हड़ताल पर बैठे JDA BJMC के रेसिडेंट डाक्टरों ने दी चेतावनी- 5 बजे तक मांगे नहीं स्वीकारी गयी तो ओपीडी व इमरजैंसी सेवा होगी ठप्प

Written by

कोरोना महामारी में दिन रात अपनी जान की परवाह किये बिना लोगों की सेवा करने वाले रेसिडेंट डाक्टरों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर उतरे है। जिसके कारण अहमदाबाद सिविल अस्पताल में उपचार के लिए आने वाले मरीजों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। डाक्टरों की मांग है कि नीट पीजी 2021 काउन्सलिंग की प्रक्रिया में बार-बार बिलंब होने से रेसिडेन्ट डाक्टर्स की कमी को पूरा करने के लिए तत्काल स्तर पर नये रेसिडन्ट डोक्टर्स की भर्ती न हो तक तक नोन अकादमीक जुनियर रेसिडेन्ट डोक्टरर्स का आवंटन तथा नियुक्ति सिविल अधिक्षक के तहत अस्पताल में की जाये तथा इस मामले में अधिसूचना जारी करने के बाद उसी दिन लागू किया जाये। सीनियर डाक्टरों की ड्यूटी टाइम को बोन्डेड समय अनुसार गिना जाये। इस पद्धति को 2018 की बेंच पर्याप्त मंजूरी दी जाये। जिसके चलते कुशल चिकित्सक अस्पताल तथा जिला अस्पताल में मिल सके।

डाक्टरों के चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आज पांच बजे तक उनकी मांगों पर ध्यान नहीं जाता है तो ओपीडी व इमरजैंसी सेवा ठप्प हो जायेगी। रेसिडेंट डाक्टरों इससे दूर होंगे। आशा है कि सरकार कोरोना वोरियर्स के प्रश्नों पर विचार कर अमल करेगई।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares