VIDEO : सांसद बनने से पहले सांसद के PS थे जामयांग शेरिंग नामग्याल

Written by

* JTN के रूप में प्रसिद्ध, जो 3 लाख लद्दाखियों की आवाज़ बने

* संसद में जोरदार भाषण से मोदी-शाह का भी दिल जीता

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद 7 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक 2019 पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के अनेक सांसदों ने अपनी बातें रखीं। इस विधेयक के तहत जम्मू-कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश बनाने और जम्मू-कश्मीर से लद्दाख को अलग कर केन्द्र शासित प्रदेश बनाने का प्रस्ताव था। विधेयक पारित हो चुका है और लद्दाख अब देश का एक केन्द्र शासित प्रदेश बन चुका है। इसके साथ ही लद्दाख के लोगों की वर्षों पुरानी मांग पूरी हो गई।

इससे पहले इस विधेयक पर चर्चा के दौरान अनेक अनुभवी और धारदार भाषण कला रखने वाले सांसदों के बीच लद्दाख से पहली बार सांसद बने मात्र 34 वर्षीय जामयांग शेरिंग नामग्याल (Jamyang Tsering Namgyal) यानी JTN ने अपने भाषण से पूरी लोकसभा का ध्यान खींचा। नामग्याल ने लद्दाख को अलग केन्द्र शासित प्रदेश बनाए जाने पर न केवल खुशी जाहिर की, अपितु लगे हाथ जम्मू-कश्मीर का हिस्सा रहते हुए वहाँ बारी-बारी से शासन करने वाली नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC) और पीपल्स डेमोक्रैटिक पार्टी (PDP) को आड़े हाथ ले डाला। जेटीएन ने आरोप लगाया कि इन दोनों पार्टियों ने जम्मू-कश्मीर राज्य को पैतृक व्यवसाय की तरह चलाया। उन्होंने कहा कि लद्दाख के लोग 7 दशकों यानी 70 वर्षों से अलग राज्य के दर्जे के लिए संघर्ष कर रहे हैं। लद्दाख की भाषा, संस्कृति यदि लुप्त होती गई, तो इसके लिए केन्द्र में शासन करने वाली कांग्रेस सरकारें, जम्मू-कश्मीर में शासन करने वालीं एनसी-पीडीपी और धारा 370 जिम्मेदार है।

यद्यपि नामग्याल के इस भाषण के चंद घण्टों बाद ही राज्यसभा से पास हो चुका जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक लोकसभा से भी पारित हो गया और लद्दाख अलग केन्द्र शासित प्रदेश बन गया, परंतु इससे पहले नामग्याल ने लद्दाख के पक्ष में जो जोरदार भाषण दिया, उससे वे लद्दाख के 3 लाख लोगों की आवाज़ बन कर उभरे। नामग्याल की भाषण शैली ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का भी दिल जीत लिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तो लद्दाख से भाजपा सांसद जामयांग शेरिंग नामग्याल को शाब्बाशी देते हुए ट्वीट भी किया। ट्वीट के साथ मोदी ने नामग्याल के भाषण का वीडियो शेयर किया और लिखा कि नामग्याल ने अपने भाषण में लद्दाख क्षेत्र के लोगों की आकांक्षाओं को प्रस्तुत किया।

LAHDC में झंडा गाड़ कर सांसद बने नामग्याल

जामयांग शेरिंग नामग्याल आज पूरे भारत में चर्चा के केन्द्र में आ गए हैं। उनका संसद में दिए गए भाषण का वीडियो बहुत वायरल हो रहा है, परंतु आपको जान कर आश्चर्य होगा कि नामग्याल लोकसभा चुनाव 2019 में लद्दाख सीट से सांसद चुने जाने से पहले तक लद्दाख के इससे पहले के भाजपा सांसद थुपस्टन छेवांग (Thupstan Chhewang) के निजी सचिव (PS) हुआ करते थे। किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि एक सांसद का पीएस भी कभी सांसद बनेगा और लद्दाख के 3 लाख लोगों की आवाज़ का देश के लोकतंत्र के सर्वोच्च मंदिर लोकसभा में प्रतिनिधित्व करेगा। 4 अगस्त, 1985 को लद्दाख के लेह स्थित माथो गाँव में स्टैज़िन दोरजी और इशे पुटिल के यहाँ जन्मे नामग्याल आज जेटीएन के नाम से प्रसिद्ध हैं। उन्होंने लेह स्थित केन्द्रीय बौद्ध विद्या संस्थान (CIBS) से 12वीं पास की और इसके बाद जम्मू विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल की। राजनीति में आने से पहले नामग्याल ऑल लद्दाख स्टूडेंट एसोसिेशन-जम्मू से जुड़े हुए थे और 2011-12 में इसके अध्यक्ष भी रहे। इसके बाद उन्होंने भाजपा जॉइन की। भाजपा ने नामग्याल को लोकसभा चुनाव 2014 में लद्दाख से जीते सांसद Thupstan Chhewang का निजी सचिव बनाया। इस दौरान नामग्याल ने 2015 में लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद् (LAHDC) लेह के चुनाव में मार्टसेलांग क्षेत्र से चुनाव लड़ा और वे रिकॉर्ड मार्जिन से जीत कर पार्षद बने। इस बीच एलएएचडीसी के मुख्य कार्यपालक पार्षद (CEC) दोर्जे मोटुप ने त्यागपत्र दिया और नामग्याल एलएएचडीसी के 8वें सीईसी चुने गए। लोकसभा चुनाव 2019 में भाजपा ने नामग्याल को लद्दाख से अपना उम्मीदवार बनाया और पहली ही बार में वे सांसद बनने में सफल रहे। यह मोदी-शाह की जोड़ी का ही करिश्मा है कि नामग्याल ने चुनाव तो जम्मू-कश्मीर के लद्दाख लोकसभा क्षेत्र से जीता और पहली बार सांसद बने, परंतु अब वे केन्द्र शासित लद्दाख में स्थित लद्दाख लोकसभा क्षेत्र के सांसद बन गए हैं।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares