नागालैंडः 11 दलों ने क्यों किया चुनाव का बहिष्कार ?

11 political parties boycott nagaland assembly election including Congress and BJP.

कोहिमा। चुनाव से ठीक पहले नागालैंड की राजनीति ने दिलचस्प मोड़ लिया है। एक राजनीतिक घटनाक्रम में सत्तारूढ़ नगा पीपुल्स फ्रंट समेत 11 राजनीतिक दलों ने चुनाव (Nagaland Assembly Election) नहीं लड़ने का ऐलान किया है। नागालैंड में 27 फरवरी को चुनाव होने वाला है। चुनाव का बहिष्कार करने वालों में बीजेपी और कांग्रेस भी शामिल है।

11 राजनीतिक दलों ने चुनाव बहिष्कार का किया समर्थन

नगा लोगों की समस्याएं दशकों से लंबित है। चुनाव से पहले आदिवासी संगठनों और सामाजिक संगठनों ने समस्याओं के हल की मांग को प्रमुखता से उठाया जिसका 11 राजनीतिक दलों ने समर्थन किया है। सभी दलों के दस्तखत वाले घोषणापत्र में कहा गया कि नगा लोगों का मानना है कि नगा शांति समझौता चुनाव (Nagaland Assembly Election) से ज्यादा महत्वपूर्ण है और तमाम राजनीतिक दलों का भी यही मानना है। घोषणापत्र में कहा गया कि नागालैंड में अमन चैन स्थापित हो सके इसके लिए विधानसभा चुनाव को टालना जरूरी है।

2015 में हुआ था शांति समझौता को लेकर अग्रीमेंट

2015 में नगा समस्याओं को सुलझाने के मकसद से नई दिल्ली में केंद्र और नगा नागरिकों के बीच शांति समझौता के लिए फ्रेमवर्क अग्रीमेंट हुआ था। तीन साल के दौरान इस समझौते की दिशा में कोई काम नहीं हो पाया है जिसकी वजह से नगा लोगों में गुस्सा है। चुनाव ऐलान के बाद यह चर्चा फिर से गरमा गया है। नागालैंड के होहो आदिवासी और नागरिक संगठन की कोर कमेटी की बैठक बुलाई गई। इस बैठक में 11 राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि मौजूद रहे। बैठक में चुनाव बहिष्कार का फैसला सर्वसम्मति से लिया गया।

1998 में भी हुआ था चुनाव का बहिष्कार

इस बार नागालैंड में 13 वीं विधानसभा के लिए चुनाव होने वाले हैं। 27 फरवरी को नागालैंड के अलावा मेघालय में भी चुनाव होने वाला है। हालांकि चुनाव बहिष्कार से मुश्किलें बढ़ सकती है। यह पहली दफा नहीं है कि आदिवासी संगठन नगा होहो ने चुनाव का बहिष्कार किया हो। इससे पहले 1998 में भी Nagaland Assembly Election बहिष्कार की अपील की थी लेकिन कांग्रेस ने अंतिम मौके पर नामांकन दायर कर दिया। कांग्रेस उस वक्त सत्तारूढ़ पार्टी थी। कांग्रेस ने उस विधानसभा चुनाव में 60 में से 59 सीटों पर जीत दर्ज की थी।

इन राजनीतिक दलों ने किया बहिष्कार

11 राजनीतिक दल जिन्होंने चुनाव का बहिष्कार किया है उमें नगा पीपुल्स फ्रंट, कांग्रेस, बीजेपी, नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक पीपुल्स पार्टी, लोक जन पार्टी, जनता दल (यू),नगालैंड कांग्रेस, यूनाइटेड नगालैंड डेमोक्रेटिक पार्टी, आम आदमी पार्टी, नेशनल कांग्रेस पार्टी और नेशनल पीपुल्स पार्टी शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *