जनरल प्रमोशन से खतरे में पड़ सकता है छात्रों का भविष्य: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

Written by

विश्वविद्यालय व कॉलेज के कई स्टूडेंट्स सोशल मीडिया के माध्यम से जनरल प्रमोशन की मांग कर रहे हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट करते हुए कहा कि,”जिसने अपना जीवन ही उनके लिए समर्पित कर दिया हो, वह यह कभी नहीं चाहेगा कि उसके बच्चों के भविष्य के साथ कोई खिलवाड़ करे। परिस्थितियाँ विपरीत हैं, लेकिन हमने भी चुनौती को अवसर में बदलने का निर्णय लिया है।”

उन्होंने आगे कहा, “सारी व्यवस्थाएँ सुचारु रूप से शुरू हों,लोगों का जीवन पुनः व्यवस्थित हो, इसके लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। किसी भी छात्र को आगे बढ़ने के लिए उच्च शिक्षा की ज़रूरत होती है, जिसमें 10वीं और 12वीं कक्षाएँ सबसे महत्वपूर्ण होती हैं। यहीं से उनके जीवन की नींव डलती है।“

उन्होंने युवाओं के भविष्य के बारे में बात करते हुए कहा ,“भारत का भविष्य उसके युवा नागरिकों के हाथ में है! युवाओं का भविष्य मजबूत होगा तभी देश आगे बढ़ेगा। छात्रों और अभिभावकों को सोचना चाहिए कि शिक्षा और परीक्षा दोनों ही महत्वपूर्ण हैं।“

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आगे कहा,”परीक्षा की जो तारीखें दी गई हैं, वे इसी बात को ध्यान में रखकर दी गई हैं कि कोई भी छात्र को किसी भी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। ऐसा कोई भी कदम नहीं उठाया जाएगा जिससे उनका भविष्य अंधकारमय हो। उनका भविष्य तभी खतरे में होगा जब उनकी परीक्षा रद्द कर जनरल प्रमोशन दिया जाएगा।”

उन्होंने आगे कहा ,”छात्र-छात्राओं ने इतनी मेहनत और लगन से सालभर जो पढ़ाई की है, उसकी परीक्षा होना अत्यंत आवश्यक है। उनकी परीक्षा न लेकर और जनरल प्रमोशन देकर उनका आगे का जीवन बर्बाद नहीं किया जा सकता।”

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares