STAR WAR IN SIXTH PHASE : राजनीति, फिल्म और क्रिकेट जगत के दिग्गजों के चुनावी भविष्य का होगा फ़ैसला

लोकसभा चुनाव 2019 में छठा चरण सबसे दिलचस्प बन गया है, जिसके लिए 12 मई को मतदान होना है। छठे चरण में छह राज्यों की 59 सीटों पर मतदान होना है। इन 59 सीटों पर जो उम्मीदवार हैं, उनके कारण छठा चरण स्टार वॉर बन गया है, क्योंकि इस चरण में राजनीति जगत, बॉलीवुड-भोजपुरी फिल्म जगत और क्रिकेट जगत के स्टार चुनावी भाग्य आजमा रहे हैं।

12 मई को जिन 6 राज्यों की 59 सीटों पर मतदान होना है, उनमें दिल्ली की सभी 7, हरियाणा की सभी 10, बिहार की 8, झारखंड की 4, उत्तर प्रदेश की 14, मध्य प्रदेश की 8 और पश्चिम बंगाल की 8 सीटें शामिल हैं। हम आपको यहाँ बताएँगे कि छठे चरण में कौन-सी हॉट सीटे हैं, जहाँ स्टार वॉर छिड़ी है ? इन स्टार्स में राजनीति के धुरंधर खिलाड़ी और चार पूर्व मुख्यमंत्री भी शामिल हैं, जिनका चुनावी भाग्य कल इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) में कैद होना है।

दिल्ली

सबसे पहले बात दिल्ली राज्य की करते हैं, जहाँ सभी 7 सीटों पर रविवार को मतदान होने वाला है। वैसे तो दिल्ली सभी 7 सीटें हॉट सी हैं। दिल्ली की सभी 7 सीटों पर भाजपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आआप-AAP) के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है। उत्तर पूर्वी दिल्ली से पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित कांग्रेस उम्मीदवार हैं। शीला दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष भी हैं, परंतु उनका मुकाबला भाजपा प्रत्याशी और भोजपुर फिल्मों के स्टार निवर्तमान सांसद मनोज तिवारी से है। AAP ने दिलीप पाण्डेय को मैदान में उतारा है। पूर्वी दिल्ली से भाजपा ने क्रिकेट स्टार गौतम गंभीर को चुनाव मैदान में उतारा है, जिनका मुकाबला कांग्रेस के अरविंदर सिंह लवली व AAP की आतिशी मर्लेन से है, परंतु विश्लेषक मानते हैं कि यहाँ गंभीर और आतिशी के बीच सीधी टक्कर है। गंभीर को जहाँ क्रिकेट स्टारडम और स्थानीय होने का फायदा मिल सकता है, वहीं आतिशी पाँच वर्षों के पार्टी के कार्यों के आधार पर वोट मांग रही है। उत्तर पश्चिम दिल्ली से गायक हंसराज हंस भाजपा प्रत्याशी हैं। इसी प्रकार नई दिल्ली सीट से पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन चुनाव लड़ रहे हैं, तो भाजपा ने निवर्तमान सांसद मिनाक्षी लेखी और AAP ने बृजेश गोयल को टिकट दिया है।

उत्तर प्रदेश

सुतलानपुर में केन्द्रीय मंत्री मेनका गांधी ताल भाजपा प्रत्याशी हैं, जिनका मुकाबला कांग्रेस के संजय सिंह से हैं। 2014 में मेनका के पुत्र वरुण गांधी यहाँ से चुनाव जीते थे, परंतु इस बार भाजपा ने मेनका का चुनाव मैदान में उतारा। आज़मगढ़ में उत्तर प्रदेश की राजनीति के स्टार अखिलेश यादव और भोजपुर फिल्मों स्टार दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ के बीच है। सपा नेता अखिलेश के पिता मुलायम सिंह ने 2014 में मोदी लहर के बीच यहाँ से चुनाव जीता था, जबकि 2019 में अखिलेश पहली बार लोकसभा जाने के लिए आज़मगढ़ से मैदान में हैं, तो उन्हें रोकने के लिए भाजपा ने निरहुआ जैसे लोकप्रिय फिल्म स्टार को मैदान में उतारा है।

मध्य प्रदेश

गुना में कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया की प्रतिष्ठा दाँव पर लगी है। सिंधिया निवर्तमान सांसद हैं। भाजपा ने उस के. पी. यादव को उम्मीदवार बनाया है, जो कभी सिंधिया के करीबी और उनके सांसद प्रतिनिधि हुआ करते थे। साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के भाजपा प्रत्याशी बनते ही भोपाल हॉट सीट बन गई, जहाँ कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह चुनाव मैदान में हैं। भोपाल में इस बार हिन्दू आतंकवाद का मुद्दा छाया हुआ है। साध्वी और दिग्विजय के बीच काँटे की टक्कर है।

बिहार

सीवान लोकसभा सीट पर मुकाबला दो बाहुबलियों की पत्नियों के बीच है। एक तरफ मोहम्मद शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शाहब आरजेडी के उम्मीदवार हैं, तो दूसरी तरफ जेडीयू ने अजय सिंह की पत्नी कविता सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है। पूर्वी चंपारण लोकसभा सीट पर केन्द्रीय मंत्री राधामोहन सिंह भाजपा प्रत्याशी हैं। वे 1989 से अब तक पाँच बार यहाँ से सांसद चुने जा चुके हैं।

झारखंड

भाजपा की परम्परागत सीटों में एक धनबाद में दिलचस्प चुनावी मुकाबला होने जा रहा है, क्योंकि यहाँ कांग्रेस ने पूर्व भाजपा सांसद कीर्ति आज़ाद को टिकट दिया है, जबकि भाजपा ने पशुपतिनाथ सिंह को उम्मीदवार बनाया है। सिंह निवर्तमान सांसद हैं।

हरियाणा

सभी 10 सीटों पर त्रिकोणीय से लेकर चतुष्कोणीय मुकाबला है, क्योंकि चुनाव मैदान में भाजपा-शिरोमणि अकाली दल, AAP-जननायक जनता पार्टी (JJP), कांग्रेस और इंडियन नेशनल लोकदल (INL) के उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। सबसे हॉट सीट सोनीपत है, जहाँ पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा कांग्रेस प्रत्याशी हैं, जबकि भाजपा ने निवर्तमान सांसद रमेश कौशिक को मैदान में उतारा है, तो JJP ने अजय सिंह चौटाला के पुत्र दिग्विजय को मैदान में उतार कर मुकाबले को त्रिकोणीय व दिलचस्प बना दिया है।

पश्चिम बंगाल

छठे चरण में पश्चिम बंगाल में सबसे कठिन मुकाबला है। मुख्य टक्कर भाजपा और तृणमूल कांग्रेस (TMC) के बीच है। विष्णुपुर में गत विजेता टीएमसी सांसद सौमित्र खाँ को भाजपा ने उम्मीदवार हैं, वहीं टीएमसी ने श्याम सांत्रा के रूप में नया चेहरा पेश किया है। इसी प्रकार घटाल के निवर्तमान टीएमसी सांसद व बांग्ला फिल्मों के बिग स्टार दीपक अधिकारी उर्फ देव को चुनौती देने के लिए भाजपा ने ममता बैनर्जी की अत्यंत विशेष रही पूर्व आईपीएस अधिकारी भारती घोष को मैदान में उतारा है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष मेदिनीपुर से चुनाव लड़ रहे हैं, जिनके विरुद्ध टीएमसी ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मानस रंजन भुइयाँ को टिकट दिया है।

Leave a Reply

You may have missed