Shopian Firing Case: सेना के खिलाफ FIR कितना जायज ?

Written by
Shopian firing case reaches supreme court.

जम्मू। शोपियां में हुए मुठभेड़ (Shopian Firing Case) में सेना के अधिकारियों के खिलाफ दर्ज FIR के मामले में आरोपी मेजर के पिता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में FIR को रद्द करने की मांग की गई है। बता दें 27 जनवरी को सेना के मेजर और कुछ अन्य जवानों के खिलाफ मुफ्ती सरकार के आदेश पर FIR दर्ज की गई थी। सेना के अधिकारियों पर हत्या के संगीन आरोप लगाए गए हैं।

आरोपी मेजर के पिता ने दायर की याचिका

सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में 10 गढ़वाल राइफल के मेजर आदित्य कुमार के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल कर्मवीर सिंह ने कहा कि जो जवान सरहद की सुरक्षा में जान की बाजी लगा देते हैं उनके मनोबल की रक्षा की जाए। महबूबा मुफ्ती सरकार द्वारा लिए गए फैसले को लेकर लेफ्टिनेंट कर्नल कर्मवीर सिंह ने कहा कि जिस तरह इस मामले को सरकार ने राजनीतिक रंग दिया है उससे साफ पता चलता है कि जम्मू-कश्मीर के हालात बहुत बिगड़ चुके हैं।

पुलिस पर मनमाने तरीके से काम करने का आरोप

शोपियां फायरिंग केस मामले (Shopian Firing Case)  में बेटे पर लगे आरोपों को लेकर उन्होंने कहा कि पुलिस-प्रशासन ने इस मामले में मनमाने तरीके से काम किया है। जहां यह घटना हुई थी मौके पर उनका बेटा उस समय मौजूद नहीं था। सेना के तमाम जवान शांतिपूर्वक अपना काम कर रहे थे। भीड़ हिंसक हो चुकी थी और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया जा रहा था। बिगड़ते हालात के चलते सेना के जवानों ने मजबूरी में कार्रवाई की।

सेना के मनोबल को ना गिरने दे सरकार

सेना के काफिले को लेकर उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के आदेश पर सेना का काफिला गुजर रहा था। सेना के काफिले पर जब हिंसक भीड़ ने हमला कर दिया, उनपर पथराव हुआ तब जवाबी कार्रवाई में सैनिकों ने कमान संभाली। सेना के जवानों पर हमला एक साजिश के तहत उनके मनोबल को गिराने के मकसद से किया गया था।

स्वतंत्र एजेंसी से हो मामले की जांच

लेफ्टिनेंट कर्नल कर्मवीर सिंह ने कोर्ट में दर्ज याचिका में कहा कि जो लोग आतंकी गतिविधियों में संलिप्त हैं और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करते हैं, FIR उनके खिलाफ दर्ज होनी चाहिए। उन्होंने इस पूरे मामले की जांच जम्मू-कश्मीर के अलावा किसी दूसरे राज्य में स्वतंत्र जांच एजेंसियों से करवाने की मांग की है।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares