अब घर बैठे होंगे चारधाम मंदिर परिसरों के ऑनलाइन दर्शन

Written by

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की अध्यक्षता में शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में उत्तराखण्ड चारधाम देवस्थानम प्रबन्धन बोर्ड की बैठक आयोजित की गई। Covid-19 के कारण अभी तीर्थयात्रियों को उनके दर्शन के लिए आने की अनुमति नहीं है लेकिन मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा जो लोग मन्दिरों के Online दर्शन करना चाहते हैं, उन्हें गर्भगृह को छोङकर बाकी मन्दिर परिसर के Online दर्शन एवं Audio  के माध्यम से पूजा अर्चना करने की सुविधा उपलब्ध कराई जाए। साथ ही इसमें धार्मिक मान्यताओं का भी पूरा ध्यान रखा जाए। बैठक में मन्दिरों एवं उनसे जुड़ी प्रमुख पाण्डुलिपियों एवं अन्य ऐतिहासिक महत्व के सामग्री संग्रहण के लिए संग्रहालय बनाने की बैठक में चर्चा की गई है। गौरतलब है कि गढवाल हिमालय के चारों धामों बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुल चुके हैं।

उत्तराखण्ड चारधाम देवस्थानम प्रबन्धन बोर्ड का अलग Logo बनाया जायेगा। बोर्ड का अलग Bank Account होगा। इसके लिए बैठक में राज्य सरकार द्वारा 10 करोड़ रूपये की धनराशि की स्वीकृति दी गई है। बद्रीकेदार मंदिर समिति की अवशेष धनराशि भी उत्तराखण्ड चारधाम देवस्थानम प्रबन्धन बोर्ड में Transfer की जायेगी। बद्रीकेदार मंदिर समिति के कार्मिकों का समायोजन उत्तराखण्ड चारधाम देवस्थानम प्रबन्धन बोर्ड में किया जायेगा। बोर्ड के लिए अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी की नियुक्ति की जायेगी एवं वित्त नियंत्रक का एक पद सृजित किया जायेगा। बोर्ड में विभिन्न न्यायिक मामलों के लिए Tribunal बनाई जायेगी। NIC द्वारा बदरीकेदार मंदिर समिति के लिए बनाई गई Website का अधिग्रहण कर इसका upgradation किया जायेगा। बोर्ड के उपाध्यक्ष श्री सतपाल महाराज ने मानव उत्थान सेवा समिति के माध्यम से बोर्ड को 05 लाख एक रूपये की धनराशि देने की घोषणा की। इस अवसर पर उन्होंने अपने महत्वपूर्ण सुझाव भी रखे।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares