शेखर कपूर का BBC को ज़ोरदार तमाचा, ‘आप उत्तरी आयरलैण्ड को BOI क्यों नहीं कहते ?’

Written by

* भारत में 370 पर बच्चन-‘खान’दान मौन

* विदेशों में भारतीय मूल के लोग दे रहे साथ

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद 12 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। शेखर कपूर आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। विकीपीडिया के अनुसार शेखर कपूर ब्रिटिश फिल्म निर्माता-निर्देशक व अभिनेता हैं, परंतु मूल रूप से भारतीय हैं। वे रहते भले ही अमेरिका में न्यूयॉर्क स्थित न्यूयॉर्क शहर में, परंतु उनके सीने में एक सच्चा हिन्दुस्तानी दिल धड़कता है। यही कारण है कि यह हिन्दुस्तानी दिल बार-बार भारत विरोधी लोगों पर उबल पड़ता है।

हॉलीवुड से लेकर बॉलीवुड और टेलीवुड तक अपने फिल्म निर्माण, निर्देशन और अभिनय के जरिए छाप छोड़ने वाले शेखर अक्सर भारत के तथाकथित बुद्धिजीवियों को निशाने पर लेते रहते हैं, जो धर्मनिरपेक्षता या अपनी संकीर्ण बुद्धिजीवीता के नाम पर वाणी स्वतंत्रता और राष्ट्रवाद की पतली भेदरखा को समझ नहीं पाते। पिछले दिनों जावेद अख्तर के साथ ट्विटर पर भिड़ंत के बाद अब शेखर कपूर ने विश्वविख्यात समाचार संस्थान ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन (BBC) की ख़बर ले डाली।

दरअसल इन दिनों देश में जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने को लेकर बहस छिड़ी हुई है। देश का एक बड़ा वर्ग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार के इस निर्णय का स्वागत कर रहा है, वहीं कुछ मुट्ठी भर लोग अपने कुतर्कों से इस निर्णय का विरोध भी कर रहे हैं। इन सबके बीच एक वर्ग त्रिशंकु का भी है, जो आम तौर पर सोशल मीडिया पर ट्वीट पर ट्वीट करता रहता है, परंतु राष्ट्रहित से जुड़े इस मुद्दे पर एक शब्द भी बोलने से कतरा गया। ऐसे लोगों में सदी के महानायक अमिताभ बच्चन, खान बंधु यानी शाहरुख खान, आमिर खान और सलमान खान तथा कनाडाई नागरिक होने के बावजूद अक्सर देशभक्ति की भाषा बोलने वाले अक्षय कुमार शामिल हैं, जिन्होंने धारा 370 पर अपनी कोई राय नहीं रखी।

इन सबके बीच शेखर कपूर खुल कर मोदी सरकार के साथ खड़े दिखाई दिए। इतना ही नहीं, उन्होंने बीबीसी न्यूज़ चैनल पर ज़ोरदार दलील के साथ हमला भी बोल दिया। कपूर ने बीबीसी वर्ल्ड न्यूज़ चैनल की रिपोर्टिंग पर सवाल उठाए और उनसे पूछा कि आप लोग आयरलैण्ड को ब्रिटेन अधिकृत आयरलैण्ड (BOI) क्यों नहीं कहते। दरअसल बीबीसी न्यूज़ चैनल अपनी रिपोर्टिंग में भारत में स्थित जम्मू-कश्मीर को भारत अधिकृत कश्मीर (IOK) के रूप में संबोधित करता है और इसी तरह पाकिस्तान में स्थित कश्मीर को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) कहता है। शेखर कपूर ने 136 करोड़ भारतीयों की आवाज़ बन कर बीबीसी के विरुद्ध भारतीय जम्मू-कश्मीर को आईओके कहने पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई। शेखर ने ट्विटर पर लिखा, ‘जितनी बार भी आप कश्मीर को भारत अधिकृत कश्मीर कहते हैं, मैं काफी हैरान होता हूँ कि आप उत्तरी आयरलैण्ड को ब्रिटिश अधिकृत आयरलैम्ड कहने से क्यों कतराते हैं ?’

शेखर कपूर इतने पर नहीं रुके। उन्होंने पाकिस्तान को भी आड़े हाथ लेते हुए एक और ट्वीट कर लिखा, ‘मैं यह नहीं समझ पा रहा हूँ कि पाकिस्तान को ऐसा क्यों लगता है कि अनुच्छेद 370 के हटाए जाने से उसकी खुद की सुरक्षा को खतरा है ? क्या आप समझ पा रहे हैं ?’

कौन हैं शेखर कपूर ?

शेखर कपूर का जन्म 6 दिसम्बर, 1945 को अविभाजित भारत के पंजाब स्थित लाहौर में हुआ था। विभाजन के बाद उनका परिवार भारत में ही बसा। पिता कुलभूषण कपूर व माता शीलाकांता कपूर के पुत्र शेखर मशहूर फिल्म अभिनेता देवानंद के भांजे हैं। शेखर की तीन बहनें नीलू, अरुणा व सोहना कपूर हैं। शेखर ने प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली में ली। हिन्दी सिनेमा में आने से पहले शेखर ने 1970 के दशक में ब्रिटेन के लंदन में चार्टर्ड अकाउंटेंट काम किया। वे कई वर्षों तक लंदन में रहे। इसके बाद वे अमेरिका जा बसे। इस बीच उन्होंने 1975 में बॉलीवुड में जान हाज़िर हो से करियर सुरू किया। मासूम, मिस्टर इंडिया, जोशीले, दुश्मनी जैसी फिल्मों का निर्देशन भी उन्होने किया। 1997 में शेखर कपूर ने दस्यु सुंदरी फूलन देवी पर आधारित बैण्डिट क्वीन फिल्म का निर्देशन किया। इस फिल्म ने शेखर को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाई और वे हॉलीवुड पहुँच गए। उन्होंने हॉलीवुड फिल्म एलिज़ाबेथ का निर्देशन किया, जो ऑस्कर से सम्मानित की गई। 2007 में एलिज़ाबेथ द गोल्डन एज का भी निर्देशन उन्होंने किया। इन सबके बीच शेखर ने हॉलीवुड फिल्मों द फोर फीदर्स, न्यूयॉर्क आई लव यू और पैसेज का भी निर्देशन किया। शेखर कपूर ने टेलीविज़न की दुनिया में भी निर्देशन-अभिनय किया।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares