दिल्ली में सीलिंग का असली विलेन कौन है?

Sealing issue in Delhi

सीलिंग (Sealing Issue) के विरोध में आज दिल्ली बंद

दिल्ली के व्यापारी आज सीलिंग के विरोध में आज बाजार को बंद रखेंगे। इसके साथ साथ वे दिल्ली में जगह जगर पर प्रदर्शन भी करेंगे। ऐसा बताया जा रहा है कि इस प्रदर्शन का साथ लगभग 2500 व्यापारी संगठन कर रहे हैं। ऐसाा कहा जा रहा है कि व्यापारी दिल्ली के कई जगह से शव यात्रा निकालेंगे और इस तरह से वे सीलिंग (Sealing Issue) का विरोध जताना चाहते हैं।

सीलिंग के विरोध को देखते हुए सभी राजनेतिक पार्टियां इसका फायदा उठाना चाहती है। अज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यदि इसका हल 31 मार्च तक नहीं निकला तो में भूख हड़ताल पर बैठूंगा। वही दूसरी ओर व्यापारी संगठन ने कहा है कि सरकार को सीलिंग को रोकने के लिए तुरंत कारवाई करनी चाहिए।

आम आदमी पार्टी ने बुलाई मीटिंग

सीलिंग को हल करने के लिए आम आदमी पार्टी ने ऑल पार्टी मीटिंग का आयोजन मंगलवार को किया है। दूसरी ओर BJP के दिल्ली अध्यक्ष मनोज तिवारी सिसोदिया के द्वारा किये गये ट्वीट पर भड़के हुए और कहा कि हम इस पार्टी मीटिंग में शामिल नहीं होंगे। बता दें कि सिसोदिया ने अपने ट्वीट में मनोज तिवारी के विदेश दौरे पर टिपणी की थी। BJP ने केजरीवाल वाल से कहा है कि पहले आप सुप्रीम कोर्ट की मॉनिटरिंग कमेटी से मिलकर बिना नोटिस के सीलिंग (Sealing issue) को विरोध दर्ज कराएं और साथ ही व्यापारियों का पक्ष रखने के लिए वकील करे। इसके बिना किसी भी बैठक करने का कोई फायदा नहीं।

व्यापारी संगठन ने गृह मंत्री से मुलेकात की

कुछ व्यापारी संगठनों ने नगर निगम मुख्यालय सिविक सेंटर का घेराव करने की बात भी कही। बता दे कि सोमवार को कन्फेडरशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल के साथ प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिले और सीलिंग की समस्यां में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया। इसके बाद गृह मंत्री ने उन्हे आश्वासन दिया की हमने Sealing Issue पर अपनी नजर बना रखी है और जल्द ही इसका समाधान किया जायेगा।

व्यापारी संगठन ने केंद्र सरकार से बात

व्यापारी संगठन ने केंद्र सरकार से कहा है कि सीलिंग से राहत दिलाने के लिए संसद के चालू सत्र में बिल लाकर इसका समाधान करें। दूसरी ओर मांग की कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 16 मार्च को होने वाले विधानसभा सत्र में सीलिंग पर रोक लगाने का बिल पास करें। अभी देखने में यह आ रहा है कि जितनी पार्टियां है वे अपने अपने फायदे के लिए कुछ न कुछ बयान दे रहे हैं जो कि गलत है। इन पार्टियों के बयान के वजह से दिल्ली के जनता ये समझ नहीं पा रही है कि सीलिंग के पीछे विलन कौन है। फिलहाल देखते है आगे होता क्या है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *