86 दिन बाद मुंबई में लोकल ट्रेन सेवा शुरू, सिर्फ जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को यात्रा की अनुमति

Written by

कोरोनावायरस महामारी के बीच जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों के लिए मुंबई में कुछ स्थानीय ट्रेनें आज से फिर से शुरू हो गई हैं। पश्चिम रेलवे ने एक ट्वीट में कहा कि इन ट्रेनों में सामान्य यात्रियों को जाने की अनुमति नहीं है और लोगों से स्टेशनों पर भीड़ नहीं लगाने को कहा है। लोकल ट्रेन में फिलहाल पुलिसकर्मी, नर्स, डॉक्टर, नगर निगम के कर्मचारी, सफाईकर्मी, नगरपालिका के अन्य कर्मचारी और पत्रकार ही यात्रा कर पाएंगे। पहली लोकल ट्रेन सोमवार तड़के 5.30 बजे चली।

रेलवे ने रविवार को ट्वीट किया, “पश्चिम रेलवे ने सोमवार, 15 जून, 2020 को डब्ल्यूआरएफ पर अपनी चुनिंदा उपनगरीय सेवाओं को फिर से शुरू करने का फैसला किया है, जो परिभाषित प्रोटोकॉल और एसओपी के साथ आवश्यक कर्मचारियों की आवाजाही के लिए है।”

रेलवे ने कहा, “अधिकतम सेवाएं चर्चगेट और विरार के बीच चलेंगी, लेकिन कुछ ही दहानू रोड तक चलेंगी।” विरार और दहानु रोड स्टेशनों के बीच 8 ट्रेनें चलेंगी। ये लोकल ट्रेनें सुबह 5.30 बजे से रात 11.30 बजे तक चलेंगी। मध्य रेलवे की कुल 200 लोकल चलाई जाएंगी। लोकल 100 अप रूट और 100 डाउन रूट पर चलेंगी।

जिन लोगों के पास लोकल ट्रेनों में यात्रा करने के लिए सीज़न पास हैं, वे उनका उपयोग कर सकते हैं, भले ही उनकी समय सीमा समाप्त हो गई हो क्योंकि लॉकडाउन के कारण उनकी यात्रा की अवधि खत्म हो गई है।

कर्मचारियों को उनके आईडी कार्ड के जरिए स्टेशनों तक जाने दिया जाएगा। कर्मचारियों को QR Code आधारित E-Pass जारी किए जाएंगे। यह भी चेक किया जाएगा कि जो कर्मचारी ड्यूटी के लिए आ रहा है वह Containment Zone में नहीं रहने वाला हो।

सोशल डिस्टेंसिंग के लिए 1200 की क्षमता वाले डिब्बों में सिर्फ 700 लोगों को जाने की इजाजत होगी। रेलवे ने राज्य सरकार से कहा है कि वह अपने कर्मचारियों के कार्यालय समय को रोकने के लिए यह सुनिश्चित करे कि स्टेशनों पर कोई भीड़ न हो। उपनगरीय ट्रेनें मुंबई की जीवन रेखा हैं।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares