जानिए हर साल कितने इंजीनियर पैदा करता है भारत और कितनों को मिलता है रोजगार ?

Written by

रिपोर्ट : विनीत दुबे

अहमदाबाद, 15 सितंबर, 2019 (युवाPRESS)। भारत में हर साल 15 सितंबर को अभियंता दिवस यानी इंजीनियर्स डे मनाया जाता है। यह दिन भारत के महान इंजीनियर भारत रत्न मोक्षागुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म दिवस है और 15 सितंबर 2019 को उनकी 159वीं जयंती है। वह हैदराबाद शहर की बाढ़ सुरक्षा प्रणाली के मुख्य डिज़ाइनर थे और उन्होंने मैसूर के कृष्ण सागर बाँध के निर्माण में मुख्य अभियंता की भूमिका निभाई थी। परंतु क्या आप जानते हैं कि भारत में हर साल कितने लोग इंजीनियर बनकर कॉलेजों से निकलते हैं और उनमें से कितने लोगों को रोजगार मिलता है। आज हम इसी विषय पर रोशनी डालेंगे।

हर साल 15 लाख इंजीनियर पैदा करता है भारत

भारत में हर साल लगभग 15 लाख इंजीनियर कॉलेजों से डिग्री लेकर निकलते हैं। इतने इंजीनियर अमेरिका और चीन मिल कर भी पैदा नहीं करते हैं और भारत के इन इंजीनियरों की संख्या आइसलैंड की कुल आबादी से भी दुगुनी है। हालांकि ऑल इंडिया कौंसिल फॉर टेक्नीकल एजूकेशन (AICTE) के अनुसार इस वर्ष यानी 2019-20 में देश के 3,122 विश्व विद्यालयों और उनसे संबद्ध कॉलेजों में स्नातक और परास्नातक की 14,66,114 सीटों को दाखिले के लिये खोला गया है, जबकि पिछले साल यानी 2018-19 में 3,241 विश्व विद्यालयों व उनसे संबद्ध कॉलेजों ने 15,87,097 सीटें दाखिले के लिये खोली थीं। इस साल यूजी और पीजी इंजीनियरिंग संस्थानों की कुल सीटों में से 1.20 लाख सीटें घटा दी गई हैं। इंजीनियरिंग की कुछ स्ट्रीमों में हालाँकि कौंसिल ने 54,618 नई सीटों को भी मंजूरी दी है, परंतु कुछ स्ट्रीम्स को छोड़ कर कॉलेजों ने उन पाठ्यक्रमों के लिये कक्षाएँ जारी रखने से इनकार कर दिया है, जो अब माँग में नहीं हैं। इसलिये महाराष्ट्र सहित 6 राज्यों को तकनीकी शिक्षा निदेशालय ने एआईसीटीई से अनुरोध किया है कि उनके राज्यों में किसी भी नये संस्थान को मंजूरी न दी जाए। ज्ञात हो कि पिछले सत्र में इंजीनियरिंग संस्थानों में 49.30 प्रतिशत सीटें खाली रही थी। इसलिये दिसंबर-2018 में एक नव नियुक्त विशेष समिति ने नये इंजीनियरिंग कॉलेजों के एफिलिएशन पर दो साल का प्रतिबंध लगा दिया है, जो 2020 से शुरू होगा। 2020 के शैक्षणिक सत्र में नये इंजीनियरिंग कॉलेजों में बीटेक में दाखिले नहीं होंगे।

अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय बाजार में इंजीनियरिंग की माँग घटने से केन्द्रीय समिति ने अपनी रिपोर्ट में यह सिफारिश की है। ऐसे में पारंपरिक कोर्स मेकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, सिविल व इलेक्ट्रॉनिक्स के बजाय कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग, एयरोस्पेस तथा मेकाट्रॉनिक्स जैसे डिमांड वाले कोर्स की पढ़ाई पर जोर देने की बात कही जा रही है। साथ ही पारंपरिक कोर्स की सीटों को नये रोजगार देने वाले कोर्स से जोड़ने की भी सिफारिश की गई है। समिति ने हर दो वर्ष में इंजीनियरिंग के पाठ्यक्रम, परीक्षा व कोर्स को रिव्यू करने का भी सरकार को सुझाव दिया है। इतना ही नहीं, इंजीनियरिंग कॉलेजों में अब शिक्षक एमटेक के बाद सीधे पढ़ाई नहीं करवा सकेंगे। समिति ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करवाने वाले शिक्षकों को बीएड, यूजीसी-नेट की तर्ज पर एजूकेशन में डिग्री, सर्टिफिकेट या डिप्लोमा की पढ़ाई करवाने की भी सिफारिश की है।

भारत के 80 प्रतिशत इंजीनियर बेरोजगार

रोजगार का आकलन करने वाली कंपनी ‘एस्पायरिंग माइंड्स’ की रिपोर्ट के अनुसार देश के 80 प्रतिशत से भी अधिक भारतीय इंजीनियरों को नौकरी नहीं मिलती है और वह बेरोजगारी के शिकार हैं। कंपनी की यह रिपोर्ट भारत, अमेरिका और चीन के इंजीनियरिंग छात्रों पर की गई एक रिसर्च पर आधारित है। कंपनी की रिसर्च में बेरोजगार रह जाने का यह तथ्य सामने आया है कि इंजीनियरिंग संस्थानों से निकलने वाले छात्र रोजगार पाने के लिये तैयार नहीं होते हैं। कंपनियों की प्रायः यह शिकायत होती है कि उनमें रोजगार के लिये आवश्यक कुशलता और प्रतिभा नहीं है। रिपोर्ट के अनुसार 3.84 प्रतिशत इंजीनियरों के पास स्टार्ट-अप में सॉफ्टवेयर से सम्बंधित नौकरियों के लिये आवश्यक तकनीकी, संज्ञानात्मक और भाषाई स्किल होती है, जबकि मात्र 3 प्रतिशत इंजीनियरों के पास उन क्षेत्रों में नये-पुराने तकनीकी कौशल की जानकारी होती है, जो अब फलफूल रहे हैं। जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, डेटा साइंस और मोबाइल डेवलपमेंट। इस प्रकार मात्र 1.7 प्रतिशत इंजीनियरों के पास ही नये दौर की नौकरियों का काम करने के लिये आवश्यक कौशल होता है।

रिपोर्ट के अनुसार भारतीय इंजीनियरों के बेरोजगार रहने का एक और बड़ा कारण यह भी है कि केवल 40 प्रतिशत इंजीनियरिंग छात्र एक इंटर्नशिप करते हैं, जबकि मात्र 7 प्रतिशत छात्र ही कई इंटर्नशिप करते हैं। इंटर्नशिप की कमी के अलावा केवल 36 प्रतिशत इंजीनियरिंग छात्र ही अपने कोर्स से परे प्रोजेक्ट करते हैं। इस प्रकार वे विभिन्न स्थितियों में समस्याओं को हल करने के योग्य नहीं हो पाते हैं। इसके अलावा एक कारण यह भी कि कॉलेजों में बहुत ही सैद्धांतिक तरीके से इस विषय को पढ़ाया जाता है। रिपोर्ट के अनुसार भारत की तुलना में अमेरिका और चीन में 3 से 4 गुना अधिक इंजीनियर हैं।

Article Categories:
News

Comments are closed.

Shares