विचित्र विडंबना : भारत में 80 करोड़ मोबाइल यूज़र्स, पर टॉप 10 कंपनियों में एक भी भारतीय नहीं !

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 3 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। महात्मा गांधी कहते थे कि स्वदेशी अपनाओ। हालाँकि आधुनिकता की अंधी दौड़ में शामिल हुए भारतीय महात्मा गांधी की छवि वाले रुपयों-पैसों को तो सलाम करते हैं, परंतु उनकी कही सत्य, अहिंसा और स्वदेशी अपनाओ की बातों को भुला चुके हैं और विदेशी वस्तुओं को उपयोग करने में गौरव का अनुभव करते हैं। इसी का एक दुष्परिणाम यह भी सामने आ रहा है कि आधुनिक भारत की 130 करोड़ से अधिक आबादी में से 80 करोड़ से अधिक लोग मोबाइल यूज़ करते हैं, परंतु विश्व की टॉप टेन मोबाइल कंपनियों में किसी भारतीय कंपनी को स्थान प्राप्त नहीं है।

यह हैं दुनिया की टॉप टेन मोबाइल कंपनियाँ

  1. सैमसंग : दक्षिण कोरिया की स्मार्ट फोन निर्माता कंपनी सैमसंग 21.3 प्रतिशत बिक्री के साथ दुनिया के स्मार्टफोन बाजार में नंबर वन की पॉजीशन पर है।
  2. ह्युआई : चीनी कंपनी ह्युआई 15.8 प्रतिशत स्मार्ट फोन की बिक्री के साथ 2019 की दूसरी तिमाही में दूसरे नंबर की दुनिया की सबसे बड़ी स्मार्ट फोन निर्माता कंपनी है।
  3. एप्पल : संयुक्त राज्य अमेरिका के केलिफोर्निया में स्थित एप्पल स्मार्टफोन निर्माता कंपनी इसी अवधि में 10.3 प्रतिशत सेलिंग के साथ दुनिया की तीसरे क्रम की सबसे बड़ी स्मार्ट फोन निर्माता कंपनी बन गई है।
  4. शाओमी : एक और चाइनीज़ कंपनी शाओमी दुनिया की टॉप टेन स्मार्ट फोन निर्माता कंपनियों की सूची में चौथे क्रम पर है, जिसकी दुनिया के स्मार्टफोन बाजार में 9 प्रतिशत की हिस्सेदारी रही।
  5. ओप्पो : इस लिस्ट में पांचवें क्रम पर भी चाइनीज़ कंपनी ओप्पो काबिज है, जिसने 2019 की दूसरी तिमाही में 8.1 प्रतिशत हिस्सेदारी दर्ज कराई है।
  6. विवो : छठे क्रम पर भी चाइनीज़ कंपनी ने जगह बनाई हुई है। चाइनीज़ स्मार्ट फोन निर्माता कंपनी विवो ने उपरोक्त अवधि में 7.5 प्रतिशत स्मार्ट फोन बेचे हैं।
  7. लिनोवो : सातवें क्रम पर भी चाइनीज़ स्मार्टफोन कंपनी का ही दबदबा है। लिनोवो कंपनी ने स्मार्ट फोन के वैश्विक बाजार में 6 प्रतिशत हिस्सेदारी दर्ज कराई है।
  8. एलजी : आठवें क्रम पर दक्षिण कोरिया की एक और कंपनी एलजी ने कब्जा किया है। वैसे तो एलजी का मार्केट डाउन चल रहा है। इसके बावजूद  वह टॉप टेन स्मार्ट फोन निर्माता कंपनियों में अपनी जगह बनाने में कामयाब रही है। एलजी कंपनी स्मार्ट फोन के वैश्विक बाजार में मात्र 2.2 प्रतिशत हैंड सेट्स बेचने में सफल हुई है।
  9. नोकिया : नौवें नंबर पर फिनलैंड की कंपनी नोकिया है। नोकिया वह कंपनी है, जिसने भारत में पहली बार मोबाइल क्रांति लाई थी, हालांकि अन्य कंपनियों का वर्चस्व बढ़ने के साथ-साथ यह कंपनी पीछे छूटती गई और भारत में नामशेष हो गई।
  10. रियलमी : जबकि इस सूची में अंतिम नाम रियलमी का दर्ज है। यह भी चाइनीज़ कंपनी है। वैश्विक स्मार्ट फोन बाजार में इस कंपनी ने 1.3 प्रतिशत हिस्सेदारी दर्ज कराई है। हालाँकि यह कंपनी काफी तेजी से ग्रोथ कर रही है।

इस प्रकार दुनिया की टॉप टेन कंपनियों की लिस्ट में चाइनीज़ कंपनियों का दबदबा है। लिस्ट में चीन की 6 कंपनियों ह्युआई, शाओमी, ओप्पो, विवो, लिनोवो और रियलमी ने जगह बनाई है। दूसरे क्रम पर दक्षिण कोरियाई कंपनियों का दबदबा देखने को मिलता है। इनमें सैमसंग और एलजी शामिल हैं। जबकि एक अमेरिकी कंपनी एप्पल और एक यूरोपीय कंपनी नोकिया लिस्ट में शामिल है।

भारत की स्मार्टफोन निर्माता कंपनियाँ

भारत की स्मार्ट फोन निर्माता कंपनियों में माइक्रोमैक्स, कार्बन मोबाइल, लावा इंटरनेशनल, सोलो (XOLO), इंटेक्स टेक्नोलॉजी, आई बॉल (I-BALL) मोबाइल, रिलायंस एलवाईएफ (LYF), स्पाइस टेलीकॉम और सेलकॉन कंपनियाँ प्रमुख हैं।

इनके अलावा जीवी (Jivi) मोबाइल, लूप मोबाइल, ज़िंक (Zync) ग्लोबल, क्रीओ (CREO), ओनिडा इलेक्ट्रोनिक्स, वीडियोकॉन मोबाइल्स, वाईयू (YU) टेलीवेंचर्स, रिलायंस जियो शामिल हैं। हालांकि इनमें कोई कंपनी दुनिया की टॉप टेन स्मार्ट फोन निर्माता कंपनियों की सूची में जगह बनाने में सफल नहीं हो पाईं, वजह यही है कि हम विदेशी ब्रांड्स की तरफ जल्दी आकर्षित हो जाते हैं।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares