Sensex 35000 के पार, अभी Invest करना कितना सुरक्षित ?

Written by
Share market touch new height. Sensex crossed all time high 35860. Stock market, Sensex, Nifty, Stocks, Volatility, Liquidity, शेयर मार्केट,

22 जनवरी को Sensex 35000 के आंकड़े को पार कर 35860 पर बंद हुआ। वर्तमान में Share market अपने चरम पर है। बेहतर रिटर्न के लिए इंवेस्टर्स Equity market में पैसा उड़ेल रहे हैं। 2017 में Sensex में करीब 28.47 फीसदी का उछाल आया। रिटर्न की बात करें तो Income funds ने 3.97 फीसदी, Dynamic bond funds ने 2.37 फीसदी और Gold funds ने केवल 1.38 फीसदी का रिटर्न दिया। ऐसे में बड़ा सवाल उठता है कि क्या मार्केट का यह रूझान बना रहेगा? नए इंवेस्टर्स के लिए अभी शेयर मार्केट में एंट्री करना कितना ठीक रहेगा?

Share market की बदल सकती है स्थिति

Market experts का कहना है कि Share market जबरदस्त परफॉर्म कर रही है लेकिन स्थिति बदल सकती है। “Investors should not move all savings to stock”. Equity market में कैश फ्लो अगर अचानक से बढ़ता है तो Market volatility भी बढ़ जाती है। अभी ज्यादातर Stocks की कीमत अपने चरम पर है। इसलिए रिस्क ज्यादा है। ऐसे में अगर शेयर मार्केट में इंवेस्ट करना ही है तो Risk calculation को ध्यान में रखना जरूरी है।

First time investors की  बाढ़

Share market की वर्तमान स्थिति को लेकर Financial planners का कहना है कि 2017 में शेयर मार्केट करेक्शन को लेकर Strong indications नहीं होने के बावजूद इंवेस्टर्स ने पैसे उड़ेल दिए। ज्यादातर पैसे उन Stocks में लगाए गए हैं जो performing assets थे। Investors को भरोसा है कि मार्केट का हाल बरकरार रहेगा और उन्हें अच्छा रिटर्न मिलेगा। इसके अलावा मार्केट में first time investors की संख्या लगातार बढ़ रही है। First time investors की वजह से financial discipline को बरकरार रखना मुश्किल होता है क्योंकि नए इंवेस्टर्स ज्यादा इंतजार नहीं करना चाहते हैं। शेयर मार्केट जरा सा गोता लगाती है नए इंवेस्टर्स छिटकने लगते हैं।

लंबे समय तक Investment की सलाह

Financial planners इंवेस्टर्स को यही सलाह देते हैं कि आप Equity market में लंबे समय के लिए इंवेस्ट करें जिसके आपको बेहतर रिटर्न मिलेगा। लंबे समय तक इंवेस्टर्स के टिके रहने से financial discipline बरकरार रहती है और Market का ग्रोथ भी बेहतर होता है। जनवरी 2016 में Nifty का Price earnings ratio (PE) 19.86 था जो अभी 27.16 पर पहुंच चुका है। बात अगर Nifty Free Float Midcap Index Stocks की करें तो 2016 के शुरुआत में Price earnings ratio 24.96 था जो अभी बढ़ कर 53 को पार कर गया है।

अलग-अलग Stocks में करें इंवेस्ट

कुल मिलाकर आप अगर Share market में इंवेस्ट करने की सोच रहे हैं तो आप अलग-अलग Stocks में इंवेस्ट करें। इससे आपको बेहतर रिटर्न भी मिलेगा और आपका रिस्क बैलेंस्ड रहेगा। कुछ Stocks लांग टर्म में बेहतर रिटर्न देते हैं तो कुछ Stocks बहुत ज्यादा fluctuate होते हैं। Market experts के मुताबिक जिस portfolio का ups and downs कम होता है वह लांग टर्म में अच्छा रिटर्न देता है।

2027 में 1 लाख के पार होगा Sensex

हम बार-बार लांग टर्म का जिक्र कर रहे हैं। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि अगले 10 सालों में Share market का आकार क्या होगा। Morgan Stanley की रिपोर्ट के मुताबिक 2027 में शेयर मार्केट का आकार तीन गुना ज्यादा बड़ा होगा। Bullish case में Sensex 1.3 लाख के ऊपर भी जा सकता है। Morgan Stanley ने बेस फिगर 1 लाख रखा है।

Article Tags:
·
Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares