जानिए विदेशी यात्रियों ने क्यों कहा THANK YOU INDIA ?

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 22 अक्टूबर, 2019 (युवाPRESS)। एक ओर लखनऊ में हिंदू नेता कमलेश तिवारी की हत्या और उत्तर प्रदेश में बढ़ते क्राइम रेट को लेकर यूपी पुलिस को कड़ी आलोचनाओं का शिकार बनना पड़ रहा है, वहीं दूसरी ओर यूपी की राजकीय रेलवे पुलिस (GRP) को देश से ही नहीं, अपितु विदेशियों से भी वाहवाही मिल रही है। दरअसल सोमवार रात को जीआरपी ने एक अमेरिकी यात्री को खोज निकाला और जब उसे उसका खोया हुआ मोबाइल लौटाया तो इस विदेशी यात्री ने जीआरपी की जम कर तारीफ की और ‘THANK YOU GRP, THANK YOU INDIA’ कह कर जीआरपी और भारत को धन्यवाद कहा।

अमेरिकी यात्री वाराणसी से दार्जिलिंग जा रहा था

अमेरिकी सैलानी जोसेफ मेल्टनर दो दिन पहले ही इंडिया टूर पर आया है। जब वह पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से 4 मील की दूरी पर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय रेलवे स्टेशन (पहले इस स्टेशन का नाम मुगल सराय था) पर सोमवार रात अपनी ट्रेन की राह देख रहा था। तब प्लेटफॉर्म नंबर 3 पर उसने अपना मोबाइल चार्ज करने के लिये लगाया था। इसके बाद ट्रेन लेट होने के कारण वह टहलते हुए रेलवे स्टेशन से बाहर चला गया और मोबाइल प्लेटफॉर्म पर ही भूल गया। जब जीआरपी के जवानों ने चार्जिंग में लगा मोबाइल देखा तो आसपास उस मोबाइल के मालिक की तलाश की, परंतु जब उस मोबाइल का कोई मालिक उन्हें नहीं मिला तो वे मोबाइल को लेकर रेलवे पुलिस स्टेशन चले आए और इंस्पेक्टर आर. के. सिंह को सौंपते हुए बताया कि इस मोबाइल का मालिक कौन है, यह पता करने पर भी उन्हें वहाँ कोई नहीं मिला। इसके बाद आर. के. सिंह के निर्देश पर जीआरपी के आधा दर्जन जवानों की एक टीम बनाई गई और उस मोबाइल के मालिक की तलाश शुरू की गई। आधे घण्टे की मशक्कत के बाद जीआरपी जवानों ने आखिर कार रेलवे स्टेशन परिसर में ही विदेशी यात्री जोसेफ को ढूँढ निकाला, जब पुलिस ने उसे उसका मोबाइल दिखाया तो वो हैरान रह गया। उसने पुलिस को बताया कि वह मोबाइल चार्जिंग में लगाने के बाद भूल गया और चूँकि ट्रेन लेट थी, इसलिये टहलते हुए स्टेशन से बाहर चला आया था। मोबाइल वापस मिलने पर जोसेफ ने ‘THANK YOU GRP और THANK YOU INDIA’ कह कर पुलिस और इंडिया का आभार जताया।

इंग्लैंड के यात्री को मिला खोया हुआ बैग

इसी प्रकार सितंबर 2017 में भी वाराणसी में आरपीएफ की तत्परता से एक विदेशी नागरिक को उसका खोया हुआ बैग वापस मिल गया था। नई दिल्ली से आने वाली शिवगंगा एक्सप्रेस में वाराणसी के मंडुआडीह स्टेशन पर एक विदेशी यात्री यात्रा की आपाधापी में अपना बैग स्टेशन पर ही भूल गया। इसी दौरान स्टेशन पर घूम रहे आरपीएफ के जवानों की नज़र बैग पर पड़ी, जब उन्होंने उसे खोल कर देखा तो उसमें 20 हजार की इंडियन करेंसी, 20 हजार यूरो, 10 हजार अमेरिकन डॉलर के अलावा पासपोर्ट, मोबाइल फोन, टैबलेट व कुछ अन्य सामान मिला। पासपोर्ट के आधार पर बैग के मालिक का नाम इंग्लैंड निवासी जेराल्ड बोडेन पता चला। इसके बाद आरपीएफ के जवानों ने जेरोल्ड की खोजबीन शुरू की तो स्टेशन परिसर के बाहर जेराल्ड बोडेन एक ऑटो में बैठ कर जाने की तैयारी कर रहा था, तभी आरपीएफ के जवानों ने उसे रोक लिया और उसे लेकर पुलिस स्टेशन आये, जहाँ उससे उसके सामान के बारे में पूछताछ की और बैग दिखाया तो उसने बैग को तुरंत पहचान लिया। इसके बाद जेराल्ड ने भी पुलिसकर्मियों को धन्यवाद कहा था।

फलौदी में भी विदेशी यात्री को लौटाया गया था खोया हुआ बैग

ऐसी ही एक घटना राजस्थान के फलोदी में पिछले महीने सितंबर में घटित हुई थी, जब स्पेन का सैलानी एलेजेण्ड्रो जिमेनो मोरेनो भारत में घूमने के लिये आया था और रानीखेत एक्सप्रेस में अजमेर से जैसलमेर जा रहा था। इसी दौरान रामदेवरा के पास उसका कीमती सामान से भरा बैग गायब हो गया था। यह बैग एक सैनिक को मिला था, जिसने बैग जीआरपी को सौंप दिया था। इस बैग में विदेशी नागरिक का लैपटॉप, डिजिटल कैमरा, विदेशी मुद्रा और एटीएम सहित उसका कीमती सामान था। इसलिये जोधपुर की एसपी ममता राहुल विश्नोई ने रविन्द्र बोथरा के नेतृत्व में एक टीम गठित करके बैग के मालिक की तलाश शुरू की थी। दूसरी तरफ एलेजेण्ड्रो ने अपने खोये हुए बैग की पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जब टीम को पता चला कि यह बैग उसी विदेशी यात्री का है तो उसने एलेजेण्ड्रो का संपर्क किया और उसे उसका बैग लौटाया तो उसके चेहरे पर भी खुशी के साथ-साथ आभार के भाव झलक आये। उसने भी जीआरपी को धन्यवाद कहा था।

रेल यात्रा के दौरान सामान गायब होने पर क्या करें ?

रेल यात्रा के दौरान सामान की चोरी हो जाने या लूटपाट-डकैती हो जाने पर आप गाड़ी के कोच परिचारक, गार्ड अथवा तैनात जीआरपी कर्मियों से संपर्क कर सकते हैं। वे आपको एफआईआर का फॉर्म देंगे, जिसमें जानकारी भर कर आप उन्हें सौंप दें। आपकी शिकायत आगे की कार्यवाही के लिये पुलिस थाने में दी जाएगी। सामान गायब हो जाने पर आपको अपनी यात्रा बीच में रोकने की आवश्यकता नहीं है। शिकायत दर्ज कराने में आपकी सहायता के लिये प्रमुख रेलवे स्टेशनों पर आरपीएफ सहायता बूथ भी होते हैं, जिनसे संपर्क किया जा सकता है। रेलवे के माध्यम से सामान एक जगह से दूसरी जगह भेजने के लिये सामान बुकिंग विण्डो से संपर्क किया जा सकता है, वहाँ से संपूर्ण प्रक्रिया पता की जा सकती है। इसके अलावा शिकायत करने के लिये रेलवे के शिकायत वेब पोर्टल और मोबाइल एप, आईआरसीटीसी, आरपीएफ-जीआरपी सहायता बूथ की मदद ली जा सकती है। रेलवे टिकट खो जाने पर डुप्लीकेट टिकट जारी करवाने के लिये भी इनसे संपर्क किया जा सकता है।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares