CBSE परीक्षा का ऐलान: Passing के इन नियमों को नहीं जानते होंगे आप

CBSE passing criteria. CBSE and ICSE board exams date sheet 2018 declared.

CBSE और ICSE बोर्ड ने परीक्षा की तारीख का ऐलान कर दिया है। CBSE 10वीं बोर्ड की परीक्षा 5 March से 4 April तक होगी। 12वीं बोर्ड की परीक्षा 5 March से 12 April तक होगी। ICSE  बोर्ड परीक्षा 26 फरवरी सो शुरू हो रही है जबकि ISC बोर्ड की परीक्षा 12 फरवरी से शुरू हो रही है। ICSE बोर्ड की परीक्षा 26 फरवरी से 27 मार्च तक चलेगी।

 CBSE Board Exams Date sheet 2018 डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें

 

हर साल की तरह इस साल भी लाखों छात्र बोर्ड की परीक्षा देंगे। परीक्षा का ऐलान होते ही छात्रों पर दबाव बढ़ गया है। तैयारी के लिए महज 7 हफ्ते बाकी है। ऐसे में उन छात्रों की कमी नहीं है जिन्होंने परीक्षा में पास होने के लिए भगवान की प्रार्थना अभी से शुरू कर दी है। ऐसे छात्रों के लिए Passing marks ही अमृत के समान है। तो क्या आप जानते हैं कि 10वीं और 12 वीं के Passing marks क्या हैं ?

Passing criteria for Class 10

1). कोई छात्र तभी पास माना जाएगा अगर उसने external और internal examinations में सभी सब्जेक्ट में कम से कम 33 फीसदी नंबर लाया हो।

2) 33 फीसदी स्कोर में Internal/Practical examination के स्कोर शामिल नहीं है।

3). अगर कोई छात्र external examination में पांच में दो सब्जेक्ट में फेल हो जाता है तो वह compartment के जरिए दोबारा कोशिश कर सकता है। Compartment के लिए internal assessment के सभी विषयों में पास होना जरूरी है।

4) CBSE की तरफ से 2017-18 से Vocational subject introduce किया गया। यह छठा सब्जेक्ट होगा। पास होने के लिए किसी पांच सब्जेक्ट में पास होना जरूरी है।

5) अगर कोई छात्र पांच मुख्य सब्जेक्ट में किसी एक में फेल हो जाता है और छठे सब्जेक्ट में पास रहता  है तो उसे पास माना जाएगा। उस छात्र के पास कंपार्टमेंट के जरिए पास होने का मौका है। ऐसा होने से छात्रों का एक साल बर्बाद नहीं होगा।

Passing criteria for Class 12

1). पास होने के लिए सभी सब्जेक्ट के external examination और practical टेस्ट में कम से कम 33-33 फीसदी स्कोर करना जरूरी है।

2) Aggregate marks (कुल मार्क ) कम से कम 33 फीसदी होना जरूरी है।

3). अगर कोई छात्र external examination में पास हो जाता है लेकिन Practical/internal test में फेल हो जाता है तो उसे पास माना जाएगा। हालांकि उस छात्र को एक साल के भीतर Practical/internal test पास करना होगा।

 

How to manage exam stress ? तमाम रिसर्च के बाद तैयार की गई रिपोर्ट

 

Yuvapress.com नेअपनी स्टडी और एक्सपर्ट्स से बात करने के बाद पाया कि छात्र अगर खुद को संयमित रखें तो वे बहुत अच्छा रिजल्ट हासिल कर सकते हैं। बोर्ड की परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए इन बातों का खयाल रखना बेहद जरूरी है।

1). रिजल्ट के बारे में बिल्कुल नहीं सोचे। आपका फोकस तैयारी पर होनी चाहिए। रिजल्ट की परवाह किए बगैर तैयारी करने से आपका Self confidence बढ़ेगा।

2). एक सर्वे के मुताबिक परीक्षा हॉल में 95 फीसदी छात्रों को anxiety होती है। यह सामान्य घटना है इसलिए ना तो घबराएं और ना ही इसे खुद पर हावी होने दे।

3). आपके पास 50 दिन का वक्त बाकी है जो काफी है। एक रूटीन बनाएं और 40 दिनों के भीतर जितनी तैयारी कर सकते हैं पूरी करे। 10 दिन केवल प्रैक्टिस करें।

4). दूसरे छात्रों से तुलना करने की जरूरत नहीं है। इसके आपके आत्म-विश्वास को धक्का पहुंचता है।

5). हर छात्र के लिए कोई एक सब्जेक्ट कठिन होता है। इसलिए पूरे सिलेबस को कवर करने के बजाए उन चीजों को कवर करें जो आसान है।

तैयारी के दौरान ब्रेक जरूरी है। Pressure और anxiety से बचने के लिए स्पोर्ट्स खेलें। बीच-बीच में Physical activity करते रहें। फिजिकल एक्टिविटी से आपका ध्यान बंटता है और यह distress का सबसे असरदार तरीका है। एनर्जी लेवल maintain करने के लिए खान-पान और नींद पर विशेष ध्यान दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *