अलविदा सुषमा : जब ‘लौह पुरुषों’ की आँखों में भर आए आँसू

Written by

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद 7 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। भारत में वैसे लौह पुरुष की उपाधि सरदार वल्लभभाई पटेल को ही प्राप्त है, परंतु स्वतंत्र भारत के इतिहास में ऐसे कई राजपुरुष हुए, जिनके अपने साहसिक कारनामों ने जनता के बीच उनकी छवि लौह पुरुष के रूप में स्थापित की। ऐसे राजनीतिक लौह पुरुषों में जहाँ कभी लालकृष्ण आडवाणी शामिल थे, वहीं आज नरेन्द्र मोदी तथा अमित शाह का नाम लिया जाता है, परंतु देश की राजधानी दिल्ली में सोमवार रात जो हुआ, उसने इन लौह पुरुषों को झकझोर दिया।

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी-BJP) की वरिष्ठ नेता और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के असामयिक निधन से जहाँ पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई, वहीं मंगलवार को जब भाजपा के दिग्गज नेता सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देने के लिए जंतर-मंतर स्थित उनके निवास पर पहुँचे, तो निष्प्राण सुषमा को देख उनकी आँखें नम हो गईं।

पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी सुषमा की निष्प्राण देह देख कर हतप्रभ नज़र आए। वे काफी देर तक सुषमा स्वराज की पार्थिव देह को डबडबाई आँखों से निहारते रहे और कुछ ही देर में उनकी आँखें आँसुओं से छलक गईं। आडवाणी के स्मृति पटल कदाचित सुषमा के साथ किए गए लम्बे राजनीतिक कामकाज का पूरा चित्र कौंध आया होगा। सुषमा का भाजपा में जब उदय हुआ, तब भाजपा के शीर्ष नेतृत्व में अटल बिहारी वाजपेयी, आडवाणी और डॉ. मुरली मनोहर जोशी हुआ करते थे। अटल-आडवाणी की छत्रछाया में ही सुषमा का राजनीतिक कैरियर बुलंदियों पर पहुँचा। अपने साये को यूँ जाते देख एक समय भाजपा के लौह पुरुष कहे जाने वाले आडवाणी का हृदय पिघल गया। बेटी प्रतिभा आडवाणी के साथ पहुँचे लालकृष्ण आडवाणी सुषमा के बहुत निकट रहे। एनडीए सरकार में आडवाणी के नेतृत्व में सुषमा ने काम किया। अपने निकटस्थ साथी के निधन पर आडवाणी भावुक हो गए, तो दूसरी तरफ प्रतिभा आडवाणी सुषमा की बेटी बाँसुरी से लिपट कर रोने लगीं।

सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि देने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष व गृह मंत्री अमित शाह सहित अनेक नेता पहुँचे, परंतु आडवाणी की तरह ही पीएम मोदी भी अपनी भावनाओं पर नियंत्रण नहीं रख सके। अपनी पूर्व सहयोगी की पार्थिव देह देख कर पीएम मोदी अत्यंत भावुक हो गए और उनकी आँखें डबडबा गईं। आँसू छलक गए। अत्यंत शोकपूर्ण वातावरण के बीच मोदी ने सुषमा की बेटी बाँसुरी स्वराज के सिर पर हाथ फेर कर उनका ढाढस बंधाया। कुछ यही स्थिति अमित शाह की भी थी। उन्होंने भी नम आँखों से सुषमा स्वराज को श्रद्धांजलि अर्पित की।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares