सूरत में अग्निकांडः 20 से अधिक विद्यार्थियों की मौत, कई विद्यार्थी चौथी मंजिल से कूदे, एक दर्जन से अधिक घायल : देखिए विचलित कर देने वाला VIDEO

Written by

मोदी-शाह-रूपाणी-राहुल ने जताया दुःख

राज्य सरकार ने दिए जाँच के आदेश

मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख की सहायता

सूरत, 24 मई, 2019। गुजरात के सूरत शहर में सरथाणा चुंगीनाका के पास स्थित तक्षशिला आर्केड नामक चार मंजिला बिल्डिंग के टॉप फ्लोर पर एक ट्यूशन क्लासिस में लगी भीषण आग में कम से कम 20 विद्यार्थियों की मृत्यु हो गई, वहीं 10 से अधिक विद्यार्थी घायल हुए हैं। इनमें से 2 से 3 विद्यार्थियों की हालत गंभीर बताई जा रही है।

राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, शिक्षा मंत्री भूपेन्द्रसिंह चूड़ास्मा और सूरत की भाजपा सांसद दर्शनाबेन जरदोश ने दुःख व्यक्त किया है। सीएम ने तत्काल प्रभाव से इस घटना की जाँच के आदेश दिये हैं। साथ ही मृतकों के परिवारजनों को 4-4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने के साथ ही घायल बालकों के उपचार की संपूर्ण जिम्मेदारी उठाने की घोषणा की है।

निवर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी घटना की जानकारी मिलते ही तुरंत राज्य के सीएम से फोन पर बात की और उनसे घटना की जानकारी प्राप्त की। निवर्तमान पीएम मोदी ने मृतकों के परिवारजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है और घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना की है।

खबरों के अनुसार कक्षा-10 और 12 विज्ञान संकाय के परिणाम घोषित होने के बाद इस इमारत के ग्राउंड फ्लोर पर स्थित ट्यूशन क्लासिस में लगभग 40 बच्चों को 10वीं और 12वीं के बाद आगे क्या करना चाहिये, इसके बारे में मार्गदर्शन दिया जा रहा था। इसी दौरान किसी कारण से बिल्डिंग में भीषण आग लगी, जिससे ग्राउंड फ्लोर पर मौजूद विद्यार्थी जान बचाने के लिए ऊपरी मंजिल पर भागे, लेकिन आग ऊपर तक फैल गई। ऊपर जाकर भी जब कोई रास्ता नहीं मिला, तो 10 से अधिक बच्चे टॉप फ्लोर से सीधे रोड पर कूद पड़े, जिससे अनेक विद्यार्थी गंभीर रूप से घायल हो गए। कुछ गंभीर रूप से घायल हो गये। इसके अलावा कम से कम 20 विद्यार्थियों की आग में झुलस जाने से स्थल पर ही मारे गये।

घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस आयुक्त व अन्य अधिकारी तथा राजनीतिक व्यक्ति तथा बच्चों के परिवारजन मौके पर पहुँच गये। घायलों को तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। जबकि बिल्डिंग में रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया। पुलिस ने बताया कि रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा हो गया है और लगभग 20 बालकों के शव बाहर निकाले गये हैं।

इस घटना के बाद बालकों के परिवारजनों में शोक के साथ गुस्सा है, वहीं इस बिल्डिंग में अग्निशामक साधनों का उपयोग नहीं किये जाने को लेकर महानगर पालिका के अधिकारियों पर सवाल उठाये जा रहे हैं और यह भी कहा जा रहा है कि यह ट्यूशन क्लासिस भी मान्य नहीं थी, जिसमें बड़ी संख्या में बालक आये थे। इसको लेकर भी जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारियों से सवाल पूछे जा रहे हैं।

देखिए विचलित कर देने वाला VIDEO :

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares