नयी शिक्षा नीति से भारत शिक्षा का ‘ग्लोबल हब’ बनेगा: मोदी

Written by
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नयी शिक्षा नीति को लोगों की आकांक्षाओं की अभिव्यक्ति बताते हुए कहा है कि इससे लोगों की मानसिकता बदलने और युवा पीढ़ी को आत्मनिर्भर बनाने और देश को शिक्षा का ‘ग्लोबल हब’ बनाने में मदद मिलेगी ।
नरेंद्र मोदी ने यहां Smart India Hackathon के ग्रैंड फाइनल को संबोधित करते हुए यह बात कही । यह चौथा हैकथन है जिसके फाइनल में 10 हजार छात्र भाग ले रहे हैं।
उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति में  देश के युवा पीढ़ी को नौकरी खोजने वाले युवक बनाने की जगह नौकरी देने वाले युवक बनाने पर बल दिया जाएगा और इससे आत्मनिर्भर भारत बनाने में मदद मिलेगी। युवाओं को अब नौकरी ही नहीं करनी है बल्कि उन्हें  खुद भी आत्मनिर्भर  बनना है।
उन्होंने कहा कि नयी शिक्षा नीति केवल दस्तावेज नहीं है बल्कि यह लोगों की आकांक्षा की अभिव्यक्ति  है और 21वीं सदी में लोगों की  जरूरतों को पूरा करने का अवसर भी देता है ।
नरेंद्र मोदी ने कहा कि पहले  छात्र अपने मन का विषय नहीं पढ़ पाते थे और उन पर दूसरे विषय पढ़ने का दबाव बना रहता था लेकिन अब छात्र अपने मनपसंद विषय  पड़ेंगे और उनमें आत्मविश्वास पैदा होगा।
नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि नयी शिक्षा नीति में Multiple Entry और Multiple Exit की भी बात कही गई है तथा Multi Deciplinary पढ़ाई भी जोर दिया गया है। इस संबंध में उन्होंने Rabindra Nath Tagore और Leonardo da vinci की बहुविषय प्रतिभा का भी जिक्र किया ।
Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares