अब JIO से खरीदिये पेट्रोल : विदेशी कंपनी के साथ मिलकर अंबाणी चलाएँगे पेट्रोल पंप

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 17 दिसंबर, 2019 (युवाPRESS)। रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड (RIL) के मुखिया मुकेश अंबाणी (MUKESH AMBANI) अब आरआईएल की सहायक कंपनी रिलायंस जियो (RELIANCE JIO) जो कि देश में मोबाइल, टेलीफोन, ब्रॉडबैण्ड और डिजिटल सेवाएँ प्रदान करती है, उसके माध्यम से पेट्रोल बेचने की तैयारी कर रहे हैं। इसके लिये अंबाणी ने एक विदेशी कंपनी के साथ मिल कर देश के हर शहर में पेट्रोल पंप शुरू करने की योजना बनाई है।

हर शहर में खुलेंगे JIO पेट्रोल पंप !

मुकेश अंबाणी की रिलायंस जियो और ब्रिटेन की एनर्जी कंपनी बीपी पीएलसी ने 51-49 प्रतिशत की भागीदारी से भारत के प्रत्येक शहर में पेट्रोल पंप शुरू करने का समझौता किया है। इस प्रकार अब शीघ्र ही देश के शहरों में JIO नाम के पेट्रोल पंपों का नेटवर्क देखने को मिलेगा।

रिलायंस जियो और बीपी ब्रांड के बीच हुए समझौते के अनुसार दोनों कंपनियाँ मिल कर भारत के शहरों में पेट्रोल पंपों की चेन शुरू करेंगी। अभी देश में रिलायंस के पेट्रोल पंपों की संख्या 1,400 है, जिसे इस विदेशी कंपनी के साथ मिल कर 5,500 तक ले जाने पर फोकस किया जाएगा। इसके लिये दोनों कंपनियाँ मिल कर एक संयुक्त उद्यम की स्थापना करेंगी।

रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के एक अधिकारी के अनुसार यह नया समझौता इससे पहले अगस्त में हुए शुरुआती समझौते से बिल्कुल अलग है। यह नया समझौता दोनों कंपनियों के लिये बाध्यकारी होगा और आवश्यक नियामकीय तथा अन्य स्वीकृतियाँ मिलने के बाद 2020 में जून के अंत तक संयुक्त उद्यम की स्थापना कर ली जाएगी। इसके बाद रिलायंस के अभी देश भर में जो लगभग 1,400 पेट्रोल पंप और कुछ हवाई अड्डों पर लगभग 30 विमान ईंधन स्टेशन हैं, उनका आरआईएल और बीपी का नया संयुक्त उद्यम अधिग्रहण कर लेगा। इसके बाद भविष्य में यह संयुक्त उद्यम इस नेटवर्क का विस्तार करने पर काम करेगा। इस समझौते के अनुसार संयुक्त उद्यम में आरआईएल की हिस्सेदारी 51 प्रतिशत और बीपी के हिस्से में 49 प्रतिशत शेयर होंगे। इसके लिये दोनों कंपनियाँ मिलकर एक जॉइंट वेंचर भी बनाएँगी।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले अगस्त में हुए समझौते के बाद आरआईएल की ओर से कहा गया था कि ब्रिटेन की एनर्जी कंपनी बीपी आरआईएल के वर्तमान पेट्रोल पंप कारोबार में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी के लिये 7,000 करोड़ रुपये का भुगतान करेगी। आरआईएल और बीपी के बीच 2011 के बाद से यह तीसरा संयुक्त उद्यम शुरू करने का समझौता हुआ है।

तेल और गैस के ब्लॉक में भी की है भागीदारी

इससे पहले 2011 में बीपी ने रिलायंस के 21 तेल और गैस के खोज और उत्पादन ब्लॉक में 30 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी थी। यह हिस्सेदारी 7.2 अरब डॉलर में खरीदी गई थी। इसी दौरान 50-50 हिस्सेदारी वाला एक अन्य संयुक्त उद्यम भी स्थापित किया गया था। इंडिया गैस सॉल्यूशंस नामक यह संयुक्त उद्यम भारत में गैस की प्राप्ति और विपणन के लिये बनाया गया है।

देश में हैं 66,408 पेट्रोल पंप

ज्ञात हो कि अभी देश भर में पेट्रोल पंपों की कुल संख्या लगभग 66,408 है, जिनमें से 59,831 पेट्रोल पंप सार्वजनिक कंपनियों के हैं। यह सार्वजनिक तेल विपणन कंपनियाँ भी अपने इस नेटवर्क को बढ़ा कर दुगुना करने की योजना पर काम कर रही हैं। इसके अलावा देश में एस्सार ऑयल के पास भी 5,453 पेट्रोल पंप हैं। यह कंपनी भी आगामी दो-तीन साल में इनकी संख्या बढ़ाकर 7,000 करने की योजना पर काम कर रही है।

Article Categories:
Indian Business · Investor · News

Comments are closed.

Shares