इसे कहते हैं LUCK : दुबई ने नहीं दी नौकरी, तो ख़रीद ली लॉटरी और लग गया 27 करोड़ का जैकपॉट !

Written by

अहमदाबाद, 4 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। कहते हैं कि जब ऊपर वाला देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है। हैदराबाद के एक किसान के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ, वह तो नौकरी की तलाश में दुबई गया था, जो नहीं मिलने पर स्वदेश लौट आया। हालाँकि उसके लौटने के डेढ़ महीने बाद उसे खबर मिली कि उसकी लॉटरी लग गई है और वो करोड़पति बन गया है।

तेलंगाना के किसान की खुली किस्मत

तेलंगाना राज्य के निजामाबाद जिले के जाकरनपल्ली गाँव निवासी विलास रिक्काला अपने गाँव में किसान के रूप में काम करते हैं और धान के खेतों में काम करके वार्षिक 3 लाख रुपये कमाते हैं। विलास रिक्काला के परिवार में पत्नी पद्मा और दो बेटियाँ हैं। अधिक पैसा कमाने के लिये दो साल पहले विलास रिक्काला परिवार समेत संयुक्त अरब अमीरात (UAE) गये थे। वहाँ दुबई में उन्होंने दो साल तक ड्राइवर की नौकरी की। यह नौकरी परिवार का गुजारा करने के लिये तो काफी थी, परंतु विलास और पैसा कमाना चाहता था, इसलिये वह यूएई की बड़ी-बड़ी लॉटरी के टिकट खरीदता रहता था और भाग्य आजमाता रहता था। हालाँकि यह नौकरी छूट जाने के बाद विलास को नई नौकरी नहीं मिली। इस दौरान भी विलास ने पत्नी पद्मा से 20 हजार रुपये उधार लेकर अबु धाबी में रहने वाले अपने एक दोस्त रवि को लॉटरी के टिकट खरीदने के लिये दिये थे। इसी बीच काफी प्रयासों के बाद भी जब दूसरी नौकरी नहीं मिली तो विलास रिक्काला परिवार समेत डेढ़ महीने पहले भारत लौट आया और यहाँ फिर से खेती का काम करने लगा।

40 लाख डॉलर यानी 27.86 करोड़ रुपये का लगा जैकपॉट

इसी बीच शनिवार को उसे संदेश मिला कि रवि ने उसके नाम से जो 3 टिकट खरीदे थे, उनमें से एक लॉटरी लग गई है और उसने 40 लाख डॉलर यानी 27.86 करोड़ रुपये जीत लिये हैं। दुबई के दी गल्फ न्यूज अखबार में प्रकाशित हुई रिपोर्ट के अनुसार अभी अपने गाँव में मौजूद विलास रिक्काला ने बिग टिकट लॉटरी में 15 मिलियन दिरहम यानी लगभग 40.08 लाख डॉलर का पहला इनाम जीता है। शनिवार को जब यह खबर विलास और उसके परिवार को मिली तो पूरा परिवार खुशी से झूम उठा।

डांगर की खेती करने वाला बन गया लाखों डॉलर का मालिक

कहते हैं कि किसकी किस्मत कब बदल जाए, यह किसी को पता नहीं होता है। सचमुच, विलास के साथ ऐसा ही हुआ है। उसने तो कल्पना भी नहीं की थी कि उसके साथ ऐसा कुछ हो सकता है। वह तो अपनी किस्मत को कोसते हुए नौकरी नहीं मिलने पर स्वदेश लौट आया था, परंतु उसे कहाँ पता था कि जिस दुबई में वह नौकरी तलाश रहा था, वही यूएई उसकी किस्मत तराशने वाला है। विलास की ज्यादा पैसे कमाने की तलाश अब खत्म हो गई है, उसे उम्मीदों से कहीं ज्यादा किस्मत ने दे दिया है। अब शीघ्र ही यह रकम आवश्यक कार्यवाही पूरी होने के बाद उसके अकाउंट में आ जाएगी। डांगर यानी धान के खेतों में काम करने वाला विलास अब लाखों डॉलर का मालिक बन गया है।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares