इन 6 बैंकों के कर्जदारों के लिए आई खुशखबर : सस्ती हो जाएगी आपके होम-कार लोन की EMI

पूरे देश में लोकसभा चुनाव का माहौल गर्म है। हर राजनीतिक दल लोगों को लुभाने के लिये अपने घोषणापत्रों में तरह-तरह की योजनाओं का ऐलान कर रहे हैं। वह तो जब सत्ता में आयेंगे और अपने वादों पर अमल करेंगे या नहीं ? यह तो भविष्य में ही पता चलेगा, परंतु चुनाव से पहले उन लोगों के लिये खुश खबर आ गई है, जिन्होंने घर या वाहन के लिये बैंकों से कर्ज लिया हुआ है। भारतीय स्टेट बैंक (SBI) समेत छह बैंकों ने अपने कर्जदारों को राहत देने वाला कदम उठाया है। इन बैंकों ने होम लोन और कार लोन पर अलग-अलग अवधि के लोन पर ब्याज दरों में कटौती की है, जिससे आपके लोन की EMI थोड़ी कम हो जायेगी।

देश के सबसे बड़े स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया ने लोन की ब्याज दरों में 0.05 प्रतिशत की कटौती की है। एसबीआई ने संशोधित दर वाली 30 लाख रुपये तक की होम लोन पर ब्याज दर में 0.10 प्रतिशत की कटौती की है, जिससे अब नई दर 8.60 से 8.90 प्रतिशत होगी, जो अभी तक 8.70 से 9.00 प्रतिशत थी। एसबीआई ने लगभग डेढ़ साल बाद अपनी मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लैंडिंग रेट (MCLR) में कटौती की है। इससे पहले इस बैंक ने 2017 में एमसीएलआर में 0.05 प्रतिशत की कटौती की थी।

क्या होता है एमसीएलआर

मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लैंडिंग रेट वह दर होती है, जिसके हिसाब से बैंक लोन की ब्याज दरें तय करते हैं। इस दर के बढ़ने से होम और ऑटो लोन की ब्याज दर बढ़ती है और लोन महंगी हो जाती है, वहीं इसमें कटौती से लोन की ब्याज दर घटती है, जिससे लोन की ईएमआई घट जाती है। दरअसल, रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया (RBI) ने लगातार दूसरी बार रेपो रेट में कटौती की है, इसके बाद बैंकों पर एमसीएलआर या ब्याज दर में कटौती करने का दबाव बढ़ गया था। इसी कारण इन बैंकों को ब्याज दर में कटौती करनी पड़ी है।

एसबीआई से पहले इण्डियन ओवरसीज़ बैंक ने एक वर्ष की लोन पर एमसीएलआर में 0.05 प्रतिशत की कटौती की घोषणा की है। इस कटौती के बाद उसकी एमसीएलआर 8.70 से घटकर 8.65 प्रतिशत हो गई है, जबकि 2 और 3 वर्ष के कर्ज पर ब्याज दर घटकर 8.75 प्रतिशत और 8.85 प्रतिशत हो गई है।

बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने भी अपनी ब्याज दरों में 0.05 प्रतिशत की कटौती की घोषणा की है। इस बैंक ने एमसीएलआर 8.75 प्रतिशत से घटाकर 8.70 प्रतिशत कर दिया है। इसके अलावा बैंक ने 6, 3 और 1 महीने की ब्याज दर को घटाकर क्रमशः 8.50 प्रतिशत, 8.45 प्रतिशत और 8.25 प्रतिशत कर दिया है।

निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई बैंक ने भी 5 बेस प्वाइंट की कटौती की है। बैंक ने एक रात और एक महीने की अवधि वाली लोन की एमसीएलआर घटाकर 8.50 प्रतिशत कर दी है, जबकि 2 महीने की अवधि वाली लोन की एमसीएलआर 8.55 प्रतिशत, 6 महीने की 8.70 प्रतिशत और एक वर्ष की एमसीएलआर 8.75 प्रतिशत कर दी है।

निजी क्षेत्र के दो और बैंकों कोटक महिन्द्रा बैंक तथा एचडीएफसी बैंक ने अपनी एमसीएलआर में 10 बेस प्वाइंट की कटौती की है। इन बैंकों में अब एक वर्ष की अवधि के लिये एमसीएलआर क्रमशः 8.90 और 8.65 प्रतिशत हो गई है। कोटक महिन्द्रा बैंक ने 2 व 3 वर्ष की अवधि के लिये एमसीएलआर को 5 बेस प्वाइंट कम करके 9.00 प्रतिशत कर दिया है, जबकि एचडीएफसी बैंक ने 6, 3 और 1 महीने की एमसीएलआर को घटाकर 8.45 प्रतिशत, 8.35 प्रतिशत और 8.30 प्रतिशत कर दिया है।

Leave a Reply

You may have missed