अब ‘शंकर’ बोले POK पर होगी ‘जय’ : क्या मोदी सरकार 2.0 का अगला टारगेट यही है ?

Written by

विश्लेषण : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 17 सितंबर 2019 (युवाPRESS)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल ही में अपनी नई सरकार के 100 दिन पूरे किये हैं। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा था कि उनकी सरकार के 100 दिनों में जो काम हुए, वो तो बस ट्रेलर हैं, पूरी पिक्चर अभी बाकी है। आज पीएम मोदी के जन्म दिन पर ही विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने भी जो कुछ कहा, उससे तो यही संकेत मिल रहे हैं कि मोदी सरकार-2 का अगला लक्ष्य ‘पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) है।’ क्योंकि शंकर से पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी यही बात कह चुके हैं, जो मंगलवार को विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने दोहराई। इसके अलावा इन बयानों से यह भी अर्थघटन किया जा सकता है कि मोदी सरकार-2 के 100 दिनों में से 70 दिन में ही सरकार ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 का जो सफलतापूर्वक सफाया किया है, वह ट्रेलर मात्र था, तो इसका अर्थ यही हुआ कि मोदी सरकार-2 बृहद कश्मीर यानी पीओके सहित संपूर्ण कश्मीर के लक्ष्य पर ही काम कर रही है।

क्या कहा जयशंकर ने ?

मोदी सरकार-2 के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने मंगलवार को नई दिल्ली में बाकायदा पत्रकार परिषद आयोजित करके यह घोषणा की कि ‘पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर पर हमारी स्थिति स्पष्ट है और हमेशा रहेगी। पीओके भारत का हिस्सा है और हम उम्मीद करते हैं कि एक दिन हमारे पास इसका भौतिक अधिकार होगा।’ जयशंकर ने मोदी सरकार-2 में विदेश मंत्रालय की 100 दिन की उपलब्धियाँ गिनाते हुए पाकिस्तान को एक यूनिक चैलेंज भी बताया। उन्होंने कहा कि, ‘हमें एक पड़ोसी देश से यूनिक चैलेंज मिलता है।’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ तब तक रिश्ते ठीक नहीं होंगे, जब तक वह देश एक सामान्य पड़ोसी नहीं बन जाता और सीमा के उस पार आतंकवाद पर रोक नहीं लगाता। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ हमारा एक ही मुद्दा है, वह आतंकवादियों को समर्थन दे रहा है और इस नीति में बदलाव नहीं कर रहा है। वह खुलेआम अपने देश में पड़ोसी देशों के विरुद्ध आतंकवादियों को बढ़ावा देता है, इसलिये जब तक वह अपने यहाँ आतंक को खत्म नहीं करेगा, तब तक उससे कोई बातचीत नहीं होगी।

जयशंकर ने अमेरिका को भी दिया जवाब

जयशंकर ने अमेरिका को भी उस बयान के लिये दो टूक जवाब देते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाना भारत का आंतरिक मामला है और पीओके भारत का हिस्सा है तथा हमें उम्मीद है कि एक दिन उस पर हमारा अधिकार होगा। अमेरिका में रह रहे भारतीयों से मिलने के लिये पीएम मोदी 22 सितंबर को वहाँ जाने वाले हैं, जहाँ हाउड़ी मोदी कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी उनके साथ कार्यक्रम में शामिल होने वाले हैं। उससे पहले ट्रंप ने सोमवार को व्हाइट हाउस में एक सवाल के जवाब में बयान दिया था कि कश्मीर मामले में भारत पाकिस्तान के बीच तनाव घट रहा है और शीघ्र ही वह दोनों देशों के प्रधान मंत्रियों से मुलाकात करेंगे। ट्रंप भारत के पीएम मोदी से तो 22 सितंबर को ही मिलने वाले हैं, परंतु उन्होंने यह नहीं बताया कि वह पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से कब और कहाँ मिलेंगे। माना जा रहा है कि इसी महीने न्यूयॉर्क में होने वाले संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र से इतर वह पाकिस्तानी पीएम से मुलाकात कर सकते हैं।

पीएम मोदी भी कह चुके ‘100 दिन का काम मात्र ट्रेलर’

उल्लेखनीय है कि जयशंकर से पहले स्वयं पीएम मोदी ने उनकी दोबारा बनी सरकार के 100 दिन पूरे होने पर एक बयान में कहा था कि 100 दिन के भीतर उनकी सरकार ने जो काम कर दिखाए हैं, वह तो मात्र ट्रेलर हैं, पूरी पिक्चर अभी बाकी है। पीएम मोदी ने हालाँकि पीओके का नाम नहीं लिया, उनसे पहले उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू और उनसे भी पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पीओके को लेकर बयान दे चुके हैं।

पीओके को लेकर भयभीत है पाकिस्तान

इसके बाद पाकिस्तान के भी कान खड़े हो गये हैं और पीओके में पाकिस्तानी पीएम इमरान खान के दौरे बढ़ गये हैं। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद अभी तक 3 बार इमरान खान पीओके का दौरा कर चुके हैं। इससे पहले पीओके को लेकर उनमें इतनी उत्सुकता कभी नहीं देखी गई थी। इतना ही नहीं, पीओके को लेकर वह भारत को युद्ध की धमकियाँ भी दे रहे हैं, जो उनके डर को दर्शाता है।

पीओके में कश्मीर जैसी हलचल !

ज्ञात हो कि यह सारी हलचलें बिल्कुल वैसी ही हैं, जैसी जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने से पहले देखने को मिल रही थी। इस धारा को हटाने से पहले जम्मू कश्मीर में सैन्य बल की तैनाती बढ़ाने पर कश्मीरी नेताओं में भी ऐसी ही बेचैनी देखने को मिली थी और उनके मुँह से भी ‘धारा को हाथ भी लगाया तो कश्मीर जल उठेगा, कश्मीर भारत से अलग हो जाएगा’ जैसी गीदड़ भभकियाँ सुनने को मिली थी। इसलिये भी ऐसे कयास लगाये जा रहे हैं और राजनीतिक पंडित एक के बाद एक पीओके पर आ रहे बयानों के मायने निकाल रहे हैं।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares