मिशन शक्ति : मोदी की गौरवपूर्ण घोषणा से कन्फ्यूज्ड राहुल क्या डॉ. शिव प्रसाद कोस्टा से समझ सकेंगे कि भारत ने अंतरिक्ष में कितनी बड़ी उपलब्धि हासिल की ?

Written by

भारत ने अंतरिक्ष में मिशन शक्ति के अंतर्गत लाइव सैटेलाइट को मार गिरा कर जो महान उपलब्धि हासिल की, वह देश की रक्षा के प्रति जागृत हर आम नागरिक से लेकर अंतरिक्ष क्षेत्र से जुड़े हर छोटे से छोटे शोधकर्ता-कार्यकर्ता से लेकर बडे से बड़े वैज्ञानिकों की समझ में आई और सभी को गर्व हुआ अपने देश और उसके सक्षम नेतृत्व पर, परंतु राजनीतिक दलों को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का चुनाव आचार संहिता के बीच यह गौरवशाली घोषणा करना रास नहीं आया।

सबसे ज्यादा बौखलाहट, अकुलाहट और असमंजस कांग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गांधी को हुई। कांग्रेस ने जहाँ एक तरफ भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम का श्रेय अपने पूर्वज प्रधानमंत्रियों जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी को देने में तनिक भी देर नहीं लगाई, वहीं राहुल गांधी कन्फ्यूज़़् नज़र आए। उन्होंने बचकाना ट्वीट कर रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) को मिशन शक्ति के लिए अभिनंदन देकर गंभीरता दिखाने का प्रयास तो किया, परंतु पीएम मोदी को लेकर ‘हैप्पी वर्ल्ड थियेटर डे’ ट्वीट करके राहुल अपनी राजनीतिक और राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति जागृति में अपरिपक्वता को छिपा नहीं पाए।

खैर, राहुल को मिशन शक्ति के रूप में भारत द्वारा हासिल की गई महानतम् उपलब्धि की बात पीएम मोदी के मुख से समझ में नहीं आई या उनकी ओछी राजनीतिक सोच ने उसे इसे समझने से जान-बूझ कर रोका, परंतु क्या राहुल गांधी महान वैज्ञानिक डॉ. शिव प्रसाद कोस्टा (डॉ. एस. पी. कोस्टा) के वक्तव्य के बाद यह समझ पाएँगे कि मिशन शक्ति किसी भी राजनीतिक मिशन से बहुत ही ऊपर है और यह देश की जल-थल-नभ ही नहीं, अपितु अंतरिक्ष में भी रक्षा से जुड़ी अत्यंत महत्वपूर्ण उपलब्धि है ?

चीन को कड़ा संदेश दिया भारत ने : कोस्टा

पहले तो ये बताते हैं कि डॉ. शिव प्रसाद कोस्टा हैं कौन ? शिव प्रसाद कोस्टा एक दिग्गज अंतरिक्ष वैज्ञानिक हैं। कोस्टा भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के अध्यक्ष रह चुके हैं। वे जबलपुर स्थित रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय (रादुविवि) के कुलपति के रूप में भी सेवा दे चुके हैं। संन्यास लेकर भगवा धारण कर चुके शिव प्रसाद कोस्टा वर्तमान में जबलपुर स्थित श्री राम इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के समूह निदेशक हैं।

मिशन शक्ति की सफलता पर एक अखबार से बातचीत करते हुए डॉ. शिव प्रसाद कोस्टा ने जो कहा, उससे राहुल सहित सभी मोदी विरोधियों की आँखें खुल जाएँगी। कोस्टा के अनुसार अब अपने दुश्मनों पर अंतरिक्ष के जरिए भी हमला कर सकता है। किसी देश के साथ युद्ध की स्थिति में यह उपलब्धि भारत को बड़ी सफलता दिलाएगी। डॉ. कोस्टा के अनुसार भारत ने मिशन शक्ति की सफलता के जरिए चीन को कड़ा संदेश दिया है, क्योंकि पाकिस्तान के पास ऐसी कोई शक्ति नहीं है। एशिया में भारत के दो शत्रुओं में अब तक चीन ही ऐसा है, जिसके बाद यह शक्ति थी, परंतु अब भारत का नाम भी इसमें शामिल हो गया है। मिशन शक्ति के जरिए भारत ने अपना नाम स्पेस पावर के रूप में दर्ज करा दिया है।

Article Categories:
News · Science · Technology

Leave a Reply

Shares