संयुक्त राष्ट्र को यह सुनिश्चित करना होगा कि अफगानिस्तान की जर्जर स्थिति का इस्तेमाल आतंकवादी गतिविधियों के लिए न हो-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

Written by

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने विश्‍व समुदाय को आतंकवाद की चुनौतियों के प्रति सतर्क किया। प्रधानमंत्री ने कल शाम New York में United Nations General Assembly के 76वें सत्र को संबोधित किया। उनका संदेश आशा,सतर्कता और संकल्प-निष्‍ठा का संदेश था। प्रधानमंत्री ने कहा कि जो लोग आतंकवाद को राजनीतिक साधन के रूप में प्रयोग करते हैं उनके लिए भी आतंकवाद की दोधारी तलवार खतरा बन सकती है।
प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि यह सुनिश्‍चत करना होगा कि Afghanistan की धरती का उपयोग Terrorist Activities के लिये न हो। किसी भी देश का नाम लिये बिना उन्‍होंने कहा कि कुछ देश Afghanistan की जर्जर स्थिति को एक साधन की तरह उपयोग कर रहे हैं, जिसे रोका जाना होगा।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि महिलाओं, बच्‍चों और अल्‍पसंख्‍यकों को सहायता की आवश्यकता है। United Nations की प्रासंगिकता का उल्‍लेख करते हुए उन्होंने कहा कि इसका प्रभाव और विश्‍वसनीयता बढायी जानी चाहिए।
समुद्री सुरक्षा का उल्‍लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने नियम आधारित व्‍यवस्‍था पर बल दिया। उन्‍होंने कहा कि समुद्री संसाधनों का सदुपयोग किया जाना चाहिए। श्री मोदी ने विस्‍तार के जोखिमों के प्रति सतर्क रहने की चेतावनी दी।
भारत के covid देखभाल प्रयासों का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत न केवल इस चुनौती से निपटने में सफल रहा बल्कि‍ वह अब जरूरतमंद देशों को vaccine का निर्यात भी कर रहा है। उन्‍होंने Vaccine Manufacturers से भारत आने और यहाँ vaccine बनाने का आग्रह किया।
Technology की मदद से सरकारी योजनाएं और कार्यक्रम देश के हर व्यक्ति तक पहुंचने का उदाहरण देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने पूरे विश्‍व के समक्ष स्‍पष्‍ट कर दिया है कि यह दायित्व Democracy में संभव है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि यह भारत के लोकतंत्र की शक्ति है कि बिल्‍कुल साधारण पृष्‍ठभूमि का व्‍यक्ति भी, एक Railway station पर चाय बेचने से सफर करके देश का प्रधानमंत्री बन सकता है। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने अंत्‍योदय को एकीकृत समान विकास का माध्यम बताया।
प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारत में विश्‍व के सबसे बड़े Green Hydrogen Center को विकसित करने की भी घोषणा की।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares