हे भगवान ! ये कैसा ‘वायु’ है, जो सुखोने की बजाए ‘भिगो’ रहा है…

* पिछले डेढ़ महीनों से 41 से 45 डिग्री में तप रहा था गुजरात

* तापमान में गिरावट, पर उमस ने किया पसीना-पसीना

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद, 12 जून, 2019। अप्रैल के उत्तरार्ध से लेकर पूरा मई और यहाँ तक कि 10 जून तक यानी लगभग 50 से अधिक दिनों तक भीषण गर्मी और लू से दो-चार होने वाले गुजरात में मंगलवार से अचानक मौसम पलट गया है। हालाँकि यह मॉनसून की दस्तक नहीं है, बल्कि अरब सागर में उठे वायु चक्रवात के कारण हुआ है। वायु चक्रवात के कारण सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के कई क्षेत्रों में जहाँ मंगलवार से ही आंधी-तूफान के साथ बारिश का सिलसिला शुरू हुआ है, वहीं अहमदाबाद-गांधीनगर सहित समग्र राज्य में भीषण तपन से लोगों को राहत मिली है।

यद्यपि वायु चक्रवात के कारण राज्य के अधिकांश हिस्सों में दिन के तापमान में भारी गिरावट आई है और गर्मी, तपन और लू से लोगों को राहत मिली है, परंतु वायु के कारण ही लोग सूखने की बजाए भीग भी रहे हैं। कहने का तात्पर्य यह है कि वायु तूफान के चलते समुद्र से आ रही नमीयुक्त हवाओं ने राज्य के अधिकांश हिस्सों में उमस पैदा कर दी है। एक तरफ आसमान में बादलों के घेरे से बीच-बीच में झाँकते सूर्य की हल्की तपन, तो दूसरी तरफ वातावरण में नमी के कारण लोग पसीना-पसीना हो रहे हैं।

मौसम विभाग के अनुसार वायु के प्रभाव के कारण राज्य के अधिकांश हिस्सों में उमस भरा वातावरण है और लोग पसीना-पसीना हो रहे हैं। भरी दोपहरी में भी हवा में नमी की मात्रा बहुत बढ़ गई और तापमान 35 डिग्री के नीचे आ गया, जिसके चलते लोग उमस से पसीना-पसीना हो गए। हालाँकि जिन क्षेत्रों में वायु के असर से बारिश हो रही है या हुई है, वहाँ के लोगों को गर्मी से निश्चित रूप से राहत मिली है।

उल्लेखनीय है कि वायु चक्रवात अरब सागर में पैदा हुआ है। मौसम विभाग के अनुसार वायु गुरुवार सुबह तक गुजरात में वेरावळ-दीव के बीच समुद्री तट से टकराएगा। इससे पोरबंदर से महुवा, वेरावळ, कच्छ और दीव के तटवर्ती क्षेत्रों के प्रभावित होने की आशंका है।

वायु की वर्तमान स्थिति जानने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें

https://www.windy.com/-Embed-widget-on-page/widgets?9.362,68.203,3

Leave a Reply

You may have missed