शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 47 शिक्षकों को दिया राष्ट्रीय पुरस्कार

Written by

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य पर कहा कि शिक्षक ही सच्चे राष्ट्र निर्माता हैं जो प्रबुद्ध नागरिकों का विकास करने के लिए चरित्र निर्माण की मजबूत नींव हमारे बच्चों में डालते हैं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के वर्चुअल समारोह में अपने संबोधन में शनिवार को कहा कि शिक्षकों की वास्तविक सफलता विद्यार्थियों को अच्छा इंसान बनाना है जो तर्कसंगत विचार और कार्य करने में सक्षम हो, जिसमें करुणा, सहानुभूति, साहस और विवेक, रचनात्मकता, वैज्ञानिक चिंतन एवं नैतिक मूल्यों का समन्वय हो।

उन्होंने शिक्षकों की प्रतिबद्धता, योगदान और उत्कृष्टता के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि अच्छे भवन और उपकरण से स्कूल नहीं बनता है बल्कि शिक्षकों की निष्ठा और समर्पण से इसका निर्माण होता है।

इस समारोह में देश के विभिन राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 47 शिक्षकों को सम्मानित किया गया जिनमें 18 अध्यापिका हैं और दो शिक्षक दिव्यांग श्रेणी के हैं।

 कोविंद ने 47 शिक्षकों को दिया राष्ट्रीय पुरस्कार

कविता और कहानी से गणित पढ़ाने वाले सिक्किम के शिक्षक लोमस धुंगेल और 300 वीडियो बनाकर छात्रों को गणित समझाने वाले छिंदवाड़ा के मोहम्मद शाहिद समेत 47 शिक्षकों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज सुबह 11:00 बजे Video conferencing के जरिए इन शिक्षकों को सम्मानित किया। इनमें दो शिक्षक दिव्यांग श्रेणी के है। इनमें Ahmedabad के Blind School की शिक्षिका श्रीमती जोशी सुधा गौतम भाई और बिहार के बेगूसराय के दृष्टिहीन शिक्षक संत कुमार साहनी हैं। ये शिक्षक 36 राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों के अलावा 7 संगठनों के भी हैं। इनमें केंद्रीय विद्यालय, जवाहर नवोदय विद्यालय, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड एटॉमिक शिक्षा सोसाइटी आदि के भी शिक्षक शामिल है ।

राष्ट्रपति कोविंद ने शिक्षक दिवस के अवसर पर इन शिक्षकों को सम्मानित किया। इन शिक्षकों ने अपने स्कूलों में नवाचार का प्रयोग किया है और लड़कियों के लिए स्कूल बनाने, पर्यावरण को सुंदर बनाने तथा सूचना प्रौद्योगिकी का रचनात्मक इस्तेमाल स्कूलों में किया है।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares