देश के इन 64 करोड़ लोगों मालामाल कर देगा मोदी का ‘भारतक्राफ्ट’, कहीं आप भी तो शामिल नहीं ?

Written by

रिपोर्ट : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद 22 अगस्त, 2019 (युवाPRESS)। नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ई-कॉमर्स व्यवसाय पर विशेष ध्यान दे रही है। इसी दिशा में मोदी सरकार अब एक ई-कॉमर्स पोर्टल खोलने जा रही है, जिससे सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यमियों (MSME) को ऑनलाइन बाज़ार उपलब्ध कराएगा। बड़ी-बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों की ऑनलाइन बाज़ार में भारी पैठ के कारण एमएसएमई उद्योगों से जुड़े उद्यमियों को कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में मोदी सरकार एमएसएमई उद्योगों के लिए BHARATCRAFT नामक ई-कॉमर्स पोर्टल खोलने की तैयारी कर रही है, जिससे एमएसएमई उद्यमी अपने उत्पादों को ऑनलाइन बेच सकेंगे।

मोदी सरकार गत जून महीने से ही एमएसएमई उद्यमियों के लिए अलीबाबा, अमेज़न, फ्लिकार्ट जैसा कोई ऑनलाइन पोर्टल खोलने की योजना पर काम कर रही थी। एमएसएमई सचिव अरुण कुमार पांडा ने कहा था कि इस संबंध में विश्व बैंक (WB), एशियाई विकास बैंक (ADB) और Kreditanstalt für Wiederaufbau विकास बैंक (KFWDB) के साथ बातचीत की गई, ताकि भारत सरकार के प्रस्तावित एमएसएमई प्रोडक्ट ऑनलाइन पोर्टल में वे निवेश कर सकें।

यहाँ उल्लेखनीय है कि देश में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों की संख्या क़रीब 64 करोड़ है। नवम्बर-2018 के आँकड़ों के अनुसार भारत में 63 करोड़ 5 लाख सूक्ष्म, 33 लाख लघु व 5 हजार मध्यम उद्योग कार्यरत् हैं। ऐसे में मोदी सरकार का भारतक्राफ्ट लगभग 64 करोड़ एसएमई उद्यमियों को मालामाल कर सकता है।

गडकरी ने कर दी घोषणा

मोदी सरकार का यह प्लान अब कागज़ से निकल कर ज़मीन पर उतरने जा रहा है। केन्द्रीय एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी ने एमएसएमई उद्यमियों के लिए केन्द्र सरकार का भारतक्राफ्ट पोर्टल पेश करने की घोषणा कर दी है। गडकरी ने राष्ट्रीय शेयर बाज़ार (NSE) के ‘EMERGE’ मंच पर 200वीं एसएमई कंपनी ‘WONDER FIBROMATS’ के सूचीबद्ध होने के अवसर पर घोषणा की कि भारतक्राफ्ट पोर्टल से दो से तीन वर्षों में ही लगभग 10 लाख करोड़ रुपए का राजस्व आने की आशा है। अलीबाबा और अमेज़न की तर्ज पर निर्मित भारतक्राफ्ट पोर्टल एमएसएमई कंपनियों को बाज़ार उपलब्ध कराएगा और उनके उत्पादों को बेचने में मदद करेगा।

एनएसई इमर्ज ने बनाया रिकॉर्ड

एनएसई के प्लेटफॉर्म एनएसई इमर्ज पर 200वीं एसएमई कंपनी वंडर फाइब्रोमैट्स के सचीबद्ध होते ही एक नया कीर्तिमान स्थापित हो गया। इस मौके पर बेल रिंगिंग समारोह आयोजित किया गया, जिसमें गडकरी ने भारतक्राफ्ट पोर्टल की घोषणा की। समारोह में एनएसई के प्रबंध निदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (MD & CEO) विक्रम लिमये भी उपस्थित थे। 200वीं एसएमई कंपनी सूचीबद्ध होते ही 2 एसएमई कंपनियाँ मध्य भारत एग्रो प्रोडकट्स् (Madhya Bharat Agro Products) और कृष्ण फोसकेम (Krishana Phoschem) एनएसई के मुख्य बोर्ड स्थानांतरित की गईं। इसके साथ ही मुख्य बोर्ड में जाने वाली कंपनियों की संख्या 22 हो गई। एनएसई पर सूचीबद्ध एसएमई कंपनियाँ 16 राज्यों में हैं।

क्या है एनएसई इमर्ज ?

एनएसई इमर्ज की शुरुआत वर्ष 2012 में हुई थी। सात वर्षों में ही एनएसई इमर्ज आज ग्लोबल रैंकिंग – वैकल्पिक व एसएमई बाज़ार में पाँचवें स्थान पर है। एनएसई इमर्ज की बाज़ार 3,100 करोड़ रुपए हो गई है।

Comments are closed.

Shares