पाकिस्तान ने भारत से द्विपक्षीय व्यापारिक रिश्ते तोड़े : भारत के राजदूत को भी निष्कासित किया

Written by

अहमदाबाद, 7 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। भारत ने जबसे जम्मू कश्मीर से धारा 370 खत्म करके उसकी स्वतंत्रता समाप्त की है और उसे भारत का अभिन्न हिस्सा बनाया है, तब से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। अब उसकी बौखलाहट सामने आने लगी है। पाकिस्तान ने भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापारिक रिश्ते खत्म कर दिये हैं और भारत के राजदूत को निष्कासित करने के साथ ही अपने राजदूत को भारत से वापस बुला लिया है। इतना ही नहीं पाकिस्तान ने इस मामले को संयुक्त राष्ट्र के समक्ष ले जाने की भी धमकी दी है।

राष्ट्रीय सुरक्षा समिति (NSC) में लिया गया फैसला

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के पीएम कार्यालय में बुधवार को राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक हुई। इमरान खान की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में कई बड़े फैसले लिये गये। बैठक में जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाये जाने के विरोध में प्रस्ताव पास किया गया। पाकिस्तान की एनएससी ने भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार बंद करने का फैसला किया। इसके साथ ही भारत के साथ राजनयिक सम्बंध भी तोड़ दिये। पाकिस्तान ने इस्लामाबाद में मौजूद भारत के राजदूत को निष्कासित कर दिया है और नई दिल्ली में अपने नवनियुक्त राजदूत को अब नहीं भेजने का भी फैसला किया है। इतना ही नहीं, पाकिस्तान ने यह भी धमकी दी है कि वह इस मामले को संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद के समक्ष ले जाएगा। बैठक में यह भी फैसला किया गया है कि 14 अगस्त का दिन पाकिस्तान कश्मीरियों को समर्थन देने के तौर पर मनाएगा और 15 अगस्त को काला दिन मनाएगा।

पाकिस्तान ने भारतीय राजनयिक को देश छोड़ने के लिये कहा

मीडिया में आ रही खबरों के अनुसार पाकिस्तान ने इस्लामाबाद में मौजूद भारत के राजदूत अजय बिसारिया को देश छोड़ने के लिये कहा है। इसके अलावा पाकिस्तान भारत में अपने नवनियुक्त राजदूत को भेजने वाला था, वह अब नहीं भेजेगा, जो इसी महीने चार्ज लेने वाले थे। बैठक में भारत के साथ कूटनीतिक सम्बंधों को कम करने, द्विपक्षीय व्यापारिक सम्बंधों को खत्म करने और द्विपक्षीय व्यवस्थाओं की समीक्षा करने के फैसले लिये गये।

इमरान खान ने भारत को दी थी पुलवामा जैसे हमले की धमकी

इससे पहले मंगलवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत को कश्मीर से धारा 370 खत्म करने के गंभीर परिणामों की चेतावनी देते हुए कहा था कि कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म होने के बाद जम्मू कश्मीर में पुलवामा जैसे हमले हो सकते हैं। उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि हालाँकि पुलवामा हमले से पाकिस्तान का कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने भारत पाकिस्तान के बीच युद्ध छिड़ने की भी आशंका व्यक्त की थी। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने पर इमरान खान ने आनन-फानन में मंगलवार को पाकिस्तान की संसद का संयुक्त सत्र बुलाया था, जिसे संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था कि अब भारत पाकिस्तान के बीच ऐसा युद्ध होगा, जिसे कोई नहीं जीतेगा और इसका पूरी दुनिया पर गहरा प्रभाव पड़ेगा। इमरान खान ने कहा कि दोनों देश परमाणु हथियारों से सम्पन्न हैं, ऐसे में युद्ध जैसी स्थिति पैदा होना दुनिया के लिये भी खतरनाक होगा। उन्होंने कहा कि कश्मीरी लोग धारा 370 खत्म किये जाने का विरोध करेंगे, ऐसे में भारत उनके विरुद्ध कार्यवाही करेगा।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares