रिसर्चर द्वारा चलाई गई गोली से चार स्टाफ की गई जानः- तुर्की यूनिवर्सिटी

Written by
University Firing

इस्तांबुलः- तुर्की के पश्चिमी शहर में स्थित एस्किसेहिर में एक University Firing में चार कर्मचारियों की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि हमलावर University का ही Researcher था। जिन्होंने अपने साथियों की जान ले ली। हांलांकि University of Sungaiji के Researcher इस हमलावर को हिरासत में ले लिया गया है। Researcher द्वारा दी गई इस गोलीबारी की अंजाम में उसकी गोली से जान गंवाने वालों में University के डिप्टी डीन, संकाय के सचिव और दो व्याख्याता शामिल हैं। जबकि इस गोलीबारी में तीन अन्य लोग भी घायल हो गए हैं। दरसल हमलावर को उसी University का Education Faculty का रिसर्चर बताया जा रहा है।

बता दें कि University Firing परिसर में गुरुवार की रोज हुई, जिसके बाद लोगों में दहशत फैली हुई है। डरे-सहमे University के कर्मचारी और छात्र परिसर में मुख्य प्रवेश द्वार एकत्र हो गए। उनके चेहरों पर डर साफ नजर आ रहा था। कुछ लोग रोते हुए नजर आए तो कुछ के चेहरे पर गोलीबारी में बच निकलने का संतोष था। लोग मोबाइल पर बात करते और अपने संबंधियों को आश्वबस्तन करते नजर आए कि वे सही-सलामत हैं। University Firing के तुरंत बाद घटनास्थरल पर कई एम्बुालेंस भेजे गए।

लिहाजा इस बात की अभी तक पुश्टी नहीं हो पाया है कि हमलावर ने गोलियां क्यों चलाईं। देखा जाए तो तुर्की में हाल के वर्षों में कई घातक हमले हुए हैं, जिसका आरोप कुर्द आतंकियों और जिहादियों पर लगाया गया है, पर यूनिवर्सिटी के रेक्टतर हसन गोनेन ने इस गोलीबारी के तार आतंकी वारदातों से जुड़े होने की आशंका से इनकार किया है। यह अंदेषा किया जा रहा है कि ऐसा लगता है कि हमलावर की दिमागी हालत ठीक नहीं थी। हमले के दौरान उसने यूनिवर्सिटी के कर्मचारियों को गालियां भी दीं। फिल्हाल मामले की जांच कराई जा रही है।

बहरहाल कुछ रिपोर्ट्स ने जानकारी देते हुए बताया कि हमलावर यूनिवर्सिटी स्टामफ से नाराज था। उसका आरोप था कि वे 2016 में यहां तख्तापलट की विफल कोशिश करने वालों में से थे, जिसका आरोप फतुल्लार गुलेन के समर्थकों पर है। जबकि गुलेन 2016 में तुर्की में हुए सैन्ये तख्तार पलट की विफल कोशिश के बाद से ही अमेरिका में निर्वासित जीवन जी रहे हैं। तुर्की की सरकार ने हालांकि उन पर तख्तो पलट की कोशिशों का आरोप लगाया है। लेकिनर गुलेन ने इन आरोपों से इनकार किया है।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares