एक गांव, जिसने मांगा भंसाली से ‘Padmaavat’ की कमाई में हिस्सा

Written by
Padmaavat

संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म ‘पद्मावत ‘(Padmaavat) आज सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। हालांकि राजपूत समुदाय द्वारा खासकर राजपूत करणी सेना द्वारा फिल्म का जबरदस्त विरोध किया जा रहा है। इसी बीच नई खबर आयी है कि पद्मावत कविता लिखने वाले सूफी कवि मलिक मोहम्मद जायसी (Malik Muhammad Jayasi) के पैतृक गांव ने भी संजय लीला भंसाली (Sanjay Leela Bhansali) से फिल्म से होने वाली कमाई का एक हिस्सा मांगा है।

पद्मावत पर आधारित है फिल्म

उल्लेखनीय है कि संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ (Padmaavat) भी मलिक मोहम्मद जायसी की कविता “पद्मावत” (Padmavat) पर ही आधारित है। यही वजह है कि उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में स्थित मलिक मोहम्मद जायसी के पैतृक गांव “जायसी” के लोगों ने अब संजय लीला भंसाली से फिल्म की कमाई का एक हिस्सा मांग लिया है। गांव के लोगों का कहना है कि चूंकि यह फिल्म पद्मावत पर आधारित है, इसलिए संजय लीला भंसाली (Sanjay Leela Bhansali) को इस फिल्म की कमाई का एक हिस्सा इस गांव को भी देना चाहिए।

Padmaavat

लोगों का कहना है कि “इस इलाके में मलिक मोहम्मद जायसी के नाम पर एक स्कूल, एक रिसर्च इंस्टीट्यूट है, साथ ही 16वीं सदी के सूफी कवि मलिक मोहम्मद जायसी के पैतृक घर के कुछ अवशेष भी बचे हैं। फिल्म की कमाई से मिले इन पैसों से मलिक मोहम्मद जायसी की महान परंपरा को बचाने की कोशिश की जाएगी।”

कुछ लोगों का मानना है कि “मलिक मोहम्मद जायसी हिंदू-मुस्लिम एकता के बड़े पैरोकार थे और अगर फिल्म पूरी तरह से उनकी रचना पद्मावत पर आधारित है तो फिर इसमें कुछ भी गलत नहीं हो सकता।”

Padmaavat को लेकर बवाल जारी

वहीं दूसरी तरफ सुप्रीम कोर्ट द्वारा हरी झंडी दिखाए जाने के बावजूद भी राजपूत समुदाय इस फिल्म को रिलीज ना होने देने पर अड़ा है। बवाल को देखते हुए राजस्थान और मध्य प्रदेश राज्यों की सरकारों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर मांग की है कि सुप्रीम कोर्ट अपने आदेश पर एक बार फिर पुनर्विचार करे। राज्यों का कहना है कि फिल्म रिलीज होने से राज्य की कानून व्यवस्था को नुकसान हो सकता है। बहरहाल हजार परेशानियों के बावजूद आज फिल्म पद्मावत (Padmaavat) देशभर में रिलीज की जा रही है।

Padmaavat

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares