नेटवर्क नहीं तो छात्र रोज़ पहाड़ पर चढ़कर लगा रहा Online classes, मदद को आगे आए सहवाग

Written by

Corona के चलते स्कूल बंद हैं। 4 महीनों से लगातार COVID-19 का कहर चल रहा है। ऐसे में कई स्कूलों ने Online Classes शुरू की है। लेकिन ग्रामीण इलाकों में यह एक बड़ा चैलेंज है, राजस्थान के बाड़मेर जिले के निकटवर्ती दरुड़ा गांव के भीलों की बस्ती निवासी छात्र हरीश कुमार के लिए Online classes परेशानी का सबब बन गई है। Online Class करने के लिए एक छात्र 2 Kilometer दूर पहाड़ों पर चढ़कर सुबह 8 बजे जाता है और कुर्सीटेबल लगाकर भरी दोपहर में 1 बजे तक पढ़ाई करता है। यह सब इसलिए क्योंकि घर में Network ही नहीं आता। छात्र की पढ़ाई के प्रति लगन को देखकर वीरेंद्र सहवाग ने ट्वीट कर मदद करने की बात कही है।

इसलिए रोज 2 किलोमीटर दूर पहाड़ों पर चढ़कर सुबह 8 बजे से 1 बजे तक 40 से 45 डिग्री के तापमान में अपनी Online Class Attend कर रहा है

इतनी बड़ी कठिनाई के बावजूद भी हरीश का मनोबल सातवें आसमान को देखते हुए विश्व के मशहूर Cricketer Virender Sehwag हरीश की मदद के लिए आगे आए हैं यह जानकारी Virender Sehwag ने Tweet के माध्यम से दी

हरीश बताता है कि गांव में Internet की Connectivity नहीं है लेकिन वह किसी भी हाल में अपनी कोई भी Class Miss नहीं करना चाहता इसलिए उसने यह सफर तय किया है दिक्कत तो बहुत है लेकिन हौसले पूरे बुलंद हैं हरीश बताता है कि मैं रोज सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक पहाड़ पर जाकर पढ़ाई करता हूं

हरीश के पिता वीरमदेव बताते हैं कि आज भी ग्रामीण इलाकों में Phone Connectivity नहीं है जिसके चलते वह शिक्षा से वंचित हैं ऐसे में सरकार को Online Education की व्यवस्था के लिए Internet Connectivity को दुरस्त करवाना चाहिए ताकि COVID-19 में भी ग्रामीण इलाकों के बच्चे पढ़ लिख सकें और शिक्षा से दूर न हो

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares