आखिर क्यों झूठा है F-16 पर अमेरिकी मैगज़ीन का दावा ? यह खबर पढ़ कर मोदी विरोधी टोली और पाकिस्तान की खुशी पर फिर जाएगा पानी !

Written by

राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर भी राजनीतिक करने से बाज़ नहीं आने वालों को अमेरिकी मैगज़ीन फॉरेन पॉलिसी ने एक दावा करके खुश होने का मौका दे दिया। एयर स्ट्राइक से भड़के और हमेशा भारत विरोधी एजेंडा चलाने वाले पाकिस्तान तथा भारत में एयर स्ट्राइक पर मोदी सरकार से सबूत मांगने वाले इस अमेरिकी पत्रिका के दावे से बहुत खुश हुए होंगे, परंतु इस दावे में जो झोल है, उसे जान कर पाकिस्तान और मोदी विरोधी टोली की खुशी पर ठंडा पानी फिर जाएगा।

दरअसल अमेरिकी पत्रिका फॉरेन पॉलिसी (FB) ने दावा किया था कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में AIR STRIKE के बाद हमले के इरादे आए पाकिस्तान के जिस F-16 विमान को मार गिराने का भारत ने दावा किया है, वह ग़लत है। एफबी के अनुसार पाकिस्तान के पास उपलब्ध एफ-16 विमानों की संख्या में कोई कमी नहीं आई है। हालाँकि इस दावे के कुछ ही घण्टों बाद भारतीय वायुसेना (IAF) ने यह कह कर साफ कर दिया कि हमारे पास एफ-16 विमान गिराने के पर्याप्त सबूत हैं। आईएएफ की स्पष्टता पर बाद में बात करेंगे, पहले बात करते हैं एफबी के झोल की।

खुश हो गया पाकिस्तान

अमेरिकी मैगज़ीन ने जैसे ही यह दावा किया कि भारत में मोदी विरोधी टोली खुश हो गई, तो पाकिस्तान भी अपनी खुशी छिपा नहीं सका। भारत की एयर स्ट्राइक और अपने विमानों पर भारतीय विमानों के घातक हमले से घबरा कर अचानक शांति की बातें करने वाले पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा, ‘अब समय आ गया है कि भारत सच्चाई सामने लाए।’ सवाल यह उठता है कि क्या गफूर को नहीं पता कि उनकी सेना में उपलब्ध एफ-16 विमानों की संख्या घटी है या नहीं ? दूसरी तरफ अमेरिकी मैगज़ीन की रिपोर्ट का झोल और झूठ देखिए। रिपोर्ट में दावा तो किया गया कि भारत ने एफ-16 विमान नहीं मार गिराया, परंतु यह भी स्वीकार किया गया कि पाकिस्तान में एफ-16 विमानों की गिनती करने गए दो अमेरिकी अधिकारी पाकिस्तान में जारी संघर्ष के चलते तुरंत सभी एफ-16 विमानों का निरीक्षण नहीं कर पाए। इसलिए इन अधिकारियों को सभी एफ-16 युद्धक विमानों की गिनती करने में कई हफ्ते लग गए। अब सोचिए कि ऐसी स्थिति में अमेरिकी मैगज़ीन के दावे को कैसे सही माना जा सकता है।

IAF ने भरी हुंकार, ‘हमने F-16 ही गिराया था’

इस बीच अमेरिकी मैगज़ीन के दावे को भारतीय वायुसेना ने सरासर झूठ करार दिया। आईएएफ ने कहा, ‘27 फरवरी को दो विमान नीचे गिरते देखे गए थे। एक विमान मिग-21 बाईसन था, जिसे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान संचालित कर रहे थे और दूसरा विमान 10 किलोमीटर की दूरी पर गिरा, वो पाकिस्तानी वायुसेना का विमान था। इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर में यह स्पष्ट पता चल रहा था कि यह विमान एफ-16 ही था। भारतीय वायुसेना ने अमराम मिसाइल के टुकड़े भी मीडिया के प्रस्तुत किए थे, जिन्हें एफ-16 विमान से ही लॉन्च किया जा सकता है।’ यह तो भारतीय वायुसेना का जवाब है, परंतु पाकिस्तान की कई मीडिया रिपोर्ट ने भी दावा किया किया गया था कि गिरने वाला विमान एफ-16 ही था। पाकिस्तान के एक जाने-माने वकील ने भी यही दावा किया था कि गिरने वाला विमान एफ-16 ही था।

Article Categories:
News

Leave a Reply

Shares