राष्ट्रपति ने बैंकिंग संशोधन अध्यादेश पर लगाई मुहर, अब RBI के दायरे में Co-operative Bank

Written by

नई दिल्ली, 27 जून,2020: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने Banking Regulation Amendment अध्यादेश 2020 पर मुहर लगा दी है। इस अध्यादेश पर राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद देशभर में करीब 1540 Co-operative Bank Reserve Bank of India (RBI) की निगरानी के दायरे में आ गए हैं। दरअसल आम जनता का जमा पैसे की सुरक्षा के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इस अध्यादेश को इसी हफ्ते मंजूरी दी थी।

वित्त मंत्रालय ने शनिवार को Tweet करके ये जानकारी दी है। Banking Regulation Amendment अध्यादेश 2020 पर राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद देशभर के करीब 1540 Co-operative Bank और Multi State Co-operative Bank RBI के दायरे में आ गए हैं।

इस अध्यादेश के जरिए Banking Regulation Act, 1949 में संशोधन किया गया है। इसके लागू होने से 8 करोड़ 60 लाख खाताधारकों की इन बैंकों में जमा राशि सुरक्षित होगी।

अध्यादेश के जरिए Banking Regulation Act  की धारा 45 में भी संशोधन किया गया है, ताकि आम जनता, जमाकर्ताओं एवं बैंकिंग प्रणाली के हितों की रक्षा करने और उचित प्रबंधन सुनिश्चित करने के लिए किसी बैंकिंग कंपनी के पुनर्गठन या विलय की योजना बनाई जा सके।

किसे कहा जाता है  Co-operative Bank

देश में खेती एवं ग्रामीण इलाकों के लिए साख-सुविधाएं उपलब्ध कराने वाले सहकारी बैंकों यानी Co-operative Banks की स्थापना राज्य सहकारी समिति अधिनियम के अनुसार की जाती है।

इनका Registration “Registrar of Co-operative Society के पास किया जाता है. Co-operative Bank के जरिए किसानों, कारीगर मजदूर या दुकानदार को कर्ज देतीं हैं. वहीं जिला सहकारी बैंक, राज्य सहकरी बैंक और भूमि विकास बैंक भी Co-operative Bank ही होते हैं।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares