‘पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर पर राजनीति करके दिखाएँ’ : राहुल को मिली चुनौती

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 24 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने और राज्य का पुनर्गठन किये जाने के बाद से ही प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस और अन्य ‘टुकड़े गैंग’ लगातार राजनीति करती आ रही है और जम्मू कश्मीर में सुरक्षा के लिहाज से लगाई गई पाबंदियों को लेकर विरोधी मोदी सरकार पर सवाल उठाते आ रहे हैं। इसी क्रम में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में 8 विपक्षी दलों के 11 नेता शनिवार को हालात का जायजा लेने के लिए कश्मीर की राजधानी श्रीनगर पहुँचे, परंतु सुरक्षा कारणों से पुलिस व सैन्य बलों ने उन्हें आगे जाने से रोक दिया, जिसके कारण उन्हें श्रीनगर हवाई अड्डे से ही बैरंग दिल्ली लौटना पड़ा। अब जम्मू कश्मीर पर राजनीति कर रहे राहुल और उनके सहयोगी विपक्षी दलों के दौरे पर सवाल उठने लगे हैं। इतना ही नहीं, राहुल एण्ड कंपनी को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर पर राजनीति करने की चुनौती भी मिल रही है।

राहुल की राजनीति को किसने दी चुनौती ?

अयोध्या मामले में मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के जम्मू कश्मीर दौरे पर सवाल उठाया है और उनसे पूछा है कि देश में अन्य जगहों पर कई तरह के मसले हैं, कांग्रेस के नेता वहाँ कभी क्यों नहीं जाते हैं ? इतना ही नहीं, इकबाल अंसारी ने तो राहुल गांधी और कांग्रेस से दो टूक यह भी सवाल पूछा है कि पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर भी भारत का अभिन्न अंग है, वहाँ जाकर राजनीति क्यों नहीं करते हैं ? इकबाल अंसारी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने ही कश्मीर में धारा 370 लगाकर 70 साल तक राजनीति की। अंसारी ने कहा कि देश के अन्य भागों में जनता का विभिन्न समस्याओं से बुरा हाल है। वहाँ जाकर कांग्रेस के नेता मसले हल क्यों नहीं करते ? राहुल गांधी और कांग्रेस को देश की इतनी ही चिंता है तो वे पाकिस्तान का दौरा क्यों नहीं करते और वहाँ जाकर पीओके का मसला हल करें। अंसारी ने कहा कि मोदी सरकार ने धारा 370 खत्म करके एक देश में एक कानून का राज स्थापित किया है और यह धारा खत्म होने से कश्मीरियों का भला ही हुआ है। उन्होंने कहा कि अभी तक इस धारा को लेकर जो लोग राजनीति करते आये हैं, उनके हाथ से मुद्दा छिन जाने से वह व्याकुल हो रहे हैं। अंसारी ने साफ-साफ यह भी कहा कि कश्मीर को लेकर कांग्रेस को राजनीति नहीं करनी चाहिये। अयोध्या में विवादित ढांचे के पक्षकार इकबाल अंसारी ने भारतीय मुसलमानों को वीर अब्दुल हमीद बताया और कहा कि देश के मुसलमान अपने देश के लिये पाकिस्तान से लड़ने को तैयार हैं, जो हमेशा भारत से मुँह की खाता रहा है। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि कांग्रेस कश्मीर को लेकर राजनीति कर रही है। अभी तक कांग्रेस ने कश्मीर से अपना फायदा ही उठाया है, परंतु अब उसकी राजनीति खत्म होने वाली है।

प्रशासन के रोकने के बावजूद क्यों गये कश्मीर ?

कश्मीर में शांति बनाये रखने के लिये और नागरिकों को जान माल का नुकसान न हो इसलिये वहाँ आतंकी और अलगाववादी गतिविधियों को रोकने तथा हिंसा भड़काने वाले बयानों, प्रदर्शनों को रोकने के लिये कुछ नेताओं को हिरासत में लिया गया है और सुरक्षा के कड़े प्रबंध किये गये हैं, जिनमें धीरे-धीरे हालात सामान्य होते देख पाबंदियों में ढील भी दी जा रही है। ऐसे में कांग्रेस समेत विपक्षी दल के नेताओं के जाने से माहौल बिगड़ सकता है, इसी संदेह से प्रशासन ने भी इन नेताओं को हाल के समय में दौरा नहीं करने की सलाह दी थी, इसके बावजूद यह नेता वहाँ पहुँचे तो उन्हें श्रीनगर एयरपोर्ट पर ही रोक दिया गया और वहीं से बैरंग लौटा दिया गया। अब ये नेता आरोप लगा रहे हैं कि उन्हें आगे इसलिये नहीं जाने दिया गया, क्योंकि सरकार के सामान्य स्थिति होने के दावे खोखले हैं। यदि इन नेताओं के आगे जाने से स्थिति बिगड़ती और इन नेताओं को ही कोई नुकसान होता तो इसकी जिम्मेदारी भी यह नेता सरकार के ही सिर थोपते, तब भी यह सरकार को ही निशाना बनाते, यानी हर हाल में विपक्षी नेता मोदी सरकार को नीचा दिखाने की कोशिशों में लगे हुए हैं।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares