क्या है Aadhaar Virtual ID ?, जानें कैसे करेगा काम

After Aadhaar data breach UIDAI introduces 16 digits Aadhaar virtual ID to protect data.

Aadhaar डेटा लीक की घटना के बाद एखबार फिर से Right to Privacy का मामला गर्मा गया है। पिछले साल Right to Privacy को Supreme Court ने मौलिक अधिकार बताया था। कोर्ट के फैसले के बाद से ही Aadhaar card को लेकर लगातार सवाल उठ रहे थे। आधार डेटा लीक की घटना के बाद UIDAI (Unique Identification Authority of India) ने वेरिफिकेशन के लिए Aadhaar Virtual ID जारी करने का फैसला किया है। वर्चुअल आईडी ऑप्शनल होगी। June 1, 2018 के बाद Aadhaar Virtual ID के जरिए सभी काम किए जा सकते हैं। UIDAI की वेबसाइट पर जाकर आप अपना वर्चुअल आईडी बना सकते हैं।

1 जून 2018 के बाद Virtual ID से होगा सारा काम

UIDAI की तरफ से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि June 1, 2018 के बाद Aadhaar होल्डर 12 नंबर के आधार नंबर की जगह वर्चुअल आईडी से वेरिफिकेशन करा सकते हैं। KYC के लिए भी Vitual ID का इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर कोई एजेंसी वर्चुअल आईडी को मानने से इंकार करता है तो उसके खिलाफ एक्शन लिया जाएगा। March 1, 2018 से आधार कार्ड होल्डर अपना वर्चुअल आईडी जेनरेट कर सकते हैं। वर्चुअल आईडी 16 डिजिट का होगा जिसे आप UIDAI की वेबसाइट पर जाकर जेनरेट कर सकते हैं। आधार होल्डर बार-बार Aadhaar Virtual ID जेनरेट कर सकते हैं। नई वर्चुअल आईडी जेनरेट होने पर पुरानी आईडी खुद-ब-खुद कैंसिल हो जाएगी। आपको बता दें कि Virtual ID बैक इंड पर आपके आधार से मैप होगी।

2 कैटेगरी में होगी सभी एजेंसियां

UIDAI के मुताबिक वर्चुअल आईडी सिमित KYC (Know Your Client) होगी। संबंधित एजेंसियों को भी आधार डिटेल्स तक पहुंच नहीं होगी। सारा काम वर्चुअल आईडी के जरिए होगा। UIDAI ने तमाम एजेंसियों को 2 कैटेगरी में बांटने का फैसला लिया है। लोकल एजेंसियों को सिमिति KYC की सुविधा मिलेगी जबकि International एजेंसियों को आधार नंबर के अलावा eKYC की भी सुविधा होगी।

119 करोड़ लोगों का Aadhaar

UIDAI के मुताबिक अब तक 119 करोड़ लोगों के आधार कार्ड जारी किए जा चुके हैं। Aadhaar card का दायरा बहुत ज्यादा फैल चुका है और सरकार तमाम योजनाओं को आधार से जोड़ रही है। धीरे-धीरे Aadhaar के साथ बैंक अकाउंट, PAN (Permanent Account Number) नंबर और मोबाइल नंबर को जोड़े जा रहे हैं।

500 रुपए में Aadhaar डेटा की जानकारी लीक

आधार अथॉरिटी की तरफ से यह फैसला आधार कार्ड डेटा लीक वाली घटना के बाद आई है। अंग्रेजी न्यूजपेपर “द ट्रिब्यून” के एक रिपोर्टर ने छापा कि 500 रुपए देकर 100 करोड़ लोगों की निजी जानकारी आपके पास होगी। रिपोर्टर के मुताबिक उसने 500 रुपए ऑनलाइन ट्रांसफर किया। कुछ देर बाद उसे गेटवे और अन्य जानकारी व्हाट्स एप के जरिए मिली। लॉगिन करने के बाद आप आधार कार्ड नंबर डालकर किसी के बारे में पूरी जानकारी हासिल कर सकते हैं। 300 रुपए और देने पर आप उस जानकारी की प्रिंट भी हासिल कर सकते हैं। न्यूजपेपर की रिपोर्ट के मुताबिक सारा काम सॉफ्टवेयर के जरिए किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed