Online customers के काम की खबर

Written by
To protect Online customers Center has made MRP mandatory for E-commerce Company.

Online customers के संरक्षण के चलते केंद्र सरकार ने E-commerce company के लिए 1 जनवरी से सभी प्रोडक्ट पर MRP (Maximum Retail price) लिखना जरूरी कर दिया है। अब E-commerce Company को सभी प्री-पैकेज्ड प्रोडक्ट पर MRP के अलावा, Manufacturing date, Expiry date, Customer care details समेत अन्य जानकारी देनी होगी।

1 जनवरी 2018 से नए नियम लागू

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने जून 2017 में प्री-पैकेज्ड प्रोडक्ट के लिए नियम संशोधित किए  थे। संशोधन को अपनाने के लिए E-commerce company को 31 दिसंबर 2017 तक का वक्त दिया गया था।  नए नियम को लेकर मंत्रालय का कहना है कि Online shopping में प्रोडक्ट के बारे में पूरी जानकारी नहीं होने की लगातार शिकायतें आ रही थीं जिसके मद्देनजर यह फैसला लिया गया है। तमाम शिकायतों में Online customers ने E-commerce company पर धोखाधड़ी के आरोप लगाए। 1 जनवरी के बाद अगर कोई E-commerce company नए नियम का पालन नहीं करती है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

बड़े अक्षरों में देनी होगी सारी जानकारियां

नए नियम को लेकर मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में यह भी कहा गया कि E-commerce company को सारी जरूरी जानकारियां बड़े अक्षरों में देनी होगी ताकि Online customers को पढ़ने में किसी तरह की दिक्कत ना हो। इसके अलावा एक ही प्रोडक्ट के लिए अलग-अलग MRP की घोषणा नहीं की जा सकती है।  छूट देकर (Discount/Sell) प्रोडक्ट बेचने पर भी MRP लिखना जरूरी है। Amazon India, Flipkart, Snapdeal, Grofers देश की प्रमुख E-commerce कंपनियां हैं।

Article Categories:
Indian Business · News · Startups & Business

Leave a Reply

Shares