सुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक को दिया बड़ा झटका

Real Estate Company Unitech

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने रीयल एस्टेट कंपनी यूनिटेक (Real Estate Company Unitech) को बड़ा झटका दिया है। सुप्रीम कोर्ट एटेट कंपनी यूनिटेक को गैर-विवादित सम्मपति की नीलामी का आदेश देंगे ताकि फलैट खरीदारों को पैसा वापस किया जा सके। सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि एस्टेट कंपनी यूनिटेक अपने खरीदारों को धोका दिया है।

रीयल एस्टेट कंपनी यूनिटेक को गैर-विवादित सम्पत्ति और डायरेक्टर की व्यक्तिगत सम्पत्ति की सुप्रीम कोर्ट न लिस्ट देने को कहा है। सोमवार को कोर्ट ने जे एम फाइनैंस नाम की कंपनी पर 25 लाख रुपये का जुर्माना लगाया। जे एम फाइनैंस ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि वो यूनिटेक (Real Estate Company Unitech) का लोन चुकाएगा और लंबित प्रोजेक्ट को पूरा करेगा। इस कंपनी ने यूनिटेक से 400 करोड़ रुपए की जमीन के सौदे की बात कही थी। लेकिन सौदे को अंजाम नहीं दिया गया।

इस मामले की अगली सुनवाई सुप्रीम कोर्ट 26 मार्च को करेगा। पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक लिमिटेड को भारत और विदेश की सारी संपत्तियों का ब्योरा देने के लिए कहा था।

सारे 4,688 घर खरीददार यूनिटेक से 1,865 करोड़ रुपये के वापस का दावा कर रहे हैं। इन सभी खरीददारों ने कंपनी के कई सारे प्रोजेक्ट की इकाईयों को बुक किया था।

हांलांकि सुप्रीम कोर्ट में यूनिटेक लिमिटेड के खिलाफ दिल्ली-एनसीआर में कई परियोजनाओं को समय पर पूरा नहीं करने का मामला चल रहा है।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने जे एम फाइनेंसियल लिमिटेड के प्रबंध निदेशक को अगली सुनवाई पर अदालत में पेश होने के लिए कहा था। जबकि इससे पहले यूनिटेक ने पीठ को बताया था कि जेएम फाइनेंसियल लिमिटेड उसके हाउसिंग प्रोजेक्टस को फाइनेंस करना चाहती है। इससे पहले हुई सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट यूनिटेक लिमिटेड की चेन्नई स्थित दो भूखंड को खरीदने के लिए इच्छा जताने वाली ओमशक्ति एजेंसी को 31 मार्च तक 90 करोड़ रुपये जमा करने के लिए कहा था। Real Estate Company Unitech ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि 29 जनवरी को उसने ओमशक्ति एजेंसी से चेन्नई की दो जमीनों की बिक्री को लेकर 400 करोड़ का करार किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *