अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री का देश को संबोधन

Written by

नमस्कार !!

छठे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की आप सभी को बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का ये दिन एकजुटता का दिन है। ये विश्व बंधुत्व के संदेश का दिन है। ये Oneness of Humanness का दिन है। जो हमें जोड़े, साथ लाये वही तो योग है। जो दूरियों को खत्म करे, वही तो योग है।

कोरोना के इस संकट के दौरान दुनिया भर के लोगों का My Life – My Yoga वीडियो ब्लॉगिंग कंपटीशन में हिस्सा लेना, दिखाता है कि योग के प्रति उत्साह कितना बढ़ रहा है, कितना व्यापक है।

प्रधानमंत्री ने कहा इस साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की Theme Yoga at Home and Yoga with Family रखी गई है। आज हम सब सामूहिक कार्यक्रमों से दूर रहकर, घर में ही अपने परिवार के साथ मिलकर योग कर रहे हैं। बच्चे हो, बड़े हो, युवा हो, परिवार के बुजुर्ग हो, सभी जब एक साथ योग के माध्यम से जुडते हैं, तो पूरे घर में एक ऊर्जा का संचार होता है। इसलिए, इस बार का योग दिवस, अगर मैं दुसरे शब्दों में कहूँ भावनात्मक योग का भी दिन है, हमारी Family Bonding को भी बढ़ाने का दिन है।

कोरोना महामारी के कारण आज दुनिया योग की जरूरत को पहले से भी अधिक गंभीरता से महसूस कर रही है। अगर हमारी Immunity Strong हो तो हमें इस बीमारी को हराने में बहुत मदद मिलती है। Immunity को बढ़ाने के लिए योग की अनेक  विधियां हैं, अनेक प्रकार के आसन हैं। वो आसन ऐसे हैं जो हमारे शरीर की Strength को बढ़ाते हैं, हमारे Metabolism को शक्तिशाली करते हैं।

लेकिन Covid19 वायरस खासतौर पर हमारे श्वसन तंत्र, यानि कि Respiratory System पर Attack करता है। हमारे Respiratory System को Strong करने में जिससे सबसे ज्यादा मदद मिलती है वो है प्राणायाम, यानि कि Breathing Exercise सामान्य तौर पर अनुलोम विलोम प्राणायाम ही ज्यादा Popular है। ये काफी प्रभावी भी है। लेकिन प्राणायाम  के अनेक प्रकार है। इसमें शीतली, कपालभाति, भ्रामरी, भस्त्रिका, ये सब भी होते हैं।

योग की ये सभी विधाएं, ये तकनीक, हमारे Respiratory System और Immune System दोनों को मजबूत करने में बहुत मदद करती हैं। इसलिए आपसे मेरा विशेष आग्रह है आप प्राणायाम को अपने Daily अभ्यास में जरूर शामिल करिए और अनुलोम-विलोम के साथ ही अनेक प्राणायाम  Techniques को भी सीखिए, उसको सिद्ध कीजिये । योग की इन पद्धतियों का लाभ बड़ी संख्या में आज पूरी दुनिया में Covid19 Patients ले भी रहे हैं। योग की ताकत से उन्हें इस बीमारी को हराने में मदद मिल रही है।

योग से हमें वो आत्मविश्वास और मनोबल भी मिलता है जिससे हम संकटों से जूझ सकें, जीत सकें। योग से हमें मानसिक शांति मिलती है, संयम और सहनशक्ति भी मिलती है। स्वामी विवेकानंद कहते थे- “एक आदर्श व्यक्ति वो है जो नितांत निर्जन में भी क्रियाशील रहता है और अत्यधिक गतिशीलता में भी सम्पूर्ण शांति का अनुभव करता है”

किसी भी व्यक्ति के लिए ये एक बहुत बड़ी क्षमता होती है। जब बहुत ज्यादा विपरीत परिस्थिति हो, तब भी Active रहना, थककर हार न मानना, Balanced रहना, ये सारी चीज़ें योग के माध्यम से हमारे जीवन में स्थान प्राप्त करती है, हमारे जीवन को ताकत देती है। इसीलिए, आपने भी देखा होगा, महसूस किया होगा, योग का साधक कभी संकट में धैर्य नहीं खोता है।

योग का अर्थ ही है- ‘समत्वम् योग उच्यते’ अर्थात, अनुकूलता-प्रतिकूलता, सफलता-विफलता, सुख-संकट, हर परिस्थिति में समान रहने, अडिग रहने का नाम ही योग है।

प्रधानमंत्री ने संस्कृत के 3 श्लोकों से योग की अहमियत बताई

  • ‘गीता में भगवान कृष्ण ने योग की व्याख्या करते हुए कहा है- ‘योगः कर्मसु कौशलम्’ यानी कर्म की कुशलता ही योग है।’
  • ‘योग का अर्थ ही है- समत्वम् योग उच्यते। यानी अनुकूलता-प्रतिकूलता, सफलता-विफलता, सुख-संकट, हर परिस्थिति में समान रहने, अडिग रहने का नाम ही योग है।’
  • ‘युक्त आहार विहारस्य, युक्त चेष्टस्य कर्मसु। युक्त स्वप्ना-व-बोधस्य, योगो भवति दुखहा। यानी सही खान-पान, सही ढंग से खेल-कूद, सोने-जागने की सही आदतें और अपने काम, अपनी ड्यूटीको सही ढंग से करना ही योग है।’

जब हम योग से चलते हैं, कर्मयोग की भावना से चलते हैं, तो व्यक्ति के तौर पर, समाज के तौर पर, देश के तौर पर हमारी शक्ति भी कई गुना बढ़ जाती है। आज हमें इसी भावना से संकल्प लेना है- हम अपने स्वास्थ्य के लिए, अपनों के स्वास्थ्य के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। एक सजग नागरिक के रूप में हम परिवार और समाज के रूप में एकजुट होकर आगे बढ़ेंगे।

हम प्रयास करेंगे कि Yoga at Home and Yoga with Family को अपने जीवन का हिस्सा बनाएँ। अगर हम यह करेंगे तो हम ज़रूर सफल होंगे, हम ज़रूर विजयी होंगे। इसी विश्वास के साथ, आप सभी को फिर से योग दिवस की शुभकामनाएं।

लोकाः समस्ताः सुखिनो भवन्तु॥

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares