जाने वैलेंटाइन्स डे का असली अर्थ – Valentines Day क्यों मनाया जाता है?

Written by
Valentines Day

नई दिल्ली: 14 फरवरी हर साल Valentines Day यानि की प्यार के रुप में मनाया जाता है। यह दिन केवल प्यार की नीशानी हीं नही बल्कि बिगडें रिशते को सुधारने का दिन है जिससे रिशते मजबुत होते हैं। देखा जाए तो प्यार और मोहब्बत करने के लिए कोई खास दिन नहीं होता है लेकिन फिर भी वेलेंटाइन डे का एक खास इतिहास है जिससे यह दिन प्यार करने वालों के लिए खास हो जाता है।

कहा जाता हैं कि, Valentines Day आज के Youth के लिये होता है जबकि यह दिन हर प्यार करने वाले के लिए होता है। चाहें वो मॉ-बाप हो, भाई-बहन, पति-पत्नी, या फिर प्रेमी-प्रेमीका ही क्यों न हो। हर कोई यह दिन अनेक-अनेक विशेष रुप से मनाते हैं। इस दिन कुछ लोग एक दूसरों को गिफ्ट देते हैं तो कुछ मॉल घुमने जाते हैं और एक दूसरों की जिंदगी में खुशियां बाटते हैं तथा अपने दिन को यादगार बनाते हैं।

सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि इस दिन कुछ बॉलिवुड सेलिब्रेटी मॉल, कॉलिज दारा, आयोजित ईवंटस में आकर अपनी फिल्म का प्रमोशन भी करते हैं। इन इवेंट्स में लोग उन्हें देखने जाते हैं, और जब सिंगर अरजित सिंह, मिलंद गाबा, प्रमेशवर वर्मा जैसी एनेक हस्ती मौजुद होती है, तो इनके गाने की गुंज सीधा दिल में जाकर ही उतरती है और 14 फरवरी Valentines Day के दिन में चार चॉद लगा जाता है।

प्यार की बात की जाये तो चलते हुऐ रुक जाना या फिर बैठे हुऐ सो जाना नहीं होता, बल्कि हर सुख-दुख में एक दूसरे की मजबुत डोर बनकर एक दूसरे का साथ निभाना होता है। यही प्यार की असली पहचान होती है। प्यार एक वह खूबसूरत एहसास है जिसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता। पहले की बात की जाये तो अधिकतर लोगों की मानसिकता के अनुसार केवल शादी-शूदा और पारिवारिक व्यक्तियों में ही प्यार हुआ करता था। अगर किसी प्रमी जोड़े को प्यार हो जाता था तो उसे, कभी अलग जाति, मांगलिक जैसे अन्य कारण की वजह से ऐक्सेप्ट नहीं किया जाता था। आज की स्थिति देखी जाऐ तो पहले के मुकाबले काफी सुधारी नजर आती है, लोगों की मानसिकता भी कुछ हद तक बदल गई है।

Article Tags:
· ·
Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares