Tessy Thomas: ‘Missile Woman of India’

Tessy Thomas is called Agniputri as well Missile woman of India. She is first woman to head Indian missile project.

Tessy Thomas जिन्हें मिसाइल वुमन ऑफ इंडिया (Missile Woman of India) कहा जाता है अचानक से तब सुर्खियों में आईं जब आनंद महिंद्रा (Chairman of Anand Mahindra Group) ने Niti Aayog को ट्वीट कर कहा कि देश के सभी स्कूलों में Tessy Thomas की तस्वीर लगाई जानी चाहिए। आनंद महिंद्रा ने ट्वीट किया कि Tessy Thomas किसी भी बॉलीवुड स्टार से ज्यादा सक्षम महिला हैं जो Women empowerment की महान मिसाल हैं। टेसी थॉमस की कहानी सामाजिक रूढ़िवादी सोच को खत्म करेगा और लड़कियों को आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलेगी। आनंद महिंद्र के ट्वीट के जवाब में एक यूजर ने लिखा कि आप अपनी किसी SUV का नाम Tessy क्यों नहीं रख देते ? जवाब में आनंद महिंद्रा ने कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट (Vice President) विजय नाकरा को टैग करते हुए लिखा कि यह शानदान आइडिया है। TUV Tessy एडिशन कैसा रहेगा ? टेसी थॉमस  फिलहाल DRDO में Advance system lab की Director हैं। Agni-IV Missile project में वह बतौर Project Director काम कर चुकी हैं।

Tessy Thomas के बिना मिसाइल प्रोग्राम की चर्चा अधूरी

Tessy Thomas के बारे में जानना कई मायने में अहम है। Indian Missile Program की चर्चा Missile Woman, Tessy Thomas और Missile Man, Dr. APJ Abdul Kalam के बिना अधूरी रहेगी। अब्दुल कलाम के बारे में हर कोई जानता है लेकिन टेसी थॉमस के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। इस आर्टिकल में हम टेसी थॉमस की बचपन से लेकर अब तक के सफर के बारे बताएंगे।

जब एक ही दिन था IAS और DRDO का इंटरव्यू

Tessy Thomas का जन्म 1964 में केरल में हुआ। कालीकट यूनिवर्सिटी से उन्होंने B.Tech. की पढ़ाई की। B.Tech करने के बाद गाइडेड मिसाइल (Guided Missile) की पढ़ाई के लिए वो पूना यूनिवर्सिटी चली गईं। बाद में उन्होंने मिसाइल गाइडेंस में Phd की भी पढ़ाई की। IAS बनना हर किसी का ख्वाब होता है लेकिन Tessy के साथ अजीब वाकया हुआ। Written परीक्षा पास करने के बाद जब वह Interview की तैयारी कर रही थीं। संयोग से DRDO और IAS का Interview एक ही दिन था। ऐसे में उन्होंने DRDO के लिए इंटरव्यू देने का फैसला किया। Tessy Thomas 1988 में DRDO में शामिल हो गईं।

Ballistic missile के क्षेत्र में दुनिया भर में Tessy Thomas का डंका

DRDO ज्वाइन करने के बाद टेसी थॉमस बैलिस्टिक मिसाइल प्रोग्राम (Ballistic Missile Research Project) में काम करने लगी। Ballistic missile के लिए दुनिया भर में काम कर रही महिलाओं में Tessy Thomas का नाम सम्मान के साथ लिया जाता है। Agni missile बनाने में डॉ कलाम के साथ उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। Agni की सभी मिसाइलों के परीक्षण में टेसी का रोल अहम था। अग्नि के अलावा पृथ्वी, आकाश, नाग, धनुष, त्रिशूल और ब्रह्मोस जैसी मिसाइलों के डेवलपमेंट और टेस्टिंग में भी Tessy Thomas का बहुत बड़ा योगदान है। Agni missile की अपार सफलता के चलते उन्हें “अग्निपुत्री” भी कहा जाता है।

2009 में Agni-IV का Project Director बनीं Tessy Thomas 

2009 में उन्हें Agni-IV का Project Director बना दिया गया। उनके योगदान के चलते 2008 में DRDO ने उन्हें Scientist of the year चुना। 2011 और 2012 में Tessy Thomas को DRDO Performance Excellence Award से सम्मानित किया गया। 2009 में India Today Group ने उन्हें Women of the year चुना। 2012 में उन्हें Lal Bahadur Shastri National Award for Excellence in Public Administration से सम्मानित किया गया। उसी साल CNN-IBN ग्रुप ने भी उन्हें Indian of the Year चुना।

Tessy Thomas का जिंदगीनामा हर किसी के लिए प्रेरणा का स्रोत है।

Leave a Reply

You may have missed