जुलाई में जनता पर हुई सौगात की बरसात : गैस सिलिंडर के दाम 100 रुपए घटे, ऑनलाइन ट्रांज़ैक्शन हुआ निःशुल्क

Written by

अहमदाबाद, 1 जुलाई, 2019 (YUVAPRESS) । हर महीने के प्रारंभ में कुछ नये नियम लागू होते हैं, तो कुछ नियमों में बदलाव लागू होते हैं । आज से जुलाई महीने की शुरुआत के साथ भी कुछ बदलाव लागू हुए हैं । इन बदलाव के तहत आम आदमी को एक ओर कुछ राहतें मिली हैं तो कुछ सेवाएँ या सुविधाएँ महँगी भी हो गई हैं ।

सबसे बड़ा जो बदलाव हुआ है वह है रसोई गैस की कीमतों का । रसोई गैस की कीमत 100 रुपये तक कम हुई है, जिससे बड़े पैमाने पर लोगों को फायदा होने वाला है । इसके अलावा भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने रियल टाइम ग्रोस सेटलमेंट सिस्टम (RTGS) तथा नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) पर लगने वाला शुल्क समाप्त कर दिया है, जिससे इन माध्यमों से फंड ट्रांसफर करने पर अब कोई शुल्क नहीं देना होगा ।

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (IOC) ने रविवार को एक विज्ञप्ति जारी करके जानकारी दी है कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में दाम घटने और डॉलर तथा रुपये की विनिमय दर में आए बदलाव के प्रभाव से 14.2 किलो के रसोई गैस की कीमत में गिरावट आई है और बदली हुई नई दर 1 जुलाई से लागू होगी । विज्ञप्ति के अनुसार सब्सिडी वाले और बिना सब्सिडी वाले सिलिण्डर दोनों की कीमत में 100 रुपये की कमी की गई है । इसी के साथ घरेलू उपयोग के सब्सिडी वाले सिलिण्डर की कीमत 737.50 रुपये से घटकर 637.50 रुपये हो गई है ।

उधर आरबीआई ने सरकार की डिजिटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने की नीति को समर्थन देते हुए आरटीजीएस और एनईएफटी से फंड ट्रांसफर पर लगने वाले शुल्क को समाप्त कर दिया है, जो 1 जुलाई से लागू हो गया है । केन्द्रीय बैंक ने विविध बैंकों से कहा है कि वह इसका लाभ अपने ग्राहकों को 1 जुलाई से देना शुरू करें । आरटीजीएस से बड़ी रकम एक खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर होती है जबकि एनईएफटी से दो लाख रुपये तक की रकम तत्काल ट्रांसफर करने की सुविधा दी जाती है । एनईएफटी पर 1 से 5 रुपये शुल्क लिया जाता है वहीं आरटीजीएस पर पैसा ट्रांसफर करने के लिये 5 से 50 रुपये तक का शुल्क लगता है ।

सरकार ने प्राथमिक बचत खाते (बीएसबीडी) के मामले में नियमों को आसान बनाया है । अब ऐसे खाताधारक भी चेकबुक तथा अन्य सुविधाएँ प्राप्त कर सकेंगे । बीएसबीडी अर्थात् ऐसे खाते जो ज़ीरो बेलेंस से खोले जाते हैं और इनमें न्यूनतम राशि रखने की कोई शर्त लागू नहीं होती है । इन खाताधारकों को कोई शुल्क भी नहीं देना होता है ।

नियमों में बदलाव से एक तरफ जहाँ लाभ होने वाला है, वहीं कुछ नियमों में बदलाव से कुछ सेवाएँ महँगी भी हुई हैं । केन्द्र सरकार ने आज से अल्प बचत योजनाओं की ब्याज दरों में कटौती की है । सरकार की छोटी बचत योजनाओं की बचत दरों में 0.10 प्रतिशत की कटौती की है, इससे इन योजनाओं में मिलने वाला ब्याज घट जाएगा । सरकार अल्प बचत योजनाओं की ब्याज दरों की हर तीन महीने में समीक्षा करती है और ब्याज दरों में बदलाव करती है । यह सरकार पर निर्भर करता है कि वह ब्याज दर बढ़ाना चाहती है या घटाना चाहती है । जरूरी नहीं कि हर तीन महीने में सरकार ब्याज दर में बदलाव करे । अभी सरकार ने ब्याज दर में जो कटौती की है वह जुलाई से सितंबर के तीन माह तक लागू रहेगी । सितंबर में सरकार फिर समीक्षा करेगी और तब इसमें फिर से बदलाव हो सकता है और ब्याज दर बढ़ाई भी जा सकती है ।

पहली जुलाई से भारतीय रेलवे ने भी अपनी ट्रेनों के टाइम टेबल में बदलाव किया है । कुछ गाड़ियों के नाम भी बदले हैं । कई नई ट्रेनों का परिचालन भी शुरू किया है । रांची से हावड़ा के बीच एक ट्रेन शुरू की गई है, जो सप्ताह में तीन दिन रविवार, सोमवार और मंगलवार को चलेगी । ट्रेन रांची से सुबह 5.45 बजे और हावड़ा से दोपहर 12.50 बजे चलेगी ।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares