व लगन से कंपनी को शीर्ष पर पहुँचाने में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिये इस कंपनी ने अपने सभी कर्मचारियों को कम से कम 35 लाख का बोनस दिया। जब कंपनी ने कर्मचारियों के हाथ में चेक थमाए तो कई कर्मचारी तो विश्वास ही नहीं कर पाये और इस घटना को एक सपने की तरह ले रहे थे, जबकि कुछ कर्मचारियों की आँखों में खुशी के आँसू छलक आये। हालाँकि ऐसा नहीं है कि इस एक कंपनी ने ही अपने कर्मचारियों के प्रति दरियादिली दिखाई है। भारत समेत दुनिया में कई अन्य कंपनियों ने भी अपने कर्मचारियों को इसी तरह मालामाल किया है।

सेंट जॉन प्रॉपर्टीज़ ने दिया 71 करोड़ का बोनस

न्यूयॉर्क पोस्ट में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के बाल्टीमोर में स्थित सेंट जॉन प्रॉपर्टीज़ नामक रियल एस्टेट कंपनी ने एक हॉलिडे पार्टी के अवसर पर जब कंपनी के 198 कर्मचारियों को उनके कार्यकाल के हिसाब से बोनस के चेक दिये तो प्रत्येक कर्मचारी के हाथ में कम से कम 50 हजार डॉलर यानी कि लगभग 35 लाख रुपये आये। कुछ कर्मचारियों को चेक देखकर ऐसा लग रहा था जैसे वे कोई स्वप्न देख रहे हों, वे भरोसा ही नहीं कर पा रहे थे कि कंपनी उन पर ऐसे कैसे इतनी मेहरबान हो सकती है ? जबकि कुछ कर्मचारियों की आँखों में खुशी के आँसू छलक आये और बाद में सभी ने गले मिल कर एक-दूसरे को मालामाल हो जाने की बधाई दी।

कंपनी का कहना है कि वह अपने स्टाफ को मासिक वेतन और वार्षिक बोनस के बाद यह अतिरिक्त धनराशि देने में इसलिये सफल हो पाई, क्योंकि स्टाफ की कड़ी मेहनत और लगन से कंपनी ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और स्टाफ की मेहनत ने ही कंपनी को सफलता के शीर्ष पर पहुँचाया। यह स्टाफ के परिश्रम का ही नतीजा है कि अमेरिका के 8 राज्यों में कंपनी के ऑफिस, रिटेल स्टोर और गोदाम के लिये 2 करोड़ स्क्वायर फीट के मकान तैयार हुए। कंपनी की ओर से जारी एक वीडियो में कंपनी के अकाउण्ट्स स्पेशलिस्ट डेनियल वेलेन्जिया ने कहा कि कंपनी ने अपने कर्मचारियों की किस्मत और जिंदगी बदल दी। डेनियल इस कंपनी में लगभग 19 साल से काम कर रहे हैं। कंपनी के फाउण्डर और चेयरमैन एडवर्ड सेंट जॉन ने कहा कि कंपनी ने जो प्रोग्रेस की, उसे वे सेलिब्रेट करना चाहते थे और जिस स्टाफ की बदौलत कंपनी ने सफलता प्राप्त की, उनके साथ सेलिब्रेट नहीं करता तो और किसके साथ करता। उन्हें अपने स्टाफ के लिये कुछ सार्थक करने का अवसर मिला तो उन्होंने अपने स्टाफ को इस प्रकार से खुशी देने का प्रयास किया है।

तेल कंपनी हिलकॉर्प ने दिया था 67 लाख का बोनस

इससे पहले अमेरिका के टेक्सास में स्थित निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी तेल कंपनी हिलकॉर्प भी ऐसा कमाल कर चुकी है। इस तेल कंपनी ने उपरोक्त रियल एस्टेट कंपनी से लगभग दुगुना यानी कि एक लाख डॉलर अर्थात् लगभग 67 लाख रुपये का बोनस दिया था। कंपनी ने यह बोनस अपने 1,381 कर्मचारियों को दिया था। कंपनी के मुखिया जैफ्री हिल्डरब्रैंड की इस घोषणा के समय इस कंपनी के कर्मचारियों को भी भारी आश्चर्य हुआ था। कंपनी को पाँच वर्ष में दुगुना लक्ष्य हासिल करने में मिली सफलता के अवसर पर कंपनी ने कर्मचारियों को यह बोनस देने की घोषणा की थी।

इससे पहले 2010 में भी इस कंपनी ने कर्मचारियों को लगभग 50 हजार डॉलर की कार या 35 हजार डॉलर की नकद धनराशि बोनस के रूप में दी थी। हिलकॉर्प कंपनी के सीईओ हिल्डरब्रैंड पेशे से जियोलॉजिस्ट हैं और उनकी संपत्ति 5 अरब डॉलर से भी अधिक है। उनकी कंपनी को तीन साल तक लगातार 100 बेहतरीन कंपनियों की फॉर्च्यून लिस्ट में रखा जा चुका है।

चीनी कंपनी भी दे चुकी है 62 से 65 लाख का बोनस

चीन के जियाशी प्रांत में नान्चांग शहर में स्थित एक स्टील कंपनी ने भी अलग अंदाज़ में अपने लगभग 5,000 कर्मचारियों को 62 से 65 लाख रुपये का बोनस दिया। इस कंपनी ने 44 मिलियन डॉलर की नकद धनराशि का एक पहाड़ बनाया और कर्मचारियों के लिये उस ढेर में से जितने संभव हो सकें उतने पैसे लूटने के लिये एक समय निर्धारित किया। इस निर्धारित समय में किसी कर्मचारी ने कम तो किसी ने ज्यादा पैसे बटोरे। फिर भी प्रत्येक कर्मचारी के हिस्से में 62 से 65 लाख रुपये आये थे।

भारत के हीरा कारोबारी हर साल देते हैं महंगे तोहफे

भारत में गुजरात प्रांत के डायमंड सिटी के नाम से मशहूर सूरत शहर के हीरा कारोबारी सावजीभाई ढोलकिया हमेशा चर्चा के केन्द्र में रहते हैं। हरि कृष्णा एक्सपोर्ट्स के चेयरमैन सावजीभाई ढोलकिया ने 2011 से लॉयल्टी प्रोग्राम शुरू किया है, जिसमें 3 कर्मचारियों को कार देकर सम्मानित करने की शुरुआत की थी। इसके बाद 2012 में 72 कर्मचारियों को कारें दी थी। 2013 में उन्होंने 1,260 कर्मचारियों को कारें गिफ्ट की थी। 56 कर्मचारियों में ज्वैलरी भी बाँटी थी। इसके बाद 2014 और 2015 में भी कंपनी ने 51 करोड़ रुपये बोनस के तौर पर बाँटे थे। वर्ष 2016 में उन्होंने 1,260 कर्मचारियों को कारें और 400 कर्मचारियों को फ्लैट दिये थे। वे हर साल अपने लगभग 1,500 कर्मचारियों को 51 करोड़ का बोनस देते हैं। 2018 में दीवाली के मौके पर अपने 1,500 कर्मचारियों को बोनस के तौर पर महंगे गिफ्ट दिये। उन्होंने 600 कर्मचारियों को कारें और 900 कर्मचारियों के फिक्स्ड डिपोजिट दी। उनकी कंपनी में 25 साल पूरे करने वाले तीन कर्मचारियों को दीवाली से एक महीना पहले ही उन्होंने महंगी मर्सिडीज़ बैंज कार दी थी। इन कारों की कीमत 1 करोड़ रुपये है। उनसे प्रेरित होकर एक और हीरा कारोबारी लक्ष्मीदास वेकरिया ने अपने 125 कर्मचारियों में तोहफे के रूप में स्कूटी बाँटी थी।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares