ओडिशा महानदी में मिला 500 साल पुराना जलमग्न मंदिर

Written by

ओड़िशा के नयागड़ जिले में स्थित पद्मावती गांव के पास से महानदी बहती है। इस नदी में हाल ही में करीब 500 साल पुराने एक मंदिर का शिवाला दिखाई देने लगा है। यह मंदिर 15वीं या 16वीं सदी का है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस मंदिर में भगवान गोपीनाथ (भगवान विष्णु का रूप) की प्रतिमाएं थीं। कुछ साल पहले भी इस मंदिर का शिवाला नदी में पानी कम हो जाने कारण दिखाई दिया था।

स्थानीय लोगों की मानें तो, महानदी द्वारा अपना रास्ता बदलने और भयंकर बाढ़ के कारण साल 1933 में मूल पद्मावती गांव पूरी तरह से डूब गया। इसके कारण गांव के लोग इस स्थान से स्थानान्तरित होकर टिकिरीपड़ा, बीजीपुर, रगड़ीपड़ा, हेमन्तपाटणा, पद्मावती (नया) आदि गांवों में बस गए। इस गांव के लोग हथकरघा और कुटीर उद्योग की मदद से अपना जीवन यापन करते थे। परिवाहन के लिए पानी के रास्तों का उपयोग कर गांव के लोग अपना सामान दूसरे स्थानों तक लेकर जाते थे।

Indian National Trust for Art and Cultural Heritage (INTACH) की टीम का कहना है कि इस मंदिर की खोज उन्होंने की है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि मंदिर के निर्माण शैली आज से 400 से 500 साल पुरानी है। मूल गांव में ऐसे कई मंदिर मौजूद थे। गांव के साथ इन मंदिरों के नदी में समा जाने के कारण यहां की मूर्तियां मौजूदा पद्मावती गांव के मंदिर में स्थानांतरित कर दी गई थीं।

INTACH की ओर से Documentation of the Heritage of the Mahanadi River Valley Project शुरु किया गया है। इस प्रॉजेक्ट के तहत छत्तीसगढ़ में मौजूद महानदी के उद्गम स्थल से लेकर ओड़िशा के जगतसिंहपुर जिले के पारादीप तक मौजूद पुरानी कीर्तियों की पहचान की जाएगी। इन स्थानों पर मिलने वाली सभी वस्तुओं और संरचनाओं की Recording की जा रही है, जिनकी सूची अगले साल प्रकाशित हो सकती है।

INTACH की टीम का कहना है कि ओड़िशा में ऐसे कई मंदिर हैं, जो पानी में डूबे हुए हैं। हीराकुंड डैम में भी 65 मंदिरों के मौजूद होने के प्रमाण हैं। राज्य की विभिन्न नदियों में भी ढेरों मंदिर मौजूद हैं, जिनका सर्वे किया जाना चाहिए। टीम का कहना है कि इन मंदिरों में कुछ ढह गए हैं, लेकिन कुछ अभी भी खड़े हैं। पद्मावती गांव में मौजूद गोपीनाथ मंदिर को महानदी से निकालकर एक मॉडल के तौर पर फिर से स्थापित किया जाना चाहिए।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares